विशेष

नमाज़ पढ़ रहे नदीम के ऊपर साथी सिपाही अनिल ने अंगोछा लगा कर किया साया : हिन्दोस्तान ज़िंदाबाद!

Irfan Shaikh Masudie
==============
कोरोना काल में पुलिस का फर्ज, भाईचारा ओर इबादत, ड्यूटी पर तैनात पुलिस के जवान निभा रहे है दोनों फर्ज, जवान ड्यूटी के दौरान रोड पर ही पढ़ रहा है नमाज, धूप में नमाज पढ़ रहे जवान को देख दूसरे जवान ने पेश की भाईचारे की मिसाल, सर पर लगाया धूप से बचने के लिए कपड़ा, नमाज पढ़ रहे नदीम के ऊपर अनिल ने पकड़ा अंगोछा, गौतमबुद्धनगर ओर बुलंदशहर जिले के बॉर्डर के बैरियर पर तैनात है दोनों सिपाही।

Shahnaj Begam
==============
क़ुरआन करीम कायनात के उसूल पेश करके रूहानियत की बुलन्दियों तक ले जाता है जिस इंसान की फितरत अल्लाह की फितरत से मेल खाती है वही इन्सान क़ुरआन पाक की सही तफसीर(टीका) करता और जिस इंसान की फितरत अल्लाह की फितरत से मेल नहीं खाती । वोह इन्सान क़ुरआन करीम की ऐसी तफसीर करता है जो सिर्फ उसके दिमाग़ के ख़्वालात हैं। उसकी सोच से लोग हिदायत पर नहीं आते बल्कि उसकी तफसीर गुमराही का सबब बनती है । इसके मुतअल्लिक़ अल्लाह फरमाता है :—
अल्लाह इसके ज़रिए बहुतों को गुमराह करता है और बहुतों को उससे राह दिखाता है, और वह गुमराह करता है उन लोगों को जो नास्तिक प्रवृति के लोग हैं । (क़ुरआन 2 : 26) क़ुरआन पाक में जो मिसाल के अंदाज़ में जो बातें हैं। उसकी बदकार लोग अपने मन माने अंदाज़ से तफ़सीर करते हैं । सिर्फ फितना पैदा करने के लिए । और वोह आयतें जो मुतशाबिहात हैं उनकी तअबील तफसीर अल्लाह जानता है या वोह लोग जो इल्म में पुख्ता है । नेक लोग यही कहते हैं सब अल्लाह की तरफ से है। पस ये इससे साबित होता है,नेक मुत्तक़ी लोग जो अल्लाह की फितरत को अपने अन्दर जज़्ब कर लेते हैं सही तफसीर तअबील करते हैं ।पस इन्सानो को चाहिये नेक मुत्तक़ी लोगों से क़ुरआन सुने और समझे। हदीस में ऐसे लोगों को वक़्त का इमाम बताया गया है।रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं जो शख्स ज़माने के इमाम को नहीं पहचानता उसकी मौत जिहालत होती है। ज़माने के इमाम को अल्लाह ज़माने का इल्म अता करता है और मुतशाविहात की मअनी समझाता है।पस मोमिनो को चहिये कि ज़माने के इमाम को तलाश करें ता वक़्त के फितनों से बचें ।

 


Aslam Khan
=================
एक और आरएसएस, हिंदुत्व गुंडा जो गूगल दुबई में काम करता है नफरत, islamophobia, और पैगंबर को गाली दे रहा है

सोशल मीडिया में मुसलमानों के खिलाफ हिंसा भड़काने वाले पैगंबर और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ घृणित भड़काने वाली टिप्पणियों की जाँच करें

अगर आप दुबई में हैं तो कृपया दुबई पुलिस के साथ शिकायत दर्ज करें आप इसे ट्विटर के माध्यम से शिकायत भी कर सकते हैं बस टैग करें @dubaipolicehq.
मैंने ट्विटर पर अपनी शिकायत दर्ज की थी ।

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *