विशेष

????जिनको तुम मंदिरों में घुसने नही देते…उस समाज के #चंद्रशेखर को हमने शाही जामा मस्ज़िद में सबसे ऊँची सीढ़ी पर खड़ा किया????

तालेबान की अमरीका को अस्थाई युद्ध विराम की पेशकश, अमरीका ख़ामोश

अफ़ग़ान तालेबान ने अमरीका को अफ़ग़ानिस्तान में 7 से 10 दिन के अस्थाई संघर्ष विराम की पेशकश कर दी।

एपी के अनुसार तालेबान अधिकारी ने बताया कि तालेबान की ओर से संघर्ष विराम की पेशकश के दस्तावेज़ क़तर में अफ़ग़ान शांति प्रक्रिया में अमरीका के प्रतिनिधि ज़लमई ख़लीलज़ाद के हवाले की गयी है।

ज़लमई ख़लीलज़ाद काफ़ी समय से तालेबान पर संघर्ष विराम के लिए बल दे रहे थे किन्तु त्वरित रूप से यह स्पष्ट नहीं कि तालेबान की इस पेशकश के बाद उनके और अमरीका के बीच वार्ता में प्रगति हो सकेगी या नहीं जिसका अंतिम लक्ष्य दोनों पक्षों के बीच शांति समझौता है।

तालेबान की इस पेशकश को शांति समझौते की ओर सकारात्मक क़दम के नये अवसर के रूप में देखा जा रहा है जिससे अफ़ग़ानिस्तान में 18 साल से जारी लंबे युद्ध की समाप्ति और वहां से अमरीकी सेना की वापसी संभव हो सकेगी।

अमरीकी विदेशमंत्रालय ने तालेबान की इस पेशकम पर त्वरित टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया है।

Chandra Shekhar Aazad
@BhimArmyChief
हमारे साथी होनहार स्कॉलर रोहित वेमुला शिक्षा जगत में छाए जातिवाद के शिकार हुए। मैं उनकी स्मृति को नमन करता हूँ। भीम आर्मी इस बात के लिए जान लड़ा देगी कि कोई रोहित वेमुला, कोई पायल तड़वी, कोई फातिमा लतीफ जातिवादी टीचर्स का शिकार न बने।

#द्रोणाचार्यों_का_नाश_हो

Yogita Bhayana
@yogitabhayana
क्रनॉलजि समझिए।

1 को फांसी का एलान हुआ हैं और 1 को ही केंद्र सरकार का बजट आने वाला हैं।

आर्थिक स्थिति सरकार की निचले स्तर पर हैं तो बजट ऐसे ही निराशा लेकर आएगा।

दिल्ली में चुनाव भी हैं।

अब खुद सोचिए, मीडिया क्या दिखाएगा? फांसी या सरकार का निराशा वाला बजट ?

शुभ रात्रि ????

बंगाल BJP अध्यक्ष ने कहा कि ‘प्रदर्शनकारियों को कुत्तों की तरह मारा.
आगे भी मारेंगे.’

यूपी के BJP नेता ने कहा कि ‘विरोध करोगे तो जिंदा दफना देंगे.’

जाहिर है कि इन पर न अब तक कोई कार्रवाई हुई,
न होगी.

अब मोदी और अमित शाह को देश भर की जनता के बीच मिस कॉल से वोटिंग करवा लेनी चाहिए कि वह कुत्ते की मौत मरना चाहेगी या जिंदा दफन होना चाहेगी?

भक्त इसी ‘न्यू इंडिया’ के लिए दुबले हुए जा रहे हैं जहां “कुत्ते की मौत मरो” या “दफना दिए जाओ.”

ऐसे ही जाहिल, बर्बर और हिंसक देश के लिए #भगतसिंह जैसे हजारों लोगों ने शहादत दी थी?

किस महापुरुष को ऐसा देश चाहिए?

Krishna Kant

Anuradha Patel अनुराधा पटेल ????????
@AnuradhaSKurmi
मैं हिन्दू हूँ और मैं शपथ लेती हूँ कि कट्टरवादी चाहे मुझे कितनी भी गालियां दें या मेरे धर्म को निशाना बनाये मगर मैं कभी भी मुसलमानों को गाली नही दूंगी ना ही अल्लाह, कुरान को बुरा भला कहूंगी।

हर मुस्लिम हमारा वतनी भाई/बहन है,
सदियों से हम साथ रहे हैंऔर हमेशा साथ ही रहना है।

Pinki Chaubey
@pinkichaubey
कल छी न्यूज़ बता रहा था, पाकिस्तान के पास प्याज़ खाने तक के पैसे नहीं,

आज कह रहा है CAA विरोधियों को पाकिस्तान पैसे दे रहा है…

ये पत्तलकार दलाली के लिए टीवी पर कुछ भी दिख सकते हैं… क्यों सहमत हैं ना आप….?

RT
@RT_com
#Taliban’s offer is seen as an opportunity to open a window to a peace deal for #Afghanistan that would allow US to bring home its troops & end the 18-year war

Pushpendra Kulshrestha
@Nationalist_Om
जब गंगा भी हमारी और जमुना भी हमारी तो ये गंगा जमुनी तहजीब का क्या मतलब है ?

इसका असली मतलब है बकरी और भेड़िये की सभ्यता और जब तक आप बकरी की तरह डर कर रहेगे तब तक जिहादी आपको भेड़िये की तरह नोचते रहेगे।

जिस दिन आप शेर बन जाओगे उस दिन सारे जिहादी कुत्ते की तरह दुबक कर बैठ जाएंगे।
Quote Tweet

Satish Kumar
@SatishKM16
@asadowaisi, भाड़ में गया गंगा जमुनी तहजीब, जो अपने सगों के सगे नही हुए, वो हिंदुओं के क्या सगे होंगे?

मक्कारी और अहसानफरामोशी मुसलमानों के रगों में दौड़ती है।
#ISupportCAA_NRC

@Real_Anuj @Nationalist_Om @Rittuu2 @ArunRajanBajpai @Real_Atul1 @VictoriousNamo @PrayagrajWale

Trishthi Sharma
@Trishthi_Sharma
बाप से पूँछा शफकत बोली

भाईयों से पूँछा गै़रत बोली

बहनों से पूँछा असमत बोली

है हक हमारा आज़ादी

ये लफ्ज़ प्यारा आज़ादी

तू कैंसे न देगा आज़ादी

तेरा बाप भी देगा आज़ादी

हम लेकर रहेंगे आज़ादी!

#IndiaAgainstCAA_NPR_NRC

Dr Monika Singh
@DrMonikaSingh_
मैं हिन्दू हूँ और मैं शपथ लेती हूँ कि कट्टरवादी चाहे मुझे कितनी भी गालियां दें या मेरे धर्म को निशाना बनाये मगर मैं कभी भी मुसलमानों को गाली नही दूंगी ना ही अल्लाह, कुरान को बुरा भला कहूंगी।

हर मुस्लिम हमारा वतनी भाई/बहन है,
सदियों से हम साथ रहे हैंऔर हमेशा साथ ही रहना है।

Ridzi ❤️
@RidziiSpeaks_
जिनको तुम अपने मंदिरों में घुसने नही देते थे…

उस समाज के #चंद्रशेखर_आजाद को हमने शाही जामा मस्ज़िद में सबसे ऊँची सीढ़ी पर खड़ा किया । ????

#सलाम_शाहीन_बाग
#महानऔरते_शहीनबागकी

chandini Bhatt
@chandinibhatt
नाकाम सरकार और बिकाउ मीडिया ????
दोनों ही
ना रोक सकेगें ना दबा सकेगें इस ????
जन सैलाब को
जो एक आवाज़ हो कर उठके ????
कह रहे हैं की इंसाफ हो
ये वो इंकलाब है जो तुमसे ????
ना संभल पाएगा
तुम इनका वजुद रोंधोगे ????
अब तुम्हारे इरादों
को रोंधा जाएगा ????
#महानऔरतें_शाहीनबागकी

शुभप्रभात

Arfa Khanum Sherwani
@khanumarfa
More jobs, better economy, social peace ? No.
All this Govt wants is favourable-pliable media.
National and now international.
Reducing a nation of 1.3 billion people to a joke.

Zara khan (9k)
@ZaraKhan123738
अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने “कुरान” को न्याय के लिए सर्वश्रेष्ठ पुस्तक का दर्जा दिया है????
#HollyQuran

Aafrin
@Aafrin7866
#शाहीनबाग़ की आंदोलन को भाजपा वाले बिकाऊ बोल रहे हैं अगर ये #शाहीनबाग़ का आंदोलन बिकाऊ होता तो भाजपा इसे खरीदने में जरा भी देर नहीं करती भाजपा इसे कब की ख़रीद भी चुकी होती
#शाहीनबाग़
#शाहीन_बाग_में_दम_है

Acharya Pramod
@AcharyaPramodk
CAA NRC और NPR अगर देश हित में है तो फिर पूरे देश में “बवाल” क्यूँ है, और अगर देश के “ख़िलाफ़” है तो “वापिस” क्यूँ नहीं लेते.#CAA_NRC_Protest

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, लेखक का fb लिंक साथ में प्रस्तुत है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

अमरीका, अफ़ग़ानिस्तान की अनदेखी न करेः पाकिस्तान

पाकिस्तान ने कहा है कि अमरीका, अफ़ग़ानिस्तान से सैनिकों के निष्कासन और अपना सबसे लंबा युद्ध समाप्त करने में सफल हो भी जाए तो उसे अफ़ग़ानिस्तान के पुनर्निमाण से जुड़े रहना चाहिए।

वाशिंग्टन में अमरीकी सेन्टर फ़ार स्ट्राटैजिक एंड इन्टरनेश्नल स्टडीज़ को संबोधित करते हुए पाकिस्तान के विदेशमंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने अमरीका को सचेत किया कि दोबारा अफ़ग़ानिस्तान की अनदेखी न करें जैसा कि 1989 में अमरीका और पाकिस्तान समर्थित लड़ाकों के दबाव में सोवियत सेना के निष्कासन के बाद देखा गया था, उन्होंने कहा कि 80 के दशक को न दोहराया जाए।

फ़्रांसीसी समाचार एजेन्सी एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार शाह महमूद क़ुरैशी का कहना था कि यदि सफल समझौता हो भी गया तो चुनौतियां बाक़ी रहेंगी, इसलिए अमरीका, इसके दोस्तों और घटकों को और भी ज़िम्मेदारी के साथ निकलना होगा।

पाकिस्तान के विदेशमंत्री का कहना था कि उन्हें अफ़ग़ानिस्तान से जुड़े रहना चाहिए, लड़ाई के लिए बल्कि पुनर्निमाण के लिए।

ज्ञात रहे कि 2001 में न्यूयार्क के जुड़वा टावर पर हुए हमले के बाद अमरीका ने अफ़ग़ानिस्तान पर चढ़ाई करके तालेबान सरकार को समाप्त कर दिया था किन्तु अब अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प अफ़ग़ानिस्तान से 12 हज़ार अमरीकी सैनिकों को निकालना चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *