दुनिया

इस्राईल में चीनी राजदूत की मौत, शव उसके आवास से बरामद : मौत के कारणों का अभी पता नहीं चला!

चीनी राजदूत का शव आज सुबह उसके आवास से बरामद हुआ है।

ज़ायोनी सूत्रों ने सूचना दी है कि तेलअवीव में चीनी राजदूत का शव आज सुबह उसके आवास से बरामद हुआ है।

समाचार एजेन्सी तसनीम की रिपोर्ट के अनुसार जायोनी शासन के एक पत्रकार बराक रावीद ने अपने पेज एकाउंट पर लिखा है कि इस्राईली अधिकारियों ने मुझसे कहा है कि चीनी राजदूत का शव आज सुबह उसके आवास से बरामद हुआ है।

इस्राईल के दूसरे सूत्रों ने भी इस ख़बर की पुष्टि की है और कहा है कि 57 वर्षीय चीनी राजदूत का शव हरतेज़्लिया में उसके आवास से बरामद हुआ है।

अभी फरवरी 2020 में चीनी राजदूत को तेलअवीव भेजा गया था। इस रिपोर्ट के अनुसार इस्राईल पुलिस अभी भी तेलअवीव में चीनी राजदूत के आवास में मौजूद है और जांच पड़ताल कर रही है।

चीनी राजदूत दू वेई ने अभी अप्रैल महीने में हिब्रू भाषा के एक समाचार पत्र के साथ साक्षात्कार में कहा था कि जब मुझे राजदूत बनाकर तेलअवीव भेजा गया था तो चीन में कोरोना के फैलने के कारण मुझे दो सप्ताह तक क्वारंटाइन में रखा गया था।

चीनी राजदूत के मरने की अभी अस्ल वजह ज्ञात नहीं है।

चीन ने अमरीका को उसकी औक़ात याद दिलाई, संरा के क़र्ज़ में डूबा है वाशिंग्टन

कोरोना वायरस को लेकर अमरीका और चीन के बीच जारी वाकयुद्ध के बीच चीन ने अमरीका को उसकी औक़ात याद दिला दी है।

चीन ने संयुक्त राष्ट्र संघ के सभी सदस्य देशों को संयुक्त राष्ट्र संघ में अपने वित्तीय दायित्वों को सक्रिय रूप से अदा करने का संदेश देते हुए कहा है कि वाशिंगटन को 2 अरब डॉलर से अधिक संगठन को देना है।

चीन ने कहा कि कई वर्षों के बाद बकाया राशि में संयुक्त राज्य अमेरिका सबसे बड़ा कर्जदार है जिसे क्रमशः 1.165 बिलियन और 1.332 बिलियन अमेरिकी डॉलर देने हैं।

संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव के कार्यालय की एक रिपोर्ट और एक बैठक में कहा गया कि 4 मई तक, संयुक्त राष्ट्र संघ के नियमित बजट और शांति बजट के तहत क्रमशः 1.63 बिलियन डॉलर और 2.14 बिलियन अमेरिकी डॉलर की कुल रक़म नहीं चुकाई गई है।

संबंध तोड़ने की अमरीकी धमकी पर चीन की प्रतिक्रिया, अमरीका घाटा उठाएगा

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने अमरीका के राष्ट्रपति की इस धमकी पर प्रतिक्रिया दिखाई है कि वाॅशिंग्टन बीजिंग से अपने संबंधों को पूरी तरह ख़त्म कर देगा।

रोएटर्ज़ की रिपोर्ट के मुताबिक़ चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ज़ाऊ लीजियान ने शुक्रवार को एक पत्रकार सम्मेलन में कहा कि बीजिंग से वाॅशिंग्टन के संबंधों की समाप्ति, अमरीका के नुक़सान में है। उन्होंने कहा कि अमरीका, कोरोना वायरस के बारे में चीन के ख़िलाफ़ साज़िशें तैयार कर रहा है।

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प समेत इस देश के सरकारी अधिकारी कोरोना वायरस के फैलाव को नियंत्रित करने में अपनी विफलता को छिपाने के लिए हालिया दिनों में कई बार चीन पर इस बात का आरोप लगा चुके हैं कि उसने इस घातक वायरस के फैलाव के बारे में सूचनाओं को छिपाया था। इन अधिकारियों ने इसी तरह यह दावा भी किया है कि कोरोना वायरस, चीन की किसी प्रयोगशाला में तैयार हुआ है। चीन ने अमरीकियों के इस दावे को ख़ारिज कर दिया है। अमरीकी अधिकारियों के इस प्रकार के बयानों के कारण, दोनों देशों के संबंधों में काफ़ी खटास आ गई है और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने एक इंटरव्यू में कहा है कि चीन के साथ पूरी तरह से संबंध तोड़ने समेत कई विकल्प अमरीकी सरकार के सामने हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *