विशेष

नाम मुस्लमान है : सरेआम लाठी, डंडों से मारा : वीडियो

पहलू खान हो या हो इसरार हर मोड़ पर लिंचिंग रोकने में विफल रही है सरकार, सत्ता के सहयोग से भगवा मानसिकता के कट्टरपंथियों को अपने खुनी खेल पूरी आज़ादी मिली हुई है, 2014 में मोदी की हुकूमत आने के बाद से ही भारत में मुसलमानों, दलितों, पिछड़ों के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी हुई है

 

जान अब्दुल्लाह
============
क्या आपने कभी रेबीज से मरते आदमी की हालत देखी है?? जाकर यूट्यूब में वीडियो देख लीजिए अपनी ज़िंदगी पर शुक्र करोगे। पानी को नेमत जानोगे। 2015 की द हिन्दू की रिपोर्ट अनुसार भारत मे हर साल 20 से 45 हज़ार लोग रेबिज़ से मरते है। लेकिन अगर अगले 2 महीने तक यदि आपको 24 घण्टे इसकी अपडेट दी जाती रहे और वीडियो दिखाए जाते रहे तो बेशक ही आप कुत्तों को मारना शुरू कर दोगे। यह भी एक वायरल बीमारी है। इसी तरह पोलियो भी एक वायरल बीमारी है तथा पोलियो के अलावा दूसरे लकवे भी।

दुनिया मे लाखो वायरस है लेकिन चंद हज़ारो का नामकरण हुआ है। यदि आप अपनी इम्युनिटी मज़बूत करने के बजाए दूसरे सारे हथकंडों को अपनाओगे तो इसकी बहुत भारी कीमत आपको ही चुकानी पड़ेगी।

ऐसे लाखो लोग है जो रेबीज, पोलियो और कोरोना के वायरस के चपेट में आये लेकिन उनकी इम्युनिटी ने वायरस को हर दिया। कितने लाख इंजेक्शन लगवाओगे आप?? कितने दिन मास्क, लोक डाउन और डिस्टेंस मेंटेन करोगे आप।

प्रकृति के विरुद्ध जितने नियम आप बनाओगे उतने बार एक एक नियम को तोड़ने के बहाने भी खोजोगे और हाथ लगेगा कुछ नही।

पाखंड का जन्म इसी से होत्ता है, कुछ लोग जो स्त्री को अपने जीवन से प्रतिबंधित करके सोचते है कि आजीवन बिना शादी के रह लूंगा, ऐसे ही लोग शारीरिक दुष्कर्म में ज़्यादा पाए जाते है।

नेचर नार्मल है, आप एब्नार्मल मत बनिये

डॉ नॉर्मलिया

 

 

Saadkhan (سعد خان)
@_Saadkhan_8104
मॉब_लिंचिंग भारत की एक बड़ी समस्या है।
जब तक इसके खिलाफ कड़ा कानून नहीं बनेगा,लोग इसी तरह मॉब लिंचिंग का शिकार होते रहेंगे।
मामूली विवाद पर एक इंसान को पीट पीट कर मार डाला गया और किसी मीडिया हाउस में हलचल तक नहीं हुई।
क्या इंसान की जान इतनी सस्ती है?

Ashraf Hussain
@AshrafFem
Jun 22
सहारनपुर मॉब लिंचिंग में मारे गए इसरार के भाई ने कहा कि “हमने इसरार की 6 साल की बेटी निदा को यह नही बताया है कि उसके वालिद अब इस दुनिया में नहीं रहे। ठीक उसी तरह जिस तरह इसरार ने 4 साल की निदा को उसकी माँ के जाने के बाद यह नही बताया था कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं रहींCrying face

Daud Khan Ear of riceداؤد خانEar of rice
@DaudKhan3283
किस नींद में हो मुसलमानों?Thinking face
कौनसा ऐसा जुल्म हो कि हमारी आंख खुलेंगी?
बेहिशी की इंतेहा होती है लेकिन मुसलमानों ने उस इंतेहा को भी पार कर दिया है…
कब सड़को पे उतरोगे?

Ashraf Hussain
@AshrafFem
Jun 22
भीड़तंत्र द्वारा मॉब लिंचिंग में यूपी सहारनपुर के डेहरा गांव का इसरार मारा गया, इसरार पर अलग-अलग इल्जाम है कि उसने बालक पर हमला किया, वो मानसिक रूप से कमजोर था, वो मोटरसाइकिल लेकर भागा था। अगर ये सब सही भी है तो उसकी जान क्यों ली गई? किसने ली? कितनों पर कार्रवाई हुई? सवाल तो है…

@I_am_Hassan__
@I_am_Hassan___
Jun 22
भीड़तंत्र द्वारा मॉब लिंचिंग में यूपी सहारनपुर के डेहरा गांव का इसरार मारा गया, इसरार पर अलग-अलग इल्जाम है कि उसने बालक पर हमला किया, वो मानसिक रूप से कमजोर था, वो मोटरसाइकिल लेकर भागा था। अगर ये सब सही भी है तो उसकी जान क्यों ली गई? किसने ली? कितनों पर कार्रवाई हुई? सवाल तो है…


Ashraf Hussain
@AshrafFem
ये कैसी हैवानियत है?
मॉब लिंचिंग रोकने में केंद्र हो या राज्य सरकार, बिल्कुल नाकाम रही है। आतंकी भीड़ खुलेआम लोगों को मारती है, वीडियो बनाती है, उसे वाइरल भी करती है, क़ानून का खौफ ही नहीं, आखिर कब तक ये सब चलता रहेगा? कितने मासूम इसके शिकार होंगेCrying face
#MoblynchingGovtFailure

सड़क पे उतरने से क्या होता है वो अमेरिका से सीखना चाहिए मुसलमानों को…
पिछले 10 दिन में 4 लिंचिंग उत्तर

Wasiuddin Siddiqui
@WasiuddinSiddi1

ये लिंचिंग की घटना उत्तर पदेश के गांव कामंड की है जो हरियाणा बॉर्डर पर है इसमें से एक आदमी को क़त्ल कर दिया गया जो बुलंदशहर के रौंदा गाँव का है सरकार और पुलिस का इक़बाल खत्म हो रहा है योगी जी आखिर यूपी में पुलिस और कानून है कि नही ?

 

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *