दुनिया

इस्लामाबाद ने वूहान लैब के पाकिस्तान में “ख़ुफ़िया ऑप्रेशन” की ख़बर को निराधार बताया

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने ऑस्ट्रेलिया की एक मीडिया संस्था में प्रकाशित होने वाली उस ख़बर को जाली बताया है जिसमें कहा गया है कि वूहान लैब, पाकिस्तान में ख़ुफ़िया गतिविधियां कर रहा है।

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी करके कहा है कि इस ख़बर में तथ्यों को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है और अज्ञात स्रोतों का हवाला देकर झूठी बातें बयान की गई हैं। ज्ञात रहे कि ऑस्ट्रेलिया की एक मीडिया संस्था क्लिकज़ोन की रिपोर्ट में कुछ गुप्तचर विशेषज्ञों के हवाले से दावा किया गया है कि चीन के वूहान इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलोजी ने भारत और पश्चिमी प्रतिस्पर्धियों के ख़िलाफ़ व्यापक स्तर पर कार्यवाही के एक भाग के तौर पर पाकिस्तान में ऑप्रेशन्ज़ किए हैं।

23 जुलाई को प्रकाशित होने वाली इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यह ख़ुफ़िया सुविधा कथित रूप से एंथ्रेक्स जैसे पैथो जीन्ज़ बना रही है जिन्हें जैविक युद्ध में इस्तेमाल किया जा सकता है। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी होने वाले बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान की बायो सेफ़्टी लेवल-3 (बीसएसएल-3) लैब के बारे में कुछ भी छिपा हुआ नहीं है और इस्लामाबाद विश्वास बहाली के क़दमों के संबंध में जैविक व विषैले हथियारों के कन्वेन्शन (बीटीडब्ल्यूसी) को इस सुविधा के बारे में पूरी सूचनाएं दे रहा है। बयान में कहा गया है कि इस सुविध का उद्देश्य रिसर्च के माध्यम से उभरते हुए स्वास्थ्य संबंधी ख़तरों व चिंताओं और इसी तरह बीमारियों के बारे में जांच की सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर बनाना है।

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि पाकिस्तान, बीटीडब्ल्यूसी के अंतर्गत अपनी ज़िम्मेदारियों का कड़ाई से पालन करता है और इस सुविधा को ग़लत आयाम देने की कोशिश हास्यास्पद है विेशष कर कोरोना वायरस की महामारी के दौरान जिसकी वजह से बिमारियों पर नियंत्रण के लिए बेहतर तैयारी की ज़रूरत पैदा हुई है। याद रहे कि वूहान इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलोजी पर अप्रैल में सवाल उठे थे जब अमरीका ने इस मामले की जांच शुरू की थी कि कोरोना वायरस, इसी इंस्टीट्यूट से शुरू हुआ है।

वूहान इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलोजी चीन के वूहान शहर में स्थित है जिसे दुनिया भर में फैलने वाले कोरोना वायरस का केंद्र बताया जा रहा है। चीनी वैज्ञानिकों का कहना है कि यह वायरस संभावित रूप से एक बाज़ार में पशुओं से इंसानों तक पहुंचा है। इस इंस्टीट्यूट के अधिकारियों ने इस बात का कड़ाई से खंडन किया है कि कोरोना वायरस इस लैब से फैला है। अधिकारियों का कहना है कि इस बात का कोई कारण नहीं है कि हम इस प्रकार का वायरस तैयार करें। इन अधिकारियों का कहना है कि वूहान लैब का कोई भी कर्मचारी कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *