साहित्य

हम इसां ही तो हैं

Reema Kapoor
==============
ऊंगलियों पर गिन सकूं उतने ही अपने देना…,
ऐ खुदा जितने भी देना खास नगीने देना….

आत्महत्या से हत्या…
क्यों जरुरी है हमेशा खुश दिखना,
यदि हम उदास हैं तो क्यों नही रो सकते?
क्यों कुछ समय थक कर बैठ नही सकते?
किसी बात से भयभीत हैं तो डर जता नही सकते?
क्यों किसी हार या अवसाद से बाहर निकलने के लिए खुद को वक्त नही दे सकते?

हम इसां ही तो है बहुत सारी व्यक्तिगत परिस्थितियों से गुजरते हैं, ऊपर से एक दबाब हमेशा होता है हम सभी पर कि खुश दिखना है साकारात्मक दिखना है।
वर्ना लोग क्या कहेंगें?

ये लोग क्या कहेंगें वाली सोच ही कभी हमें जीने नही देती…..!

हम वास्तव में जो हैं, जिन परिस्थितियों या अवसाद से गुजर रहे हैं,
क्या.! उसपर खुलकर बात नही किया जा सकता?
कम से कम चुनिंदा लोगों से ही सही लेकिन बात करना बहुत जरुरी है..।

पुरी दुनियां कुछ भी सोचें लेकिन कुछ लोग तो जीवन में ऐसे होने जरुरी हैं जो हर परिस्थिति में हमारी सुन सके हमारा साथ दे सके….।

ऐसे खास रिश्तों को जीवन में शामिल रखना और उन्हें पहचान लेना जरुरी है, जो हमारे लिए निस्वार्थ भाव रखता हो।
हां बनावटी और नकारात्मक ऊर्जा वाले लोगों से दुरी भली…..,

हम बाहरी दुनिया से खुद को जोड़ लेते हैं लेकिन हमारे अंदर भी एक दुनियां है,
जिसे भुल जाते हैं।

बाहरी शोर, द्वेष, परेशानियों को अंदर मत आने दीजिए…,
अंतर्मन को साफ और शांत रहने दिजिए।
जिंदगी सिर्फ एक सपने या खुशी का नाम नही,
जो एक सपने के टुट जाने के बाद जिंदगी खत्म हो जाए।

जिंदगी में बहुत सी चीजें है जो जीवन से बांधती हैं।
एक बहुत बिगड़ी हुई तस्वीर में भी सुंदर रंग भरने के बाद वो सुंदर दिखने लगती है।
जीवन में कुछ बिगड़ भी गया हो तो फिर से उनमें खुबसूरत रंग भरने का हौसला रखना जरुरी है..,

खुद से ढे़र सारा प्यार किजिए,
खुद को वक्त दिजिए और याद रखिए हम हमेशा हमारे अपनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

कहा जाता है आत्महत्या जैसी सोच रखने वाले व्यक्ति को अगर आखिरी वक्त में भी सम्भाल लिया जाए तो वो जीवन की तरफ हमेशा के लिए मुड़ जाता है…।
डिप्रेशन दुसरी बीमारियों की तरह ही एक बीमारी है,
जिससे उबरने के लिए समय और अपनेपन की जरुरत है।
यदि आपको जरुरत है तो खुलकर अपने भरोसेमंद करीबियों से साथ और वक्त मांगिये।
सोचिए आपके न होने से आपके करीबियों पर क्या बीतेगी।

तमाम दुख और परेशानियों के बाद भी जीवन बहुत सुंदर है,
इसे कभी भी ना नही कहा जाना चाहिए….।
जीने की वज़ह ढुढिए…
जीवन बहुत ही खूबसूरत हैं..,
आइये इसे जीने की वज़ह खोजें…☺

🙏🙏🙏🙏🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *