देश

तमिलनाडु, पांच जनवरी को 3 हज़ार दलित लेंगे इस्लाम की शरण

तमिलनाडु के नादुर गांव में दलित समुदाय के कई लोगों ने भेदभाव का आरोप लगाते हुए इस्लाम धर्म स्वीकार करने की धमकी दी है।

इनमें कई लोग उन परिवारों से हैं जिनके 17 सदस्यों की हाल ही में एक दीवार गिरने की वजह से मौत हो गई थी। दलितों ने कहा है कि वे आने वाली पांच जनवरी को इस्लाम धर्म स्वीकार कर लेंगे।

द न्यूज़ मिनट की रिपोर्ट के अनुसार अनुसूचित जाति के लगभग 3 हज़ार लोगों ने इस्लाम धर्म स्वीकार करने की धमकी दी है। वे सभी दलित संगठन पुलिगल काची से जुड़े हुए हैं। वे सभी पांच जनवरी को कई चरणों में इस्लाम धर्म स्वीकार कर लेंगे।

इस्लाम धर्म अपनाने का निर्णय टीपीके द्वारा रविवार को मेट्टुपलायम में आयोजित एक बैठक में लिया गया है।

ज्ञात रहे कि तमिलनाडु में कोयम्बटूर के नज़दीक मेट्टुपलायम के नादुर गांव में दो दिसम्बर को एक ऊंची जाति के व्यक्ति द्वारा बनाई गई 20 फ़िट ऊंची दीवार भारी बारिश के कारण गिरने से 17 लोगों की मौत हो गई थी। वह दीवार दलितों के घरों के ऊपर गिरी थी। उस दीवार को शिव सुब्रमण्यम नाम के व्यक्ति ने ख़ुद के मकान को दलितों की बस्ती से अलग करने के लिए बनाया था।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार शिव सुब्रमण्यम ने दलितों के साथ भेदभाव करने के उद्देश्य से दीवार का निर्माण किया था। उस ऊंची दीवार को सहारा देने के लिए खंभे भी नहीं थे, उसने उस दीवार को अपने घर को पास में रहने वाले दलितों से अलग करने के लिए बनवाई थी

इलावेनिल आगे कहते हैं कि 17 दलितों की मौत के लिए ज़िम्मेदार शिव सुब्रमण्यम को 20 दिन में ज़मानत मिल जाती है और जो भेदभाव का विरोध करते हैं उन पर लाठीचार्ज की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *