देश

आर्थिक मोर्चे पर सरकार देश को धोखा दे रही है, मूडीज़ ने फिर घटाई विकास दर : मोदी की आर्थिक सलाहाकार ने बजट को निराशजनक और दिशाहीन करार दिया!

भारत सरकार की विट्यमंत्री हर बार देश की अर्थव्यवस्था को सही दिशा में जाती हुई कहती नज़र आती हैं जबकि देश विदेश की एजेंसियों से लेकर विख्यात अर्थशात्री तक देश के अंदर मौजूदा आर्थिक हालात को देख कर चिंतित हैं साथ ही वो सरकार को सलाह देते हैं तो सरकार और बीजेपी के नेता इन का मखौल बनाते दिखाई देते हैं

भारत की बदहाल अर्थव्यवस्था अभी पटरी पर आते दिखाई नहीं दे रही है। मोदी सरकार द्वारा हाल में पेश किये गए पहले बज़ट को खुद प्रधानमंत्री मोदी की आर्थिक सलाहकार डॉ आशिमा गोयल ने निराशाजनक बज़ट करार दिया है।

पीएम की आर्थिक सलाहकार परिषद की सदस्य आशिमा गोयल का मानना है कि आम बजट में दूरदर्शिता का अभाव है। मोदी सरकार में देश की आर्थिक स्थिति दिन पर दिन और नीचे गिरती जा रही है। जिसे लेकर विपक्ष मोदी सरकार पर पहले से हमलावर तो था ही, लेकिन अब खुद पीएम मोदी की आर्थिक सलाहाकार डॉ आशिमा गोयल ने इस बजट को निराशजनक और दिशाहीन करार दिया है।

बता दें कि देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बज़ट पेश करने के दौरान लगभग तीन घंटे का भाषण दिया जिसे लेकर पीएम की आर्थिक सलाहाकार आशिमा ने उनपर तंज कसा है।

डॉ आशिमा ने कहा- ‘ये आश्चर्यजनक है कि वित्त मंत्री ने अपने तीन घंटे के भाषण में गिरती अर्थव्यस्था शब्द का इस्तेमाल तक नहीं किया है।’

‘भारत के वीर’ फंड में जमा 250 करोड़ शहीदों के परिवारों को नहीं मिले तो फिर ये पैसा किसकी जेब में गया?
वहीं इस साल के बज़ट और वित्तमंत्री के भाषण को लेकर डॉ आशिमा ने कहा की बजट निराश करने वाला है क्योंकि नई सरकार के पहले बजट में जो दृष्टिकोण होने चाहिए थे। वह इस बजट में कहीं नहीं दिखाई देता है। भविष्य को लेकर एक सोच होनी चाहिए थी की आखिर देश की गिरती अर्थव्यवस्था को कैसे पटरी पर लाया जा सकता है।

वहीं आर्थिक सलाहाकार डॉ गोयल ने कहा कि ‘हैरान करने वाली बात यह है की जब पूरा देश और दुनिया की तमाम एजेंसियां भारत की गिरती अर्थव्यवस्था के ऊपर रिपोर्ट ला रहे हैं। लेकिन वित्त मंत्री के तीन घंटे के लंबे बजट भाषण में इसका एक भी बार जिक्र नहीं किया गया है।

मूडीज ने फिर घटाई भारत की विकास दर

भारत की अर्थव्यवस्था को एक और बड़ा झटका लगा है। वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत की विकास दर अनुमान को घटा दिया है। मूडीज ने भारत की विकास दर 6.6 प्रतिशत से घटाकर 5.4 फीसदी कर दी है।

मूडीज के तरफ से आये इस रिपोर्ट के बाद मोदी सरकार को देश के आर्थिक मोर्चे पर एक और तगड़ा झटका लगा है। बता दें की क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने देश की अर्थव्यवस्था में सुधार की गति बेहद सुस्त रहने की बात कही है।

सोमवार को जारी रिपोर्ट में मूडीज ने भारत के जीडीपी विकास दर अनुमान में भी कटौती की है। यह संकेत मोदी सरकार के साथ-साथ भारत के जतना के लिए भी चिंता की बात है। बता दें की मूडीज ने चालू वित्त वर्ष 2019-20 के लिए जीडीपी विकास दर अनुमान को 6.6% से घटाकर 5.4% और अगले वित्त वर्ष 2020-21के विकास दर अनुमान को 6.7% से घटाकर 5.8% कर दिया है।

मोदी के ‘5-ट्रिलियन’ दावे को बड़ा झटका! मूडीज ने भारत की विकास दर 6.6% से घटाकर 5.4% किया
मोदी सरकार और उसके मंत्री लगातार देश की आर्थिक बदहाली को छुपाते नज़र आते हैं। दुनिया की इतनी बड़ी एजेंसी ने यह साफ़ कर दिया है की मोदी
सरकार आर्थिक मोर्चे पर देश को सिर्फ धोखा दे रही है।

एजेंसी ने अपने रिपोर्ट में कहा कि ”भारतीय अर्थव्यवस्था के पटरी पर आने की रफ्तार बेहद सुस्त रह सकती है। मूडीज ने कहा की पिछले दो साल में देश की अर्थव्यवस्था की रफ्तार बेहद सुस्त हो गई है। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में वास्तविक जीडीपी विकास दर महज 4.5% रही है।”

वहीँ मूडीज की रिपोर्ट पर सिंगर विशाल ददलानी ने तंज कसते हुए लिखा- 5 + 4 = 9, ok? और कितने अच्छे दिन चाहियें? नाचो.


VISHAL DADLANI

@VishalDadlani
5 + 4 = 9, ok?

और कितने अच्छे दिन चाहियें? नाचो.

Livemint

@livemint
Moody’s cuts India 2020 GDP forecast to 5.4%, recovery seen delayed

रसोई गैस के दाम पर बोले अखिलेश- अब वित्तमंत्री ये ना कह दें कि ‘हम तो गैस का उपयोग नहीं करते’
बता दे कि देश की आर्थिक बदहाली के लिए जिम्मेदार मोदी सरकार सिर्फ अपना पल्ला झाड़ते हुए दिखाई दे रही है। और लगातार देश की गरीब जनता को महंगाई के चपेट में ले रही हैं। जिसके वजह से आज लोगों के रसोई घर से कई राशन गायब हो रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *