ब्लॉग

जानें सच ! पिछले 100 वर्षों से ब्राह्मणवादी लोग इस्लाम के ख़िलाफ़ नफ़रत पैदा करने के लिए क्या कुछ कर रहे हैं ?

Sunny Sokhi

Batala
Civil Engineer
==============

जानें सच ! क्या हम महसूस नही करते कि पिछले 100 वर्षों से ब्राह्मणवादी लोग हमारे दिल और दिमाग में इस्लाम के खिलाफ नफरत पैदा करने के लिए क्या कुछ कर रहे हैं ?????

गुरु गोबिंद सिंघ जी ने अपने जीवन में 14 युद्ध लड़े और 14 के 14 युद्ध जीते।

इन 14 युधो में से 13 युद्ध गुरु साहिब जी को हिंदुओं के साथ ही लड़ने पड़े और सिर्फ1 युद्ध औरंगजेब के खिलाफ करना पड़ा।

हिंदू पहाड़ी राजाओ द्वारा औरंगजेब को उकसाने के बाद ही गुरु साहब जी को मुगल सरकार से उस युद्ध को लड़ना पड़ा।

आपको पीर बुधु शाह और उन अन्य मुसलमानों से कभी प्यार क्यों नहीं हुआ ?

जिन्होंने गुरु के घर के साथ सच्चा प्यार निभाया है।

हम उन मुसलमानों के बारे में कभी बात क्यों नहीं करते जो सिखों और सिखों के बहुत करीब रहे हैं।

हम हर मुसलमान में औरंगजेब, ज़करिया खान,मौसा,वजीर खान और फर्रुखशियर ही क्यों देखते हैं ???

आखिरकार वे भी तोह मुस्लिम ही थे
जो हमारे गुरु से प्यार करते थे और इसलिए मुगल सरकार के हाथों पीड़ित रहे और ऐसे कई सारे मुसलमान हुए हैं
जिन्होंने सिख धर्म को मान दिया और सिखों से प्रेम किया।
कभी सोचा है कौन थे भाई मरदाना जी जो गुरु साहब जी के सबसे प्यारे साथी रहे उनकी देश,परदेश की यात्राओं में ?

राय बुलार जी कौन थे जिन्होंने गुरु नानक देव जी के ईश्वरी अवतार होने की पहचान की थी और वोह पहले सिख थे गुरु जी के।

दौलत खान लोधी
साई अल्लाह दित्ता
सैयद तकी
मियां मिट्ठा
शाह सरफ
हमजा गौस
साई बुड्डन शाह
मखदूम बहाउद्दीन
पीर दस्तगीर
बहलोल दाना
सैयद हाजी अब्दुल बुखारी
अब्दुल रहमान
खलीफा बकर
सुल्तान हामिद
रश जमीर
बाबर
हुमायूं
अकबर
अल्लाह यार खान जोगी
शाह हुसैन
साई हज़रत मियाँ मीर (जिनसे गुरु साहिब जी ने श्री दरबार साहब की नींव रखवाई थी)
आढ़त
भाई सत्ता और भाई बलवंड
भाई नत्था और भाई अब्दुल्ला
हसन खान
कट्टू शाह
चूहड़ रबाबी
वज़ीर खान
साई डोले शाह,
बाबक रबाबी
ख्वाजा रोशन
सैयद शाह जानी
दारा शिकोह,
साई फतेह शाह
नवाब रहीम बख्श
करीम बख्श
नवाब शाइस्ता खान
मीरा शाह,
सैफ खान,
मोहम्मद खान पठान गढ़ी नजीर
दरोगा अब्दुल्ला ख्वाजा
साई भीखन शाह
पीर अराफ दीन
क़ाज़ी सालारदीन
मीर गयासुद्दीन
करीम बख्श पठान
हकीम अबू तब
सईद बेग
मामून खान
कोटला निहंग खान
बीबी कौलां
बीबी मुमताज़ बेगम

भाई गनी खान और भाई नबी खान (जो गुरु गोबिंद सिंघ जी को उच्च का पीर बनाकर अपने कंधों पर उठाकर मुगलो के घेरे से निकाल कर ले आये थे)

काज़ी पीर मोहम्मद
काज़ी चिराग दीन
क़ाज़ी इनायत अली नूरपुरिया
राय कल्ला
नूरा माही
अब्राहम
झंडे शाह
भगत शेख फरीद जी
भगत पीखन जी
सधना जी
सूथरे शाह
आलम
जिन्द पीर
भाई कमाल जी
जलमा जी
मालो जी
सैयद अब्दुल हक
सूबेग शाह हलवारिया
हसन अली मोठु माजरिया
पीर दरगाही शाह

पीर बुधु शाह (भंगानी के युद्ध मे पीर बुधु शाह ने अपने 4 पुत्रों को गुरु गोबिंद सिंघ जी के लिए शहीद करवाया हिन्दू राजाओ के साथ युद्ध मे)
मलेरकोटला के राजा शेर मुहम्मद खान (जिन्होंने गुरु गोबिंद सिंह के छोटे बेटों के लिए इंसाफ की आवाज उठाई सरहिंद के दरबार मे )

कभी जाना हमने के इन जैसी महान ऐतिहासिक हस्तियों के साथ गुरु साहब का क्या संबंध है ???

अब जरूर जानें !!!
जो तुम भूल गए हो उसको खोजो ओर सिखों को शोध करना चाहिए इसपर और उन मुसलमानों के बारे में भी जरूर जानना चाहिए जिन्होंने गुरु के घर से प्रेम निभाया है।
अब किसने धोखा दिया सिखों को उनके बारे में बताने वाले बहुत हैं पर जिन्होंने साथ दिया सिखों का और गुरु साहब जी से प्यार रखा उन्हें जानने की जरूरत है ।

ब्राह्मणवादी और नफरत के पुजारी बस हमारे दिमाग में यह बात बैठाने की कोशिश कर रहे है कि हर मुसलमान सिखों का दुश्मन है जो सरासर झूठ और बे बुनियाद है।

साभार-समस्त इंजन महक़मा

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

parvez khan at golden tempel

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *