दुनिया

अमरीका में कितना गिर गया है बहस का स्तर!

इस समय अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प और उनके पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जान बोल्टन के बीच जारी जंग स्पष्ट रूप से यह दिखाती है कि अमरीका में बातचीत और बहस का स्तर इतना गिर गया है कि वह इतने बड़े अधिकारियों नहीं बल्कि सड़क पर चलते फिरते आम लोगों को भी शोभा नहीं देता।

राष्ट्रपति ट्रम्प जो अमरीका जैसे बड़े देश के सबसे बड़े प्रशासनिक पद पर विराजमान हैं फ़ाक्स न्यूज़ टीवी चैनल पर नज़र आए जिसे वह बहुत पसंद करते हैं और बोल्टन पर बहुत तेज़ हमला करते हुए उन्हें मूर्ख और मनोरोगी बताया और कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार का पद उन्हें देने पर बहुत पछतावा है।

लगता है कि नैतिक गिरावट की इस प्रक्रिया की कोई तय सीमा नहीं है। एक नया मुद्दा यह सामने आ गया है कि अदालत ने ट्रम्प की भतीजी द्वारा लिखी गई किताब पर भी रोक लगाने से इंकार कर दिया है। उनकी किताब का शीर्षक है कि मेरे ख़ानदान ने कैसे दुनिया का सबसे ख़तरनाक इंसान पैदा कर दिया।

उधर बोल्टन भी नैतिकता और सभ्यता की हर सीमा पार कर गए और उन्होंने ट्रम्प पर मूर्खता और झूठ बोलने का आरोप लगाया। बोल्टन ने अपनी किताब में लिखा कि ट्रम्प इतने मूर्ख हैं कि वह फ़िनलैंड को रूस का हिस्सा समझते थे और ट्रम्प के पिता कैनेडा में देह व्यापार का होटल चलाते थे।

वाइट हाउस के भीतर सत्ताधारी गलियारों में इस स्तर पर नैतिक पतन यह बता रहा है कि इस साम्राज्य का विध्वंस शुरू हो चुका है जिसने दुनिया के अनेक इलाक़ों में बेहद भयानक अपराध किए हैं। इसीलिए हमें अमरीका में होने वाली इस स्टडी पर कोई हैरत नहीं हुई कि अमरीका के भीतर आतंकवाद बहुत तेज़ गति से बढ़ रहा है और हो सकता है कि गोरों के वर्चस्व की वकालत करने वाले नस्ल परस्त गलियारे इसको बढ़ावा दें।

मारिया ट्रम्प से अपनी किताब का शीर्षक चुनने में ग़लती हुई। उन्होंने शीर्षक चुना कैसे मेरे ख़ानदान ने दुनिया का सबसे ख़तरनाक व्यक्ति पैदा कर दिया। मगर यह उनके ख़ानदान की ग़लती का नतीजा नहीं बल्कि उस नस्ल परस्त तबक़े की विनाशकारी ग़लती का नतीजा है जिसने ट्रम्प को अमरीका की सत्ता में पहुंचाया।

यह भी खेद की बात है कि ट्रम्प की पाठशाला से मध्यपूर्व में भी उनके कई शिष्य निकले हैं जो घटियापन में अपने उस्ताद से भी आगे हैं और संवाद के लिए किसी सभ्यता और सज्जनता के क़ायल नहीं हैं।

स्रोतः रायुल यौम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *