दुनिया

तुर्की और इमारात में ठनी : तुर्की ने कहा, ”संयुक्त अरब इमारात शत्रुतापूर्ण रवइये से बाज़ आ जाये”

 

तुर्की ने कहा है कि इमारात का हस्तक्षेप लीबिया तक सीमित नहीं है

तुर्की के विदेशमंत्रालय ने संयुक्त अरब इमारात का आह्वान किया है कि वह उनके देश के ख़िलाफ़ शत्रुतापूर्ण रवइये से बाज़ आ जाये।

समाचार एजेन्सी आनातोली की रिपोर्ट के अनुसार तुर्की के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता हामी आकस्वी ने कहा है कि संयुक्त अरब इमारात के विदेशमंत्रालय की ओर से जो विज्ञप्ति जारी की गयी है वह उस देश की मिथ्याचारपूर्ण नीति पर पर्दा डालने का प्रयास है जो पूरी तरह लीबिया में विद्रोहियों का समर्थन कर रहा है।

उन्होंने बल देकर कहा कि तुर्की लीबिया सहित अरब देशों की संप्रभुता का सम्मान करता है।

संयुक्त अरब इमारात ने गुरूवार को कहा था कि वह राजनीतिक मार्ग से समाधान चाहता है और साथ ही उसने अरब देशों विशेषकर लीबिया के मामलों में तुर्की के हस्तक्षेप पर चिंता जताई थी।

तुर्की के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता ने सीरिया, यमन और अफ्रीक़ी देशों में संयुक्त अरब इमारात के हस्तक्षेप की ओर संकेत किया और कहा कि विश्व समुदाय पूरे क्षेत्र की शांति व सुरक्षा को आघात पहुंचाने वाले संयुक्त अरब इमारात के प्रयासों से अवगत है और उसका हस्तक्षेप केवल लीबिया तक सीमित नहीं है।

जानकार हल्कों का कहना है कि तुर्की ऐसी स्थिति में संयुक्त अरब इमारात द्वारा लीबिया में हस्तक्षेप पर आपत्ति जता रहा है जब वह स्वयं सुरक्षा परिषद सुरक्षा परिषद की अनुमति के बिना सीरिया में अपने सैनिकों को घुसा रखा है और आतंकवादी गुटों के समर्थन के लिए अपनी चेक पोस्टों को उनके लिए कंट्रोल रूम में बदल दिया है।

इसी प्रकार जानकार हल्के सवाल कर रहे हैं कि तुर्की सीरिया में जो कुछ कर रहा है वह सीरिया की राष्ट्रीय संप्रभुता का अपमान है या सम्मान?

इसी प्रकार जानकार हल्कों का कहना है कि जो संयुक्त अरब इमारात राजनीतिक मार्ग से लीबिया संकट के समाधान की रट लगाये हुए है वह इमारात यमन में क्या कर रहा है? वह किसके कहने पर, किसके साथ मिलकर और किन लक्ष्यों को साधने के लिए यमनी जनता के खिलाफ कार्यवाहियां और हमले कर रहा है।

यह देश तकनीकी सेवा के बदले ईरान को दे रहा है सोना… अमरीका ने मचाया हंगामा …

एक अमरीकी कूटनयिक ने दावा किया है कि वेनेज़ोएला तेल के क्षेत्र में ईरान की तकनीकी सेवाओं के बदले ईरान को सोना देता है।

एलियट ने कहा कि हमने देखा कि इस हफ्ते से ईरान के अधिक विमान वेनेज़ुएला गये हैं, हमारा मानना है कि ईरान से वेन्ज़ोएला के लिए तेल उद्योग के उपकरण लाने वाले यह विमान, वापसी में वेनेज़ुएला से सोना ईरान ले जाते हैं।

अमरीकी विदेशमंत्राय में वेन्ज़ोएला के प्रभारी एलियट अबराम्ज़ ने हडसन रिसर्च सेंटर से एक वीडियो कांफ्रेंसिंग में यह दावा किया और कहा कि वेनेज़ुएला में ईरान की भूमिका बढ़ रही है।

इस से पहले अमरीकी विदेशमंत्री माइक पोम्पियो ने एक प्रेस कांफ्रेंस में दावा किया था कि ईरानी एयर लाइन माहान ने मादूरो सरकार के लिए ” अज्ञात” मदद भेजी है। इसी के साथ उन्होंने इस ईरानी एयरलाइन पर प्रतिबंध लगाने की बात की थी।

ब्लूमबर्ग ने ” जानकार ” सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि वेन्ज़ोएला ने इस महीने 9 टन सोना ईरान को दिया है। वेनेज़ुएला ने यह सोना अपनी रिफाईनरियों की मरम्मत की वजह से ईरान को दिया है।

अभी तक ईरान या वेनेज़ुएला की ओर से अमरीका के इस दावे पर प्रतिक्रिया की सूचना नहीं मिली है।

अमरीका को अपने निकट वेनेज़ुएला में ईरान के बढ़ते प्रभाव से बेहद चिंता है।

पश्चिमी तट को इस्राईल से जोड़ने के दुष्परिणामों की ओर से अरब लीग की चेतावनी

अरब लीग के महासचिव ने यूरोपीय संघ के विदेशी मामलों के प्रभारी से कहा है कि अगर पश्चिमी तट को ज़ायोनी शासन से जोड़ने की कोशिश की गई तो इसके बड़े बुरे परिणाम सामने आएंगे।

अहमद अबुलग़ीत ने जोसेप बोरेल से टेलीफ़ोन पर बात करते हुए ज़ायोनी शासन की नीतियों और पश्चिमी तट के कुछ इलाक़ों को इस्राईल से मिलाने की उसकी कोशिशों की ओर से सावधान किया है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में यूरोप का रुख़ बड़ा अहम है और ज़ायोनी शासन का यह क़दम, अप्रत्याशित नकारात्मक परिणामों का कारण बन सकता है और इसके फल स्वरूप पूरे क्षेत्र में संकट की आग भड़क सकती है। अरब लीग के महासचिव ने यूरोपीय संघ से मांग की है कि वह इस संबंध में अपनी ज़िम्मेदारी का आभास करते हुए ज़ायोनी शासन को इस प्रकार के षड्यंत्रों से दूर रखे।

ज्ञात रहे कि ज़ायोनी प्रधानमंत्री बेनयामिन नेतनयाहू ने सोमवार को घोषणा की है कि इस्राईल अधिकृत क्षेत्रों में पश्चिमी तट के कुछ इलाक़ों को शामिल करने की योजना को अगले महीने व्यवहारिक बनाया जाएगा। ज़ायोनी प्रधानमंत्री के इस बयान से पहले ही अनेक देशों व अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने इस्राईल को, जाॅर्डन नदी के पश्चिमी तटवर्ती इलाक़ों को ज़ायोनी शासन के अवैध अधिकृत क्षेत्र में शामिल किए जाने की साज़िश की ओर से चेतावनी दे दी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *