विशेष

#पाकिस्तान मे घूसकर मारने का दावा करने वाला आज #आसाम नही जा पा रहा है????BJP की क़माई 2,410 करोड़ हुई : रिपोर्ट

BJP की कमाई 135% बढ़कर हुई 2,410 करोड़, देश में मंदी है और बीजेपी के इनकम में तेज़ी, ऐसा क्यों ?

ऐसे समय में जब भारतीय अर्थव्यवस्था संकट के दौर से गुज़र रही है, तब सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की आय में ज़बरदस्त बढ़ोतरी दर्ज की गई है। 2018-19 में पार्टी की आय 135 फीसदी बढ़कर 2,410 करोड़ रुपए हो गई है। 2017-18 में बीजेपी की आय कुल 1,027 करोड़ थी।

अंग्रेज़ी अख़बार टाइम्स ऑफ इंडिया ने इस बात का खुलासा बीजेपी की वार्षिक रिपोर्ट के आधार पर किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2,410 करोड़ रुपए में बीजेपी ने 1,450 करोड़ रुपए चुनावी बॉन्ड के -ज़रिए हासिल किए हैं। जबकि 2017-18 में पार्टी को चुनावी बॉन्ड के ज़रिए महज़ 210 करोड़ रुपए हासिल हुए थे।

बीजेपी ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में दिखाया है कि पार्टी ने 2018-19 के लिए कुल खर्च 1,005 करोड़ रुपए किए हैं। जो कि पिछले साल के मुकाबले 32 फीसदी ज़्यादा है। 2017-18 में पार्टी ने 758 करोड़ रुपए ही खर्च किए थे।

इसके साथ ही 2018-19 में पार्टी ने प्रचार पर भी ज़्यादा खर्च किया है। पार्टी की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, 2018-19 में चुनाव और सामान्य प्रचार पर पार्टी ने 792.4 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। जबकि 2017-18 में यो खर्च 567 करोड़ रुपए था।

बता दें कि ये रिपोर्ट एनजीओ एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) द्वारा सात राष्ट्रीय दलों के कुल आय और व्यय का विश्लेषण करने के बाद तैयार की गई है। जैसा कि चुनाव आयोग को उनके आयकर रिटर्न में घोषित किया गया था।

अमित शाह CAA समझाने के लिए दिल्ली की गलियों में जा रहे हैं लेकिन असम नहीं जा रहे हैं, क्यों? : रवीश कुमार

नागरिकता क़ानून के पास होते ही गृहमंत्री अमित शाह को मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में दौरा करना पड़ा। क़ायदे से जहां से इस क़ानून की उत्पत्ति हुई है वहाँ जाकर लोगों को समझाना था मगर एक महीना हो गया ग़हमंत्री असम या पूर्वोत्तर के किसी राज्य में नहीं जा सके हैं।

अमित शाह दिल्ली के चुनावों में लाजपत नगर का दौरा कर रहे हैं लेकिन डिब्रूगढ़ जाकर लोगों को नागरिकता क़ानून नहीं समझा पा रहे हैं। मुख्यमंत्री से दिल्ली में मिल रहे हैं।

वैसे क्या आपको पता है कि 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद प्रधानमंत्री और गृहमंत्री दोनों की कश्मीर नहीं गए हैं। भाषण तो बड़ा दिया था कि कश्मीर के लोग हमारे हैं। हम गले लगाएँगे लेकिन अभी तक जाने का वक्त नहीं मिला।

वैसे प्रधानमंत्री मोदी असम भी नहीं जा पा रहे हैं। 15-16 दिसंबर को जापान के प्रधानमंत्री के साथ ईवेंट था। दौरा रद्द करना पड़ा। तब वहाँ नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध हो रहा था। वो एक महीने बाद तक हो रहा था जिसके कारण वे। आज शुक्रवार को खेलो इंडिया के उद्घाटन करने जाने वाले थे मगर नहीं जा सके।

तो एक महीने हो गए हैं भारत के प्रधानमंत्री और गृहमंत्री आठ राज्यों में नहीं जा पा रहे हैं। दोनों को इन सभी राज्यों में कहीं न कहीं जाकर इस धारणा को तोड़ना चाहिए कि असम और कश्मीर में उनके कदम का विरोध हो रहा है।

यही नहीं नागालैंड के नागा पिपल्स फ़्रंट NPF के राज्य सभा सांसद के जी केन्ये को पार्टी ने बर्खास्त कर दिया है। उन्होंने सदन में नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में वोट किया था। NPF के लोक सभा सांसद ने भी समर्थन में वोट किया था उन पर अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है।

नागरिकता संशोधन क़ानून में पश्चिमी देशों की आलोचना से बचने के लिए ईसाई को भी जोड़ा गया जबकि उनके भी बहुमत वाले कई देश है। लेकिन इसके बाद भी ईसाई समुदाय इस क़ानून की विभाजनकारी नीयत को समझ गया है। कर्नाटक में ईसाई समुदाय के कई नेताओं ने इस क़ानून का विरोध किया है। बंगलुरू के आर्कबिशप के नेतृत्व में प्रधानमंत्री को ज्ञापन दिया है। इसमें अपील की गई है कि धर्म के आधार पर नागरिकता न देख। ईसाई धर्मगुरुओं ने उन समुदायों के प्रति सहानुभूति जताई है जो इस क़ानून के कारण ख़ुद को अलग-थलग महसूस कर रहे हैं।

Ravita Punia
@ravita4ever

#पाकिस्तान मे घूसकर मारने का दावा करने वाला आज #आसाम नही जा पा रहा है..????

#CAA_NRC
#CAA_NRCProtests

Dr C P Rai
@cprai

आप आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे से उतर कर ज्यो ही नीचे आते है आप को सत्ता के विकास का एहसास हो जाता है
शकुन्तला मिश्रा विश्वविद्यालय वाले रास्ते पर आप का स्वागत गद्ढे ही करते है
और
बता देते है की प्रदेश भर मे क्या हाल है ।
और ये स्थिति काफी लम्बे समय से है ।

Disclaimer :TEESRI JUNG HINDI include views and opinions from across the entire spectrum, but by no means do we agree with everything we publish. Our efforts and editorial choices consistently underscore our authors’ right to the freedom of speech. However, it should be clear to all readers that individual authors are responsible for the information, ideas or opinions in their articles, and very often, these do not reflect the views of TEESRI JUNG HINDI. TEESRI JUNG HINDI does not assume any responsibility or liability for the views of authors whose work appears here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *