देश

अपने अपने घरों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराकर फ़ासीवादी ताक़तों के ख़िलाफ़ संदेश दे : असदुद्दीन ओवैसी

एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि संशोधित नागरिकता क़ाननू केवल मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि सभी भारतीयों के लिए चिंता का विषय है और क़ानून के ख़िलाफ लगातार संघर्ष करना होगा।

हैदराबाद से सांसद ने शनिवार देर रात कहा कि मैं क्यों लाइन में खड़ा होकर अपने को भारतीय साबित करूं। मैंने इस धरती पर जन्म लिया है। मैं भारत का नागरिक हूं।

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सभी 100 करोड़ भारतीयों को नागरिकता का प्रमाण देने के लिए लाइनों में खड़ा होना पड़ेगा। यह केवल मुसलमानों का मुद्दा नहीं है बल्कि यह सभी भारतीयों के लिए चिंता का विषय है। मैं मोदी भक्तों से भी यह कह रहा हूं। तुम्हें भी लाइनों में खड़ा होना होगा और दस्तावेज़ लाने होंगे।

दारुस्सलाम में विभिन्न मुस्लिम समूहों की संस्था यूनाईटेड मुस्लिम एक्शन कमेटी द्वारा आयोजित एक बैठक में ओवैसी ने कहा कि भारतीय मुसलमानों ने बंटवारे के समय जेनाह के दो राष्ट्र के सिद्धांत को नकारते हुए भारत में रहने का निर्णय लिया था।

भाजपा के कई मुस्लिम राष्ट्र होने के दावे पर उन्होंने कहा कि हमारा उनसे क्या लेना देना है। उन्होंने कहा कि मुझे केवल भारत की चिंता है। ओवैसी ने कहा कि मैं अपनी इच्छा और जन्म से भारतीय हूं, अगर आप गोली चलाना चाहते हैं, चलाइए। आपकी गोलियां खत्म हो जाएंगी लेकिन भारत के लिए मेरा प्यार ख़त्म नहीं होगा। हमारी कोशिश देश को मारने की नहीं बल्कि बचाने की है।

ओवैसी ने कहा कि हमारा अभियान संविधान को बचाने के लिए है। हम सभी भारतीयों से अपील करते हैं जो सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ हैं रविवार को अपने अपने घरों पर राष्ट्रीय ध्वज फहराएं जो फासीवादी ताकतों के खिलाफ संदेश दे और कहे कि यह एक ऐसे व्यक्ति का घर है जिसे देश से प्यार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *