दुनिया

इराक़ में सैन्य छावनी पर हमला : 1 ब्रिटिश और 2 अमरीकी आतंकी फ़ौजी मारे गए, 1 दर्जन घायल : रिपोर्ट

इराक़ की राजधानी बग़दाद के क़रीब एक सैन्य छावनी पर एक दर्जन से ज़्यादा कैट्यूशा रॉकेट गिरने से 1 ब्रिटिश और 2 अमरीकी फ़ौजी मारे गए। ये कैट्यूशा रॉकेट, ताजी नामक छावनी पर गिरे जिसमें विदेशी सैनिक रह रहे थे।

2 अमरीकी सूत्रों के हवाले से रोयटर्ज़ के मुताबिक़, बुधवार को बग़दाद से क़रीब 30 किलोमीटर उत्तर में स्थित ताजी नामक फ़ौजी छावनी पर कैट्यूशा रॉकेट गिरने से लगभग एक दर्जन फ़ौजी घायल भी हुए हैं।

अमरीका की अगुवाई में विदेशी सैन्य गठबंधन ने एक बयान में कहा कि 107एमएम के 18 कैट्यूशा रॉकेट से इस छावनी पर हमला हुआ और समझा जाता है कि ये रॉकेट एक ट्रक से फ़ायर हुए।

अमरीकी सैन्य गठबंधन ने 3 सैनिकों के मारे जाने और लगभग एक दर्जन के घायल होने की पुष्टि तो की, लेकिन मरने व घायल होने वाले सैनिकों की राष्ट्रीयता के बारे में कोई ब्योरा नहीं दिया।

विदेशी सैन्य गठबंधन ने कहा कि ट्रक की गठबंधन और इराक़ी सुरक्षा बलों द्वारा जांच जारी है।

इससे पहले इराक़ के गृह मंत्रालय के मीडिया सेल ने एक बयान में बताया कि बुधवार की शाम को बग़दाद के लगभग 30 किलोमीटर उत्तर में ताजी सैन्य छावनी पर 10 रॉकेट गिरे।

इस बयान में यह भी बताया गया कि किया बोन्गो पिकअप ट्रक जिस पर मीज़ाईल लॉन्चर लगा था, दक्षिणी बग़दाद के रशीदिया इलाक़े से बरामद हुआ।

इस पिकअप पर 3 मीज़ाईल मौजूद थे। रिपोर्ट मिलने तक किसी गुट ने इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली थी। यह घटना ऐसे समय घटी है कि केन्द्रीय बग़दाद के अतिसुरक्षित ग्रीन ज़ोन पर 2 रॉकेट लगने की घटना को एक हफ़्ता भी नहीं गुज़रा है

इराक़ में प्रधान मंत्री के चयन में अमरीकी हस्तक्षेप जारी, जानना चाहेंगे अमरीका ऐसा क्यों कर रहा है?

 

इराक़ी सांसद ने देश में प्रधान मंत्री के चयन की प्रक्रिया में अमरीकी हस्तक्षेप की सूचना दी है।

इराक़ के सादेक़ून धड़े के सांसद मोहम्मद अलबल्दावी ने बुधवार को बताया कि बग़दाद में अमरीकी दूतावास इराक़ी प्रधान मंत्री के चयन में अपने राजनैतिक हथकंडों से संसद में हस्तक्षेप कर रहा है।

इरना के मुताबिक़, मोहम्मद अलबल्दावी ने न्यूज़ एजेंसी अलमालूमा से इंटरव्यू में कहा कि अमरीकी दूतावास इराक़ में अमरीकी सैनिकों को बाक़ी रखने के लिए इराक़ी प्रधान मंत्री के चयन में हस्तक्षेप कर रहा है। उन्होंने इस बात पर बल देते हुए कि शिया राजनैतिक धड़ों के दृष्टिकोण में समन्वय से इराक़ के भीतर हमलावर विदेशी सैनिकों की मौजूदगी के समर्थक विकल्प के चयन के लिए अमरीकी दबाव नाकाम हो जाएगा, कहाः”वॉशिंग्टन इराक़ में प्रधान मंत्री के लिए ऐसे विकल्प की तलाश में है जो इस देश में अमरीकी सैनिकों की मौजूदगी का समर्थन करे।”

ग़ौरतलब है कि ईरान की आईआरजीसी फ़ोर्स की क़ुद्स ब्रिगेड के कमान्डर जनरल क़ासिम सुलैमानी और इराक़ी स्वयंसेवी बल हश्दुशशाबी के डिप्टी कमान्डर अबू महदी अलमुहन्दिस की 3 जनवरी को बग़दाद एयरपोर्ट के बाहर आतंकी अमरीकी सेना के हवाई हमले में हत्या के बाद, 5 जनवरी को इराक़ी सांसदों ने देश से अमरीकी सैनिकों को निकाल बाहर करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *