देश

बाबरी मस्जिद की जगह ‘राम मंदिर’ बनाने का फ़ैसला देने वाले जस्टिस ‘रंजन गोगोई’ राज्यसभा के लिए मनोनीत : हैरानी की कोई बात नहीं इनाम मिला है!

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई राज्यसभा जाएंगे. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज उन्हें मनोनीत किया. सरकारी अधिसूचना में कहा गया है, ”भारत के संविधान के अनुच्छेद 80 के खंड (3) के साथ पठित खंड (1) के उपखंड (क) द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए राष्ट्रपति, एक नामित सदस्य की सेवानिवृति के कारण हुई रिक्ति को भरने के लिए, राज्यसभा में श्री रंजन गोगोई को नामित करते हैं.”

Shamseer Ibrahim
@ShamseerIbrahm
6th December 1992
9th November 2019
You killed justice for this piece of bread !
Shame
#RanjanGogoi

3 अक्टूबर 2018 को भारत के 46वें चीफ जस्टिस बने गोगोई का कार्यकाल लगभग 13 महीने का रहा था. उन्होंने पिछले साल 9 नवंबर को राम मंदिर पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था. 17 नवंबर को गोगोई रिटायर हुए थे.

Guftar Ahmed
@GuftarAhmedCh
For the first time in the History of India a Person Who Administers The Oath to The President of India Has become Rajya Sabha MP.The Man who gave Babri Masjid- Ram Mandar Decision as CJI is now Rajya Sabha member. Sad day for Indian judiciary.Unbelievable #RanjanGogoi #BJP

वह असम के मुख्यमंत्री रहे केशब चन्द्र गोगोई के बेटे हैं. उन्होंने 1978 में वकालत शुरु की. 2001 में गुवाहाटी हाईकोर्ट के स्थाई जज बने. 2011 में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने और 23 अप्रैल 2012 को सुप्रीम कोर्ट के जज नियुक्त हुए. उनकी छवि एक बेहद सख्त और ईमानदार जज की है.

Ranjan Gogoi Nominated To Rajya Sabha, How will people have faith in the Independence of Judges?

Former Chief Justice Ranjan Gogoi Nominated To Rajya Sabha By President

Former Chief Justice of India Ranjan Gogoi was noninated for Rajya Sabha, the upper house of parliament, by President Ram Nath Kovind. The President’s move is a first. So far, few members of the judiciary has crossed over to the space of legislature.

Former Chief Justice Ranganath Mishra ad joined the Congress and became a Member odf Parliament. Later, former Chief Justice of India P Sathasivam became first Governor of Kerala to be appointed by the Narendra Modi Government.

Justice Gogoi had retired in November last year after presiding over the Supreme Court for around 13 months

Asaduddin Owaisi
@asadowaisi
Is it “quid pro quo”?
How will people have faith in the Independence of Judges ? Many Questions

Manoj K Jha
@manojkjhadu
And let’s not forget that he was the one who said ‘democracy is under threat’ and with this appointment he sounds prophetic. Jai Hind

Surendra Rajput
@ssrajputINC
बधाई रंजन गोगोई साहब आपको भाजपा ने आपको राज्यसभा दी। इनाम है ज़रूरत है या कुछ और??

Former CJI #RanjanGogoi nominated for Rajya Sabha

Om Thanvi
@omthanvi
पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा। इसमें हैरानी की कोई बात नहीं! वे ऐसे पहले जज भी नहीं। जिनको न्याय का सहारा मिलेगा, उनको उनका सहारा मिलेगा।

Shahnawaz Ansari
@shanu_sab
पूर्व चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई को भाजपा ने राज्यसभा के लिए मनोनीत किया है।

अब आप अंदाज़ा लगा लीजिए तीन तलाक़ से लेकर राम मंदिर तक के फैसले कितने निष्पक्ष हुए होंगे, रंजन गोगोई द्वारा दिये उन तमाम मुस्लिम विरोधी फैसलों के लिए भाजपा ने उन्हें रिटर्न गिफ्ट दिया है।
#ShukriyaOwaisi

Rajdeep Sardesai
@sardesairajdeep
big Breaking: CJI Ranjan Gogoi gets a Rajya Sabha presidential nomination seat within few months of retiring. Say no more!

Yashwant Sinha
@YashwantSinha
I hope ex-cji Ranjan Gogoi would have the good sense to say ‘NO’ to the offer of Rajya Sabha seat to him. Otherwise he will cause incalculable damage to the reputation of the judiciary.

Vinay Kumar DokaniaFlag of India | विनय कुमार डोकानिया
@VinayDokania
List of controversial Judgements

EVM , VVPAT,
Ram Mandir,
Tripple Talaq
Delaying hearing on Jammu And Kashmir,
Silence over lynching of democracy,
Sealed lips over unconstitutional arrest and custody of leaders of opposition

Reward~ 1 mere Rajya Sabha seat
#RanjanGogoi

Nagendar Sharma
@sharmanagendar
Remember the lady who accused Ranjan Gogoi of sexual harassment? He got her sacked unlawfully. Got her husband and brothers in law suspended from Delhi Police. All of them reinstated which proves their innocence. Not difficult to understand who is guilty.

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *