देश

नीच भारतीय मीडिया : अर्नब गोस्वामी पत्रिकारता के नाम पर ”कलंक” है : नेपाली यूजर

मुदित मिश्र विपश्यी
==============
*तर्क,विश्वास,श्रद्धा और ज्ञान*

यह सही है कि तर्क से ज्ञान नहीं होता। लेकिन अपने विश्वास को ज्ञान भी नहीं समझ लेना चाहिए! विश्वाश बिना विचार का प्रत्यक्ष ज्ञान है। बिना विचार किए किसी चीज को स्वीकार कर लेना विश्वास है न कि ज्ञान। ज्ञान का साधन *श्रद्धा* है। विश्वास तो एक प्रकार का अनादि अज्ञान है।
विश्वास और श्रद्धा में बहुत बारीक अंतर है। विश्वास में बुद्धि को बेच दिया जाता है। श्रद्धा में बुद्धि को बेचा नहीं जाता। विश्वास का ज्ञान संशय रहित होता है। पर श्रद्धा में संशय भी है।
किसी विश्वसनीय श्रोत से प्राप्त *अपने विश्वास के विपरीत बात को विचार के लिए स्वीकार करना लेना श्रद्धा है।*

*जैसे-* प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक ने विद्यार्थियों से कहा; *”पृथ्वी घूमती है।”* यह बात विद्यार्थियों के विश्वास के विरुद्ध है। क्योंकि विद्यार्थियों का पक्का विश्वास है कि पृथ्वी स्थिर है। लेकिन संशय रहने पर भी विद्यार्थी शिक्षक की बात पर श्रद्धा करते हैं,, और युक्ति पूर्वक विचार और परीक्षण करने वाले छात्रों का संशय नस्ट भी हो जाता है,, संशय रहित होने पर ही वह श्रद्धा ज्ञान में परिवर्तित होता है।

*”श्रद्धावान लभते ज्ञानम”* (गीता 4-39)


सीमा विवाद पर भारत और नेपाल के बीच तनातनी चल रही है, इस दौरान नेपाल निवासी भारतीय फिल्म अभिनेत्री मनीषा कोइराला ने ट्विटर के ज़रिये अपने देश का समर्थन किया है साथ ही उन्होंने इस मामले में चीन को भी तीसरा पक्ष बनाने की बात कही है, भारत इस समय विदेश निति के लिहाज़ से बुरी तरह विफल हुआ है, चीन को लेकर सिक्किम और लद्दाख में चीनी सेना के सिलसिले से खबरें आ रही थीं वहीँ पाकिस्तान को लेकर कश्मीर सीमा पर युद्ध जैसी इस्थिति है अब नेपाल से भी रिश्ते बिगड़ते नज़र आ रहे हैं, यह इस्थिति भारत के लिए असहज करने वाली है क्यूंकि नेपाल भारत का बहुत पुराना मित्र देश है जो कि अब भारत को आँखें दिखा रहा है साथ ही नेपाल के रिश्ते चीन से बहुत ज़ियादा गहरे हो गए हैं, आने वाले समय में चीन नेपाल में अपने बेस बना सकता है, बीजिंग से काठमांडू तक सड़क निर्माण और रेल यातायात पर पहले से ही काम चल रहा है


अमेरिका और इस्राईल की दोश्ती में भारत पडोसी देशों से मामलात बिगड़ रहे हैं, अमेरिका भारत को चीन के खिलाफ इस्तेमाल करने के लिए दोस्ती गांठ रहा है तो इस्राइल से आरएसएस के दशकों पुराने सम्बन्ध हैं, दोनों का मिशन ‘एंटी इस्लाम-एंटी मुस्लिम’ है, इस्राइल ग्रेटर इस्राईल बनाना चाहता है तो आरएसएस अखंड भारत, बतादें कि आरएसएस के मुख्य कर्ताधर्ता यहूदी नस्ल के लोग हैं जिनका निकास किनान यानी फिलिस्तीन से हुआ था और तब ये लोग भारत के गुजरात प्रान्त में आ कर बस गए थे…

नेपाल और भारत के सीमा विवाद की लड़ाई सोशल मीडिया में भी लड़ी जा रही है, एक तरफ नेपाल के पक्षधर ट्विटर पर ट्वीट कर रहे हैं तो दूसरी तरफ भारतीय लोग अपनी भड़ास निकाल रहे हैं


देखें कुछ ट्वीट

Manisha Koirala
@mkoirala

Replying to @thapaprabinjung @SuryaRAcharya and @saugatniroula5
is that not strange that when a country already has a master plan why to ignore it? why not sugget this to donors and make them agree on it? if the intensions are clear n no hidden agendas are there..they would agree,wouldnt they?


Manisha Koirala
@mkoirala
would you also say..Section 5.5 is the most serious one. 10 points stipulated in the agreement survive forever. They claim that the agreement is just five years (project implementation period) what is not true?

Manisha Koirala
@mkoirala
someone wise told me..”Keeping Nepal poor and making it an interest of donors to put money in project of their interest is also in the interest of most of our expert consultants. Not much understood by general Nepalese people…” when n who will let people know?


Rabi Lamich2ane
@hamrorabi
आजको कार्यक्रमको विशेष तयारीमा छौ।भारतीय मिडिया जस्तो बकम्फुसे हल्ला हैन,तथ्य र प्रमाणमा बोल्ने प्रयासमा छौ,I recommend fellow Indian Journalists to check the history,collect the evidences,read them all until you understand the fact and then enter to your studios.Or STOP NONSENSE


santosh gupta
@BhootSantosh
.
चीन जीत गया है.!
नेपाल के कई शहरों में भारत विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं, और भारत में लोग नेपाल के खिलाफ जहर उगल रहे हैं.!

सदियों से कायम आपसी रिश्ते कैसे और क्यों तार तार हुए.? क्यों हमारे सभी पड़ोसी देश एक के बाद एक चीन की गोद में बैठ रहे हैं.?

जबाब एक ही है :- चाय-दुकान.!!

Manisha Koirala
@mkoirala

Thank you for keeping the dignity of our small nation..we all are looking forward for a peaceful and respectful dialogue between all three great nations now Folded hands

Pradeep Gyawali
@PradeepgyawaliK
लिम्पियाधुरा, लिपुलेक र कालापानीसहितका भूभाग समेट्दै ७ प्रदेश, ७७ जिल्ला र ७५३ स्थानीय तहको प्रशासनिक विभाजन खुल्ने गरी नेपालको नक्सा प्रकाशित गर्ने मन्त्रिपरिषदको निर्णय । आधिकारिक नक्सा भूमिव्यवस्था मन्त्रालयले छिटै सार्वजनिक गर्दैछ ।

जुही
@Juhi____
This video proves that Indian media has poor and cheap journalism. They are good in adding false things, masala and shouting. Manisha Koirala
@mkoirala
is Nepali not Indian. She is a well-known actress due to her skills and hard work.Fisted handFisted handFisted hand
@ABPNews

MITHILA CALLING
@mithila_callin
#नेपाल_दोगला_है
Nepal don’t have ryt to proclaim over disputed areas . Lipulek, kalapani & Limpiyadura are still a disputed areas.Nepal was opposing when India was decided to build Kailash Mansarovar road before few days then they can’t publish their new map with disputed areas

Kapil Mishra
@KapilMishra_IND
नेपाल की सरकार जो कर रही हैं उसके लिए नेपाली नागरिकों या भारत में रह रहे नेपालियों के खिलाफ कुछ कहना लिखना मूर्खता होगी

चीन, माओवादी, नक्सलवादी हमेशा से चाहते हैं कि भारत और नेपाल के नागरिकों के बीच भावुक सम्बंध खराब हो

चीन इस खेल को कई बार खेल चुका, हर बार फेल ही हुआ हैं

कालापानी लिपुलेख नेपाल को हो Flag of NepalRaised fist
@prakashlc77

Manisha Koirala became bollywood queen on her own merit. That doesn’t mean she should support India while her motherland is being encroached.

म र मेरो नेपाल
@RAMESHB83430373
This Arnav Goswami is a ‘kalank’ in the name of journalism. By comparision, I find Dhamala a better journo!! Dr Minendra Rijal at his best to respond to Indian media and intelligentsia’s rehetoric on the Lipulekh and other border issues
via FB

Bishal Ghimire
@Bishal__Ghimire
“We are in the opposition. There are differences with the government. We also may disagree with his style, but we are with the Prime Minister on the border issue”!

Well said dr
@MinendraRijal

This should be right stand of the opposition in foreign policy issues!
#जय_नेपालFlag of Nepal

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *