विशेष

मोदी-शाह को जो चाहिए वही होता दिखाई दे रहा है, देश संकट में है : ‘रंगा_बिल्ला के जैसी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की’ : रिपोर्ट

pics source : twitter/fb

दिल्ली में हुए जेएनयू छात्रों पर हमले को लेकर शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर हमला बोला है। हमला बोलते हुए शिवसेना ने यह आरोप लगाया कि जो वह चाहते थे, वह हो रहा है। शिवसेना ने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा, ‘इतनी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की।’ इसमें कहा कि भाजपा संशोधित नागरिकता कानून पर ‘हिंदू-मुस्लिम दंगे’ होते देखना चाहती थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। इसमें यह भी कहा गया कि चूंकि सीएए के मुद्दे पर भाजपा अलग-थलग पड़ गई, इसलिए अब कई चीजें ‘बदले की भावना’ से हो रही है।

देश के लिए खतरनाक है ‘विभानजकारी राजनीति’- शिवसेनाः जेएनयू के छात्रों पर हमले की तुलना 26/11 मुंबई हमले से करते हुए मंगलवार (07 जनवरी) को शिवसेना ने कहा कि ‘विभाजनकारी राजनीति’ देश के लिए खतरनाक है। संपादकीय में कहा गया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय का जेएनयू हमले के ‘अज्ञात’ हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज करने का फैसला हास्यास्पद है। इसमें कहा, ‘चेहरे पर नकाब ओढ़कर जेएनयू में प्रवेश करने वाले लोग अज्ञात नहीं हैं।’ गौरतलब है कि रविवार (05 जनवरी) को जेएनयू परिसर में नकाबपोश लोगों ने हमला किया था। इस हमले में 34 लोग घायल हो गए थे।

‘इतनी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की’- शिवसेनाः सामना में यह भी कहा गया, ‘विद्यापीठ और महाविद्यालयों को खून से लथपथ कर, विद्यार्थियों से मारपीट कर और उससे जली होली पर सत्ता की रोटी सेंकी जा रही है। इतनी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की है। ‘जेएनयू’ की हिंसा का विरोध देशभर में देखने को मिलने लगा है। मोदी-शाह को जो चाहिए, वही होता दिखाई दे रहा है। देश संकट में है!’

‘इतनी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की’- शिवसेनाः सामना में यह भी कहा गया, ‘विद्यापीठ और महाविद्यालयों को खून से लथपथ कर, विद्यार्थियों से मारपीट कर और उससे जली होली पर सत्ता की रोटी सेंकी जा रही है। इतनी गंदी राजनीति कभी किसी ने नहीं की है। ‘जेएनयू’ की हिंसा का विरोध देशभर में देखने को मिलने लगा है। मोदी-शाह को जो चाहिए, वही होता दिखाई दे रहा है। देश संकट में है!’

 

 

Sampat Saral
@Sampat_Saral

फैज़ की कविता समझने के लिए “उर्दू” की पढ़ाई लिखाई जरूरी नहीं, केवल “पढ़ाई लिखाई” जरूरी है।

·

Imran Pratapgarhi
@ShayarImran
हाकिम को इक चिट्ठी लिक्खो, सब के सब
और उसमे बस इतना लिखना, लानत है

इस से बढकर उस पर लानत क्या होगी
बोल रहा है बच्चा-बच्चा, लानत है !

जिस दीवार पे उसके वादे लिक्खे थे
हमने उसके नीचे लिक्खा, लानत है !
~वरुन आनन्द

sampat Saral
@Sampat_Saral
मोदीजी को पाकिस्तान के अल्पसंख्यकों की चिंता है और इमरान खान को हिन्दुस्तान के अल्पसंख्यकों की,

अर्थात अपने देश के अल्पसंख्यकों की चिंता किसी को नहीं है।

Arfa Khanum Sherwani
@khanumarfa
JNU में नक़ाबपोश हमलावरोें के कपड़ों से पहचानने में अगर प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को दिक़्क़त हो रही है तो क्या नारों से पहचान करना आसान होगा?
ये नारे हैं-
देश के ग़द्दारों को,गोली मारो सालों को!
जय श्रीराम!
नक्सलवाद की क़ब्र खुदेगी,JNU की धरती पर!
कौन लोग लगा सकते हैं ये नारे?

Munawwar Rana
@MunawwarRana
अगर दंगाइयों पर तेरा कोई बस नहीं चलता,
तो फिर सुन ले हुकूमत, हम तुझे नामर्द कहते हैं।

Agar dangaaiyo’n par tera koi bass nahi’n chalta,
Tou phir sun le hukumat, Hum tujhe naamard kehtey hain.

Munawwar Rana
@MunawwarRana
हमारे जैसे वफ़ादार कम ही निकलेंगे,
ज़मीन खोद के देखो तो हम ही निकलेंगे।

Humaare jaisey wafadaar kam hi niklenge,
Zameen khaud ke dekho tou Hum hi niklenge.

Kanhaiya Kumar
@kanhaiyakumar
मोटा भाई कह रहे हैं कि अंडा अलग है और मुर्ग़ी अलग। लेकिन ये बात छुपा रहे हैं कि इस NPR के अंडे से ही NRC की मुर्ग़ी बाहर निकलेगी। और TV वाले बहस करा रहे हैं कि पहले मुर्ग़ी आएगी या अंडा।

साहेब, ये पब्लिक है, सब जानती है। आप जनता को मूर्ख समझना बंद कर दीजिए।


Anurag Kashyap
@anuragkashyap72
चाचा हमारी और मोदी जी की फ़ंडिंग सेम सेम है। पता कर लो । बाक़ी – हम देखेंगे ।

Virendrasingh
@Virendr48640459
Replying to @anuragkashyap72
धारा 370 भी हट चुका है राम मंदिर पर फैसला भी आ चुका है
फिर भी हिंदुओं को समझ में नहीं आ रहा है के बीजेपी गुंडागर्दी नहीं देश की भलाई के लिए काम कर रही है
फिर भी अनुराग कश्यप ऐसे बयान देते रहेंगे तुम मतलब साफ है कि इनके फिल्मों की फंडिंग दुबई से हो रही है


Dushyant
@atti_cus
“Time to Stop Pretending All Is Fine”
“When students, teachers and peaceful civilians become victims of physical assault on an ongoing basis…We must look truth in the eye and acknowledge that we are a house at war with itself.”

Alia Bhatt

Vivek Tiwari
@Viv2511
Am surprised that the RSS, BJP & its affiliates instead of condemning the attacks on JNU students are criticising those who are standing up in support of the educational institution, its teachers & students.

It’s their own guilt which they are trying to hide.

Anurag Kashyap
@anuragkashyap72
बड़ी दिक़्क़त है लोगों को मेरे रतजगा से । निशाचर हूँ भई, यह मेरा लिखने का, काम करने का समय है। आजकल बस थोड़ा tweetiyata हूँ । क्या करें ? इतने सारे चुटकुले जो भक्त मुझे भेजते हैं , मज़ा आता है पढ़ने में। बेवक़ूफ़ियों के धनी जो हैं प्रधान सेवक के प्रधान भक्त । बाक़ी – हम देखेंगे।

ANI_HindiNews
@AHindinews

2012 के दिल्ली गैंगरेप मामले में कोर्ट के फैसले पर जी. किशन रेड्‌डी : न्याय के लिए लोगों का इंतजार आज खत्म हुआ। यह सिर्फ दोषियों को फांसी देने के बारे में नहीं है। इस निर्णय से पता चलता है कि ऐसे अपराधों के लिए जीरो टॉलेरेंस होना चाहिए और जल्द से जल्द फैसला सुनाया जाना चाहिए

ANI_HindiNews
@AHindinews

सुष्मिता देव, कांग्रेस: निर्भया को न्याय मिला है। निर्भया जैसे ओपन एंड शट मामले में 7 साल का समय लग सकता है, तो अन्य मामलों में क्या होता होगा, जहां सबूत स्पष्ट नहीं हैं? ऐसे मामलों में इतना समय क्यों लगता है। न्यायिक व्यवस्था में कुछ सुधार करने की जरूरत है।

ANI_HindiNews
@AHindinews

2012 के दिल्ली गैंगरेप पीड़िता के पिता बद्रीनाथ सिंह: मैं अदालत के फैसले से खुश हूं। दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी; इस फैसले से ऐसे अपराध करने वाले लोगों में डर पैदा होगा।

ANI_HindiNews
@AHindinews

दिल्ली महिला आयोग प्रमुख स्वाति मालीवाल:मैं इस फैसले का जोरदार स्वागत करती हैं। यह इस देश में रहने वाले सभी ‘निर्भया’ की जीत है।मैं निर्भया के माता-पिता को सलाम करती हूं, जिन्होंने 7 साल संघर्ष किया। इन लोगों को सजा देने में 7 साल क्यों लगे? इस अवधि को कम क्यों नहीं किया जा सकता?

Disclaimer :TEESRI JUNG HINDI include views and opinions from across the entire spectrum, but by no means do we agree with everything we publish. Our efforts and editorial choices consistently underscore our authors’ right to the freedom of speech. However, it should be clear to all readers that individual authors are responsible for the information, ideas or opinions in their articles, and very often, these do not reflect the views of TEESRI JUNG HINDI. TEESRI JUNG HINDI does not assume any responsibility or liability for the views of authors whose work appears here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *