साहित्य

मम्मी को याद करते हुए……

Nirupma Ashok
===========

आज 23 मई है।आज ही के दिन 1985 में हमारी प्यारी मां श्रीमती कृष्णा अवस्थी ने हम सबको वेदना व्यथित करते हुए हमें छोड़कर महाप्रयाण किया था। उनके न रहने पर हम विराट मातृत्व बोध में उन्हें समाहित कर उन्हें याद करते रहे हैं तथा उनकी कही बातें दुहराते रहे हैं।

जीवन संघर्षों में जूझते हुए न चाहते हुए भी असमय उन्होंने विदा ली।उनका निधन हम लोगों के लिए अपूरणीय क्षति थी लेकिन उनका अटूट परिश्रम , अपने प्रोफेशन के प्रति अनंत निष्ठा तथा वात्सल्य भाव हम लोगों के लिए अनुकरणीय रहा है। राजकीय कन्या कॉलेज लखीमपुर में वे संस्कृत की प्राद्ध्यापिका थीं। अपने विद्द्यार्थियों में वे अत्यधिक लोकप्रिय थीं। उनकी हितचिन्ता में वे सदैव तत्पर और दत्तचित्त रहने वाली ममता मयी माँ शिक्षिका थीं। मुझे स्मरण है किसीसांस्कृतिक कार्यक्रम में छात्राओं की प्रतिभागिता कराने के लिये इतनी व्याकुल और लक्ष्यनिष्ठ रहती थीं कि हम लोग हतप्रभ रह जाया करते थे।कभी कोई उलाहना भी देता कि बहुत सी युवा शिक्षिकाएं हैं, उन्हें यह कार्य सौंप दिया करिये तो कहंती -उनके छोटे छोटे बच्चे हैं,देखो अभी नई नई शादी हुई है, उनकी घर परिवार की भी बहुत जिम्मेदारियां हैं–आगे चल कर उन्हें ही करना है। उनके दायित्व भी खुद संभाल लेती थीं। यह उनकी सरलता और सहृदयता थी।

हम सबको भाषा-साहित्य का सम्यक ज्ञान देने में न जाने कितनी कविताएं वे यूं ही रटवा दिया करती थीं। न जाने अपने कितने विद्यार्थियों में उन्होंने साहित्य संस्कार पल्लवित पुष्पित किया। वे प्रातः स्मरणीय आचार्य बाबूराम अवस्थी (हमारे चाचा जी)की संस्कृत परिषद में आजीवन सक्रिय रहीं।चाचाजी जो कार्यक्रम संस्कृत के उन्नयन के लिये सोचते थे,मम्मी प्राणप्रण से उसके प्रचार प्रसार में जुट जाती थीं।

वे बहु आयामी ज्ञान की धनी थीं। संस्कृत, अंग्रेजी, हिंदी और उर्दू साहित्य पर उनका बेजोड़ अधिकार था।पढ़ाई में वे स्वयं सदैव अव्वल रहीं। सरल स्वभाव सबसे बड़ा सदगुण है–अपने व्यक्तित्व और आचरण से उन्होंने प्रतिष्ठित किया। उनके त्याग और बलिदान, उनकी कर्मठताऔर कर्तव्यपरायणता से हम सभी भाई बहन आकंठ प्रभावित रहे।उसी से हम सब बने हैं। हम सबका जो भी श्रेष्ठ है,वह उन्हीं का प्रदाय है।वे सबकी स्मृतियों का कोहिनूर हैं।

हम सभी भाई-बहनों तथा स्वजनों की ओर से आत्मिक शृद्धाञ्जलि!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *