देश

दिल्ली हिंसा में हिन्दुत्वादी चरमपंथियों ने RDX का इस्तेमाल किया है : हिंसा ग्रस्त स्थानों का दौरा करने वाली टीम का आरोप, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप!

तो क्या दिल्ली हिंसा में हिन्दू चरमपंथियों ने आरडीएक्स (RDX) का किया है इस्तेमाल? हिंसा ग्रस्त स्थानों का दौरा करने वाली टीम का आरोप, भारतीय सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप!

भारत की राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा की आग तो अब शांत हो चुकी है पर घरों, दुकानों, स्कूलों और पवित्र स्थलों में लगी आग से जले मलबे अभी भी गर्म हैं। हिंसा ग्रस्त इलाक़ों का दौरा करने वाली एक समाजिक संगठन की टीम ने घटनास्थलों का निरक्षण करने के बाद जिस चीज़ का आरोप लगाया है उससे पूरे भारत में हड़कंप मच गया है।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार, फ़रवरी महीने के अंत में भारत की राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा को लेकर इस समय पूरी दुनिया में इस हिंसा की कड़ी निंदा और आलोचना हो रही है। इस बीच जहां इस हिंसा को लेकर तरह-तरह के आरोप और प्रत्यारोप का दौर जारी है वहीं हिंसा से जुड़ी कुछ बातें और आरोप जैसे-जैसे सामने आ रहे हैं उससे यह कहा जाने लगा है कि दिल्ली हिंसा पूर्ण रूप से सुनियोजित थी। लगातार अलग-अलग मानवाधिकार और समाजिक संगठनों की टीम हिंसा ग्रस्त इलाक़ों का दौरा कर रही है। हिंसाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करने वाली अधिकतर टीमों का कहना है कि दिल्ली हिंसा में जिस पैमाने पर घरों को जलाया गया है और गोलियां चलाई गईं है उसे देखकर यह कहा जा सकता है कि यह हिंसा पहले से तैयार की गई प्लांनिंग का ही नतीजा है।

इस बीच 5 मार्च दिल्ली के हिंसा ग्रस्त इलाक़ों का दौरा करने गए भारत के वरिष्ठ शिया धर्मगुरू मौलाना कल्बे जवाद और कई समाजिक संगठनों के सदस्यों ने हिंसाग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करने के बाद जो आरोप लगाए हैं उससे न केवल दिल्ली पुलिस कटघरे में खड़ी हुई नज़र आ रही है बल्कि स्वयं भारत की सुरक्षा एजेंसियों के भी हाथ पैर भी फूल गए हैं। भारत के वरिष्ठ धर्मगुरू मौलाना कल्बे जवाद ने हिंसाग्रस्त इलाक़ों का दौरा करने के बाद एक प्रेसवार्ता में कहा कि जिन इलाक़ो में मुसलमान बहुसंख्या में हैं वहा न कोई मंदिर जला और न किसी हिन्दू भाई का घर जला सब सुरक्षित हैं और यही भारत की असल तस्वीर है। यह देश ऐसा देश है जहां सब मिलकर एक साथ एक छत के नीचे रहते हैं। उन्हेंने कहा कि इसी दिल्ली में बहुत से ऐसे भी क्षेत्र हैं जहां हिन्दू बहुसंख्या में हैं और वहां मुसलमान पूरी तरह सुरक्षित हैं, लेकिन मीडिया इन सभी चीज़ों को पेश नहीं कर रहा है। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि कुछ ऐसे इलाक़े भी देखे जहां मस्जिदें तो जला दी गईं थीं लेकिन मंदिर अपनी जगह सुरक्षित थे।

इमामे जुमा लखनऊ मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि मैंने अपने दिल्ली के शिव विहार इलाक़े का दौरा किया जहां की स्थिति सबसे ख़राब है। उन्होंने कहा कि शिव विहार इलाक़े में जिन घरों को जलाया गया है और मस्जिद को आग के हवाले किया गया है वह गैस सिलेंडर और पेट्रोल बम से नहीं जलाए गए हैं बल्कि उनको जलाने और गिराने के लिए किसी ख़तरनाक विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल किया गया है। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि जले घरों और मस्जिदों को देखकर लगता है कि जो विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल आतंकवादी करते हैं वही इनको जलाने और गिराने के लिए इस्तेमाल किया गया है। उन्होंने कहा कि इस पूरे विषय की जांच सुप्रीम कोर्ट की देख-रेख में होना चाहिए ताकि सच सामने आए। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि यह पूरी हिंसा सुनियोजित तरीक़े से हुई है कि जिसकी तैयारी पहले से हुई है। उन्होंने कहा कि यह भी कहा जा सकता है कि यह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बदनाम करने की साज़िश का हिस्सा हो। उन्होंने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के दौरे के समय ऐसी घटना का होना संदेह के घेरे में है। मौलाना कल्बे जवाद ने कहा कि इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि दिल्ली हिंसा में इस्राईली ख़ुफ़िया एजेंसी मूसाद का क्या रोल था। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि दिल्ली हिंसा में मूसाद ने अहम भूमिका निभाई है।

इस बीच मौलाना कल्बे जवाद के साथ हिंसाग्रस्त इलाक़ों का दौरा करने गई समाजिक संगठन के लोगों ने दिल्ली हिंसा को आतंकवादी घटना बताया है। समाजिक संगठनों का आरोप है कि घरों और मस्जिदों को पेट्रोल बम या गैस सिलेंडरों से नहीं जलाया गया है, बल्कि इनको जलाने और गिराने के लिए विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल किया गया है। समाजिक संगठन के सदस्य और सुप्रीम कोर्ट के वकील महमूद पराचा ने कहा कि मुझे संदेह है कि इन घरों और मस्जिदों को जलाने और गिराने के लिए आरडीएक्स को उपयोग किया गया है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इस हिंसा को पूरी तरह दिल्ली पुलिस ने बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के साथ मिलकर अंजाम दिया गया है। समाजिक संगठन के एक अन्य सदस्य बहादुर अब्बास ने कहा कि इस समय नरेंद्र मोदी सरकार दो गुट में बंट गई है एक गुट जो मोदी के ख़िलाफ़ है वह इस तरह की कार्यवाहियां करके उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि दिल्ली की हिंसा में जिस तरह से मकानों की छतें और मस्जिद जली है उससे यह साफ़ मालूम हो रहा है कि इसमें आरडीएक्स या सी-फोर जैसे विस्फोटक पदार्थों का इस्तेमाल हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *