विशेष

आपको पता है कि ”मुसलमान, पाकिस्तान, सऊदी अरब” ख़बरे क्यों चलाई जाती हैं?

My country mera desh
===========
पाकिस्तान का चूरन ख़त्म तो सऊदी अरब मार्केट में लाये।

आपको पता है कि ऐसी ख़बरे क्यों चलाई जाती हैं?

#क्योंकि_भारत मे एक बहुत बड़ा तबका सिर्फ इस बात से अपने साथ हुए सरकारी अत्याचारों को भूल जाता है कि मुसलमान तबाह हो रहे हैं।

एक कहावत है न कि “पति मरे तो मरे लेकिन सौतन विधवा होनी चाहिए”

और जिसकी फोटो लगाकर यह ख़बर चलाई जा रही है। वह सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान हैं।
जिनकी उम्र 33 वर्ष है। जिनकी नेट वर्थ 1.4 ट्रिलियन डॉलर है। उनके पास एक शिप है जिसकी क़ीमत सिर्फ 500 मिलियन डॉलर है। उनके पास लियोनार्डो डॉ विंची की एक पेंटिंग है जिसकी क़ीमत 450 मिलियन डॉलर है।

सऊदी अरब में कोरोना पीड़ितों का मुफ़्त और बेहतर सुविधाओ के साथ इलाज किया जा रहा है बिना किसी भेदभाव के। यहाँ किसी को आत्मनिर्भर रहने को नही कहा गया है।

यह ख़बर चलाने से पहले अगर इस दो टके के एंकर ने छोटा सा गूगल कर लिया होता तो इसका भृम दूर हो जाता।

लेकिन इस्लामोफोबिया से ग्रस्त इन न्यूज़ एंकरों को और कुछ सूझता ही नही, भारत मे मज़दूर तबका सड़को पर भूख से और यातायात के अभाव से मर रहा है, और इन बेग़ैरत ज़मीर फ़रोश मीडिया वालों का ज़मीर नही जागता की उनकी समस्याओं को उठाए ताकि सरकार कुछ ठोस कदम उठाए।

ब्रिटीश मंत्री जेम्स क्लेवरली ने कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने मे 500 मिलियन डॉलर की मदद के लिए सऊदी अरब का धन्यवाद जताया है

जेम्स ने कहा हम सऊदी के बहोत आभारी है उसकी उदारशीलता के लिए

सऊदी अरब ने यूरोपीयन देशो द्वारा बुलायी गयी एक कॉन्फ्रेंस जिसमे कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने के लिए दुनिया भर के देशो से पूंजी एकत्रित करना मक़सद था उसमे सऊदी अरब ने ये राशि दी इसमे सऊदी के साथ कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, ब्रिटेन, नोरवे थे जिन्होंने सबसे ज़्यादा राशि दान की ।
#Saudi #Covid19 #Vaccine

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *