दुनिया

‘चोर’ आदमी ट्रम्प सऊदी अरब की तेल कंपनी की संपत्ति हड़पने के चक्कर में हैं ट्रम्प : रिपोर्ट

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प तेल की क़ीमतों की जंग से अमरीका को पहुंचने वाले नुक़सान की भरपाई सऊदी अरब से करवाना चाहता है।

अमरीकी वेबसाइट आयल प्राइज़ ने वाइट से क़रीब सूत्रों के हवाले से एक रिपोर्ट प्रकाशित की है जिसमें दावा किया गया है कि ट्रम्प ने सारे विकल्पों की समीक्षा शुरू कर दी है जिनमें एक विकल्प सऊदी अरब की तेल कंपनी अरामको पर अदालती कार्यवाही करके उसकी संपत्ति ज़ब्त करना है।

आर्थिक विषयों पर काम करने वाली वेबसाइट ने बताया कि ट्रम्प के कई क़रीबी सलाहकार उन्हें सऊदी अरब से हर्जाना वसूलने की राय दे रहे हैं ख़ास तौर पर चुनाव का समय नज़दीक आने के मद्देनज़र इस मांग पर आग्रह बढ़ गया है।

ट्रम्प के पास एक विकल्प यह है कि वह सऊदी अरब के सत्ताधारी आले सऊद वंश का समर्थन रोक दें इस तरह सऊदी सरकार ट्रम्प की हर मांग स्वीकार करने पर मजबूर हो जाएगी।

ट्रम्प कई बार कह चुके हैं कि यदि अमरीका का समर्थन न हो तो किंग सलमान दो हफ़्ते भी शाही महल में नहीं टिक पाएंगे।

ट्रम्प यह भी कह चुके हैं कि तेल की क़ीमतों की लड़ाई के नतीजे में हम यह तो नहीं होने देंगे कि ऊर्जा के सेक्टर में काम करने वाली हमारी कंपनियों के दसियों हज़ार लोग बेरोज़ार हो जाएं।


ईरान और चीन ने अमरीका की ग़ुडागर्दी की क्लास ली और प्रतिबंधों को घटिया क़रार दिया

इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने पश्चिमी एशिया में अमरीका के हस्तक्षेपपूर्ण रवैये को क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता में विघ्न उत्पन्न होने का कारण क़रार दिया है।

राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने सोमवार को चीन के राष्ट्रपति शि जिनपिंग से टेलीफ़ोनी वार्ता में बल दिया कि ईरान के लिए क्षेत्र और क्षेत्र के जलमार्गों की सुरक्षा बहुत ही महत्वपूर्ण है किन्तु अमरीका का ख़तरनाक रवैया, संभव है कि फ़ार्स की खाड़ी के क्षेत्र की सुरक्षा में विघ्न पैदा कर दे।

राष्ट्रपति रूहानी ने अमरीका के ग़ैर क़ानूनी और अत्याचारपूर्ण प्रतिबंधों के बारे में चीन सरकार के दृष्टिकोण की सराहना करते हुए कहा कि आज दुनिया उस स्थान पर है जहां सभी को एक दूसरे की मदद की आवश्यकता है न यह कि कुछ लोग अपनी अमानवीय व्यवहार जारी रखते हुए ग़ैर क़ानूनी और अमानीय प्रतिबंधों को जारी रखें।

चीन के राष्ट्रपति ने भी इस टेलीफ़ोनी वार्ता में ईरान के विरुद्ध अधिक से अधिक दबाव की नीति और प्रतिबंधों को जारी रखने के अमरीका के घटिया रवैये की निंदा करते हुए कहा कि खेद की बात यह है कि कुछ देश इन हालात से राजनैतिक लाभ उठाने के प्रयास में हैं।

चीन के राष्ट्रपति ने चीन में कोरोना वायरस के शुरु होते ही ईरान की ओर से भेजी गयी मदद की सराहना करते हुए कहा कि ईरान में संक्रमितों और मौतों की संख्या में कमी से पता चलता है कि चिकित्सा के जो कार्यक्रम अपनाए गये हैं वह बहुत ही सूक्ष्म रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *