देश

भारत और चीन सीमा पर टकराव : वह सच्चाई जिसे भारतीय मीडिया कभी नहीं बताएगा!

Wasim Khan Baloch-Indian
=============
ए चीन! पागल हो गया क्या??

क्या तुझे हमारी आधुनिक टीवी क्षमताओं का भान नहीं है. तू क्या आज भी हमें 60 के दशक जितना कमजोर समझ रहा है जब हमारे पास सिर्फ़ #दूरदर्शन था, वो भी प्रयोग के स्तर पर..?

अरे आज हमने टीवी की दुनिया में बुलंदियाँ छू ली हैं, प्राइम टाइम पर बतौलेबाज़ी करने में पाकिस्तान पछाड़ दिया है.

सुन ले चीन,

आज हमने #ज़ी और #रिपब्लिक जैसे अत्याधुनिक टीवी चैनल विकसित कर लिए हैं जिनकी क्षमताएँ अद्वितीय हैं. ये अकेले ही लगातार चौबीस घंटे ज़हर उगल सकते हैं.

और भूलना नहीं कि हमारे पास इंडिया टीवी भी है जो अकेले ही बगदादी को कई-कई बार मार चुका है. दाऊद का तो पैर तक सड़ा चुका है.

हमारे इन हथियारों को अगर तू कम आंक रहा है तो ये भी जान ले, हथियार की क्षमताओं से ज़्यादा अहम हथियार चलाने वाले का कौशल होता है. और इसके लिए हमारे पास ऐसे-ऐसे धुरंधर बतौलेबाज़ हैं जो आग लगवाने में मिनट नहीं लगाते. पलक झपकने से पहले दंगा करवा देते हैं. घणे चौधरी हैं…

सोच ये तेरा क्या करेंगे. तुझ पर ऐसी-ऐसी तुकबंदी फेंक के मारेंगे, वो भी बेहद घटिया क्वॉलिटी वाली कि तेरे कानों से खून निकल आए..

तुझे इनकी भाषा भले समझ न आए लेकिन ग्राफ़िक्स तो दिखेंगे ही. और ग्राफ़िक्स में तुझे ऐसा पेला जाएगा जैसे चाचा चौधरी की कॉमिक्स में साबू गुंडो को पेलता था. मतलब एकदम उठाकर पृथ्वी के गोले से ही बाहर फेंक देंगे.

‘नक़्शे से नामोनिशान मिटा देना’ ये तूने सिर्फ़ मेटाफ़र में सुना होगा, कहावत की तरह. हमारे चैनल ग्राफ़िक्स के इस्तेमाल से लिटरली ऐसा कर भी देंगे. स्क्रीन पर दुनिया का नक़्शा बना कर उसमें से चीन का नामोनिशान मिटा देंगे. फिर खोजते फिरना अपना देश…

इसलिए अब भी चेता जा. बाद में न कहना बताया नहीं था…

Rahul Kotiyal की वाल से ….

भारत और चीन के बीच चल क्या रहा है? वह सच्चाई जिसे भारतीय मीडिया कभी नहीं बताएगा

इस महीने की शुरूआत में हिमालय की ऊंचाईयों पर स्थित पैंगौंग झील पर भारतीय और चीनी सैनिकों में हाथापाई हुई और लात घूंसों के आदान-प्रदान ने कई सैन्य अधिकारियों को अस्पताल तक पहुंचा दिया तो भारतीय सेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे को कोई ख़ास चिंता नहीं हुई।

उन्होंने कहाः दोनों देशों की 4,000 किलोमीटर लम्बी सीमा पर कभी कभार इस तरह की छोटी-मोटी घटनाएं घटती रहती हैं।

लेकिन एक हफ़्ते बाद ही जनरल नरवणे को क्षेत्रीय राजधानी लेह में 14वीं बटालियन के मुख्यालय की और दौड़ना पड़ा, क्योंकि इस बार सबकुछ ठीक नहीं था, बल्कि कुछ गंभीर हो रहा था।

भारतीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़, चीनी सैनिक कई बिंदुओं पर अपरिभाषित सीमा को पार करके 3 से 4 किमी तक भारत की सीमा में घुस आए। उन्होंने भारतीय सेना की चौकियों और पुलों को नष्ट कर दिया और वहां खाई खोदकर टैंट लगा दिए। यह चढ़ाई गलवान और श्योक नदियों के संगम, हॉट स्प्रिंग्स तथा पैंगोंग झील के इलाक़ों में की गई है।

हालांकि सच्चाई यह है कि चढ़ाई करने वाले चीनी सैनिकों की सही संख्या और क़ब्ज़ा किए गए इलाक़े को लेकर अभी तक काफ़ी अनिश्चितता बनी हुई है। भारतीय सेना के पूर्व कर्नल अजय शुक्ला का अनुमान है कि इस चढ़ाई में तीन चीनी ब्रिगेड शामिल हैं और प्रत्येक ब्रिगेड में सैकड़ों नहीं बल्कि हज़ारों सैनिक हो सकते हैं, वे उत्तराखंड के पास दक्षिण में सैकड़ों किलोमीटर अंदर तक घुस गए हैं।

यह तस्वीर चीनी सेना की आक्रमकता को दिखाती है और उसकी एक हमलावर सेना की छवि पेश कर सकती है। केवल इतना ही नहीं, बल्कि भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करने वाले सैनिकों के समर्थन के लिए उनके पीछे सैनिकों की एक बड़ी संख्या होने की संभावना है।

जनरल नरवणे की पेशानी पर चिंता की लकीरों का उभरना और प्रधान मंत्री मोदी की परेशानी बिल्कुल सही है, इसलिए कि इस बार यह एक सामान्य हाथापाई नहीं है। इस बार गलवान घाटी के पश्चिम में उस क्षेत्र में यह घटनाएं घट रही हैं, जिसपर इससे पहले कभी चीन ने अपना दावा नहीं ठोंका था। हालांकि 1962 के युद्ध में चीनी सेना ने इस घाटी पर क़ब्ज़ा कर लिया था, जिसे बाद में वापस लौटा दिया गया। उन कई बड़े क्षेत्रों के विपरीत, जिन्हें आज भी भारत अपना बताता है, लेकिन उन पर चीन का क़ब्जा है। 25 मई को चीन के सरकारी अख़बार ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया था कि “गलवान वैली चीन का इलाक़ा है।”

मोदी सरकार चीन की इस घुसेपैठ को सीमा पर दो देशों के सैनिकों के बीच एक सामान्य टकराव दिखाने की नाकाम कोशिश कर रही है, जिसका भारतीय मीडिया भरपूर समर्थन कर रहा है और जनता तक सच्चाई नहीं पहुंचने दे रहा है।

इसकी गंभीरता का अंदाज़ा दोनों देशों के बीच अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प की लगातार दो बार मध्यस्थता की पेशकश से भी होता है। उन्होंने यह भी कहा है कि दोनों देशों के बीच तनाव को लेकर उनकी पीएम मोदी से बात हुई, जो काफ़ी नाराज़ थे।

उधर चीन के राष्ट्रपति शी जिन-पिंग ने चीनी सेना से सैनिकों के प्रशिक्षण को व्यापक करने और युद्ध के लिए तैयार रहने का आदेश दिया है।

हालांकि नई दिल्ली का कहना है कि वर्तमान संकट के समाधान के लिए मध्यस्थता की ज़रूरत नहीं है और उसकी सीधे बीजिंग से बात चल रही है, लेकिन यह भी वास्तविकता है कि गतिरोध को ख़त्म करने के लिए डिवीज़न कमांडर स्तर पर हुई कई दौर की वार्ता विफल रही हैं।

मोदी सरकार के हालिया कई फ़ैसलों से चीन काफ़ी नाराज़ है, इसलिए इस बार वह आसानी से पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है। चीन मोदी सरकार पर भरपूर दबाव बनाकर उसे इन फ़ैसलों पर पुनर्विचार करने पर मजबूर करने की नीति पर आगे बढ़ रहा है।

फिर बढ़ी चीन और अमरीका में तनातनी, चीन ने कहा हम कमज़ोर नहींं

चीन के प्रधानमंत्री ने अमरीका के साथ बीजिंग के बढ़ते तनाव की सूचना दी है।

रोएटर्ज़ के अनुसार ली जिपिंग ने गुरूवार को बताया है कि अमरीका के साथ चीन के नए मतभेद आरंभ हो गए हैं। उन्होंने कहा कि दोनो देशों के मतभेद अब नए चरण में पहुंच चुके हैं। चीन के प्रधानमंत्री का कहना है कि अमरीका की अधिक विशिष्टता हासिल करने वाली नीति ही बीजिंग एवं वाशिग्टन के बीच मतभेद का कारण है। इससे पहले चीन के रक्षामंत्री ही कह चुके हैं कि चीन तथा अमरीका के बीच प्रतिस्पर्धा बहुत ही ख़तरनाक एवं संवेदनशील चरण मे पहुंच गई है। एसे में चीन को कड़े प्रतिरोध का प्रदर्शन करना चाहिए। चीनी रक्षामंत्री से पहले चीन के राष्ट्रपति इस देश की सेना को हर प्रकार के मुक़ाबले का सामना करने का आह्वान कर चुके हैं।

ज्ञात रहे कि पिछले दो सप्ताहों के दौरान चीन और अमरीका में तनाव में तेज़ी से वृद्धि हुई है अमरीका के राष्ट्रपति ट्रम्प ने बीजिंग के साथ संबंध खत्म करने तक की धमकी दी है। चीन और अमरीका के संबंध जिस चरण से गुज़र रहे हैं उसे देखते हुए दुनिया के बहुत से विश्लेषक यह अनुमान लगाने लगे हैं कि इन दोनों के बीच टकराव की संभावना बहुत बढ़ती जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *