दुनिया

इराक़ : अमरीकी हवाई हमले में 25 स्वयं सेवियों की मौत, 51 घायल : इराक का ऐलान ‘बदला ज़रूर लिया जाएगा’ : report

अमरीकी ड्रोन विमानों ने सीरिया से लगी इराक़ी सीमा पर स्वयं सेवी बलों के ठिकानों पर हमला कर दिया जिसमें 25 स्वयं सेवी हताहत और 51 अन्य घायल हो गये।

पार्स टूडे की रिपोर्ट के अनुसार इराक़ी स्वयं सेवी बल के वरिष्ठ कमान्डर जवाद काज़िम अर्रबीआवी ने रविवार की रात बताया कि अमरीकी ड्रोन विमानों ने अंबार प्रांत में अलक़ायम सीमावर्ती शहर में स्वयं सेवी बलों के ठिकानों को निशाना बनाया जिसमें स्वयं सेवी बल के 25 जवान हताहत और 51 अन्य घायल हो गये।

इराक़ी राजनेताओं और सैन्य अधिकारियों ने इन हमलों की कड़े शब्दों में निंदा की है और इसे इराक़ी संप्रभुता का उल्लंघन क़रार दिया है।

ज़ायोनी शासन भी इससे पहले कई बार देश के विभिन्न क्षेत्रों में इराक़ी स्वयं सेवी बलों के ठिकानों को निशाना बना चुका है।


उधर यमन के अंसारुल्लाह आंदोलन ने इराक़ी स्वयं सेवी बलों पर हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए इसे इराक़ी राष्ट्र पर सीधा हमला क़रार दिया है।

यमन के जनांदोलन अंसारुल्लाह के बयान में आया है कि स्वयं सेवी बलों पर अमरीका का हमला, इराक़ी राष्ट्र पर सीधा हमला है। अंसारुल्लाह ने अरब और मुस्लिम देशों से इराक़ी सरकार और राष्ट्र का समर्थन करने की अपील की है।

दूसरी ओर अमरीका ने दावा किया है कि ड्रोन हमला उस स्थान पर किया गया जहां हथियारों का भंडारण किया जाता था।

पेन्टागन ने कहा है कि इराक़ में राकेट हमले के जवाब में एक अमरीकी एजेन्ट के मारे जाने के बाद यह हमले किए गये हैं।


पेन्टागन के प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा कि इराक़ी स्वयं सेवी बलों की ओर से कई बार हमलों के जवाब में अमरीकी सेना ने इराक़ और सीरिया में इराक़ी हिज़्बुल्लाह के पांच ठिकानों पर हमला किया।

बयान के अनुसार हमलों का उद्देश्य, स्वयं सेवी बलों की क्षमताओं को नुक़सान पहुंचाना था ताकि वह दोबारा हमले न कर सकें।

पेन्टागन ने कहा कि इराक़ में तीन और सीरिया में दो हमले किए गये। बयान के अनुसार हथियारों का भंडारण करने और हमलों की योजना बनाने के लिए प्रयोग होने वाले स्थानों को निशाना बनाया गया।

पेन्टागन के इस दावे की कि उसने सीरिया में भी हमला किया है अभी तक सी आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं हुई है।

स्वयं सेवी बलों पर हमला, पूरे इराक़ में क्रोध, बदला ज़रूर लिया जाएगा, अमरीकी दूतावास के कर्मी फ़रार

इराक़ में स्वयं सेवी बलों पर अमरीकी ड्रोन हमलों की पूरे देश में निंदा की जा रही है।

इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार इराक़ी राष्ट्रपति बरहम सालेह ने रविवार की रात हमले की निंदा करते हुए इससे इराक़ी संप्रभुता और अखंडता का उल्लंघन क़रार दिया।

इराक़ी प्रधानमंत्री आदिल अब्दुल महदी ने अमरीकी ड्रोन हमले के बाद तुरंत ही अमरीकी रक्षामंत्री को टेलीफ़ोन करके इस अंतर्राष्ट्रीय क़ानून के विरुद्ध कार्यवाही का ब्योरा देने की मांग की है।


इराक़ के वरिष्ठ राजनेता अम्मार हकीम ने एक बयान जारी करके हमले की निंदा की और इसे इराक़ी संप्रभुता का उल्लंघन क़रार दिया।

इराक़ी स्वयं सेवी बल के वरिष्ठ कमान्डर अबू महदी अलमुहन्दिस ने एक बयान में कहा कि शहीदों का ख़ून बर्बाद नहीं जाएगा और अमरीकी सैनिकों को करारा जवाब दिया जाएगा।

इराक़ी हिज़बुल्लाह ने भी एक बयान जारी करके इराक़ से अमरीकी सैनिकों के निष्कासन की मांग की है।

दूसरी ओर इराक़ी स्वयं सेवी बल की संभावित कार्यवाही के भय से अमरीका ने बग़दाद में स्थित अपने दूतावास के कर्मियों को शहर से निकाल कर दूसरे शहर पहुंचा दिया है।

अमरीका ने रविवार की रात बग़दाद दूतावास में काम करने वाले दसियों कर्मियों को दूसरे शहर पहुंचा दिया और दूतावास के ख़तरे के स्तर को बढ़ा दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *