उत्तर प्रदेश राज्य

यूपी : बसपा नेता नरेंद्र सिंह सेंगर उर्फ़ पिंटू सेंगर को मारी 18 गोलियां : मौक़े पर ही मौत : वीडियो

यूपी के कानपुर में शूटरों ने पिंटू सेंगर के शरीर पर ताबड़तोड़ 18 गोलियां दागी थीं। पोस्टमार्टम सूत्रों के अनुसार गोलियां पिंटू सेंगर के दिल, गुर्दा, लिवर समेत अन्य अंगों को डैमज कर गईं जिसके चलते उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

पांच गोलियां कमर, जांघ, घुटने में फंसी मिलीं, बाकी पार हो गईं। शरीर पर कुल 23 घाव मिले इसलिए एक्सरे करवाया गया। डॉक्टरों ने बताया कि हमलावर प्रोफेशनल शूटर थे।

वह किसी भी हाल में पिंटू को जिंदा नहीं छोड़ना चाहते थे। देर रात शुरू हुए पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई। पोस्टमार्टम हाउस के बाहर लग्जरी वाहनों की कतारें लगी रहीं।

लोग पूरी रात आते जाते दिखे। मुंगेर की पिस्टल से मारीं गोलियां पोस्टमार्टम  और फोरेंसिक रिपोर्ट से खुलासा हुआ कि 7.65 बोर पिस्टल से गोलियां बरसाई गईं।

जांच के मुताबिक मुंगेर की पिस्टलें चलीं हैं। इसलिए पुलिस को पूर्वांचल के शूटरों पर शक और बढ़ गया है। पुलिस को सीडीआर से कुछ अहम जानकारी भी मिली हैं। इसके आधार पर तहकीकात जारी है।

Pramod Kain agra
@PramodKain1
अत्यंत दुःखदCrying face कानपुर बसपा पूर्व विधानसभा प्रत्याशी नरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू सैंगर को दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या मौके पर हुई मौत
Bjpप्रशासन के लचीलेपन का नतीजा है कि की upमें लूट ,बलात्कार, हत्या जैसे जुर्म आसानी से हो रहे हैं कानून का कोई भय ही नहींAngry face

Satyamev Jayate Live UP
@SatyamevL
कानपुर-पूर्व बसपा नेता पिंटू सेंगर की हत्या का मामला,दो अधिवक्ताओं सहित आठ लोगों पर दर्ज हुई FIR,चकेरी थाने में दर्ज हुई FIR,हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए चार टीमों को किया गया गठित।
@kanpurnagarpol

Ratti Ram Meena
@RattiMeena
उत्तरप्रदेश में हत्याओं के सिलसिला रुकता नही नज़र आ रहा है बदमाशों के हौसले बुलंद है , कानपुर बसपा के नेता पिंटू सेंगर को दिनदिहाड़े बीच रोड में पिस्टल से गोली मार कर हत्या कर दी गई
जहाँ रामराज मे रोजाना हत्या और बलात्कार होते है
#जंगलराज

पिंटू सेंगर का आपराधिक इतिहास

छात्र राजनीति से समाजवादी पार्टी से दलीय राजनीति शुरू करके बसपा का दामन थाम चुके पिंटू सेंगर का आपराधिक इतिहास भी काफी लंबा है। कानपुर के कई थानों में उनपर करीब 28 मुकदमे दर्ज हैं। कानपुर देहात के गोगूमऊ के रहने वाले पिंटू ने अपनी मजबूत पकड़ से मां और पिता को भी राजनीतिक लाभ हासिल कराया था। आपराधिक इतिहास वाले इस पिता की बेटी अब अधिकारी बन गई और इस समय ट्रेनिंग पर है।

सबसे ज्यादा चकेरी थाने में केस

पुलिस रिकार्ड के मुताबिक पिंटू पर चकेरी, किदवईनगर, हरबंशमोहाल, बाबूपुरवा और कोहना में कुल 28 मुकदमे दर्ज हैं, इनमें 22 मुकदमे अकेले चकेरी थाने में हैं। पहला मुकदमा वर्ष 1990 में मारपीट व बलवा की धाराओं में चकेरी थाने में लिखा गया था। वर्ष 1996 में किदवई नगर में हुई हत्या में उनका नाम आया और मुकदमा दर्ज होने के बाद पिंटू को जेल जाना पड़ा था। उनके खिलाफ हत्या का एक, हत्या के प्रयास के चार, रंगदारी के दो मुकदमों के अलावा गैंगस्टर, गुंडा एक्ट, 7सीएलए और मारपीट के कई मुकदमे हैं। धोखाधड़ी की धारा में आखिरी मुकदमा वर्ष 2010 में चकेरी थाने में दर्ज हुआ था। पुलिस रिकार्ड के मुताबिक 28 मुकदमों में चार में वह दोषमुक्त हो चुके हैं।

पीसीएस-जे पास कर चुकी है बेटी

पिंटू सेंगर के परिवार का आपराधिक जीवन से दूर दूर तक नाता नहीं है। परिवार में उनकी पत्नी नीलम और बेटी अपर्णा है। स्वजन ने बताया कि उनकी बेटी ने हाल ही में पीसीएस-जे की परीक्षा उत्तीर्ण की है। वर्तमान वह ट्रेनिंग पर गई हुई है। पिंटू चार भाइयों में सबसे बड़े थे। भाई धर्मेंद्र सिंह एयरफोर्स से सेवानिवृत्त हुए हैं और देवेंद्र सिंह सेना में हैं, उनकी तैनाती अंबाला में है। सबसे छोटे भाई शैलेंद्र उर्फ डब्बू शहर में प्रतिरक्षा कर्मी है, मां जिला पंचायत सदस्य हैं तथा पिता सोनेलाल सिंह प्रधान हैं।

कानपुर के हिस्ट्रीशीटरों संग मिलकर पूर्वांचल के शूटरों ने मारा

कानपुर में हिस्ट्रीशीटर नरेंद्र सिंह सेंगर उर्फ पिंटू सेंगर हत्याकांड के तार पूर्वांचल से जुड़ने लगे हैं। कानपुर के हिस्ट्रीशीटरों के साथ मिलकर पूर्वांचल के शूटरों ने पिंटू को मौत के घाट उतारा। पुलिस ने हिस्ट्रीशीटरों की पहचान भी कर ली है।

इनके खिलाफ पुख्ता सुबूत जुटाने की कवायद चल रही है। एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगालने के साथ ही पुलिस ने फरार शूटरों की लोकेशन को भी ट्रेस किया। पता चला कि बाइकों पर सवार शूटर शुक्लागंज की तरफ भागे थे।

जांच में सामने आया कि शहर के दो हिस्ट्रीशीटर वारदात में शामिल रहे हैं। इनके साथ पूर्वांचल के शूटर मिले और फिर नरेंद्र की हत्या कर दी गई। चमनगंज क्षेत्र का एक शातिर हिस्ट्रीशीटर रडार पर है। वारदात में शहर की दोनों बाइकों का इस्तेमाल किया हैं। इन जानकारियों के आधार पर जांच आगे बढ़ाई है।

शानू ओलंगा हत्याकांड से भी जुड़ रहे तार शनिवार को चकेरी थाना क्षेत्र के जेके कॉलोनी आशियाना में जिस तरह दिनदहाड़े बेखौफ होकर नरेंद्र पर गालियां बरसाईं गईं, ठीक उसी तरह कुख्यात अपराधी शानू ओलंगा को भी सरेराह मौत के घाट उतारा गया था। इसमें भी एक लाल और दूसरी काले रंग की पल्सर का इस्तेमाल किया गया था।

इत्मिनान से वारदात को अंजाम देकर बदमाश भागे थे। आशंका है कि शानू की हत्या करने वाले शूटरों ने पिंटू को मारा है। फुटेज से उनका हुलिया भी मैच कर रहा है। शूटरों को मालूम था कि पंचायत कहां, कितने बजे से और किसके यहां है। इसलिए वे पिंटू के घर से ही पीछे लग गए और चंद्रेश के घर के बाहर उतरते ही पिंटू को भून दिया। इससे माना जा रहा है कि पंचायत से जुड़े किसी शख्स का भी हाथ हो सकता है जो सारी जानकारी लीक कर रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *