ब्लॉग

जनता अपने तरीक़े से लिंचिंग कर रही है, पुलिस अपने…!

Shamsher Ali Khan

किसान बंसी कुशवाहा को मध्य प्रदेश पुलिस ने इतना मारा कि उनकी मौत हो गई. 16 अप्रैल शाम को 50 वर्षीय किसान बंशी कुशवाह अपने खेतों को पानी देकर घर आ रहे थे. रास्ते मे छह पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोका और इलाके में चल रहे जुए के धंधे के बारे में पूछने लगे. बंसी ने कोई जानकारी होने से इनकार किया। इस पर पुलिस वालों ने उन्हें इतना मारा कि वे बेहोश हो गए। बंसी के पड़ोसी उन्हें घर लेकर आए। सोमवार को बंसी की मौत हो गई.

इसके पहले यूपी के टांडा में बिस्कुट खरीदने गए एक दिहाड़ी मजदूर को पुलिस ने इतना पीटा कि वह मर गया।

जनता अपने तरीके से लिंचिंग कर रही है। पुलिस अपने हिस्से की लिंचिंग कर रही है। नेता को जो सूट करेगा, उसको माला पहना देगा।

हम किसकी-किसकी निंदा करें? जनता की शिकायत पुलिस से कर सकते हैं, पुलिस की शिकायत किससे करें? पुलिस की शिकायत पीएम-सीएम से कर सकते हैं, लेकिन उनकी शिकायत किससे करें?

चौकीदार के ही चोर हो जाने का संकट बड़ा विचित्र होता है!

 

20 अप्रैल 1889 ऑस्ट्रिया का वान कस्बा।

आज इतिहास के पन्नो में कालिख पुता एक व्यक्ति जन्म लेता है जो

बचपन में रंग रोगन करता था, फिर फ्रेंड्ज़ कह कहकर अच्छे दिन लाने का वायदा करता था।

अपने देश को विश्वगुरु बनाने के सपने दिखाता था, अपनी नस्ल को सर्वश्रेष्ठ बताकर दुसरो के जीने का अधिकार समाप्त करता था।

जीवन भर शादी नही की क्योकि इतना कायर था कि पत्नी पर भी विश्वास नहीं करता था।

अपनी सनक के चलते लाखो लोगो की हत्या का जिम्मेदार अंत में अपनी प्रेमिका के साथ आत्महत्या करने को मजबूर हो गया।।

उसी एडोल्फ हिटलर का आज जन्मदिन है।।

ख़ास बात यह है कि इसकी जन्मतिथि एक ही है और इसकी तिथि या डिग्री को लेकर कभी कोई संशय/विवाद नही हुआ।

जिस गिरोह के लिए वो आज भी आदर्श एवम प्रेरणा स्रोत हैं वो चाहे तो आपस मे ले दे सकते है ( शुभकामनाएं )

हमारी ओर से मानवता के दरिंदे को असंख्य लानत।

 

 

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *