देश

#नागरिक संशोधन विधेयक भारत को इस्राईल बना देगा : असदुद्दीन उवैसी की चेतावनी

भारत में आल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुसलेमीन के प्रमुख असदुद्दीन उवैसी ने केंद्रीय मंत्रीमंडल में पारित होने वाले नागरिक संशोधन विधेयक को देश के लिए ख़तरनाक बताते हुए कहा है कि यह भारत को इस्राईल बना देगा।

भारत के केंद्रीय मंत्रीमंडल ने बुधवार को नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) को स्वीकृति दे दी। इसमें पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफ़ग़निस्तान से भारत आए हिंदू, जैन, बौद्ध, सिख, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है जबकि मुस्लिम समुदाय को नागरिकता देने की बात नहीं कही गई है। विपक्षी दलों ने इस बिल का कड़ा विरोध करते हुए इसे भारतीय संविधान के ख़िलाफ़ बताया है। आल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुसलेमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन उवैसी ने इस बिल के संबंध में सरकार की नीयत पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा है कि नागरिकता (संशोधन) विधेयक लाने के पीछे की सरकार की मंशा है कि वह भारत को एक धर्म आधारित देश बना दे। उन्होंने कहा कि इस बिल के लागू होने के बाद भारत और इस्राईल में कोई अंतर नहीं रहेगा।

उवैसी ने कहा कि संविधान में धर्म के आधार पर नागरिकता देने की कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि इस तरह का क़ानून बनाने के बाद पूरी दुनिया में भारत का मज़ाक़ उड़ाया जाएगा। आल इंडिया मजलिसे इत्तेहादुल मुसलेमीन के प्रमुख ने कहा कि भाजपा सरकार भारत के मुसलमानों को संदेश देना चाहती है कि वे पहले दर्जे के नहीं बल्कि दूसरे दर्जे के नागरिक हैं। भारत के अन्य अहम दलों ने भी नागरिक संशोधन विधेयक का विरोध किया है। इस विधेयक को अगले सप्ताह संसद में पेश किए जाने की उम्मीद है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *