बिहार राज्य

#गया ज़िले के सूफ़ी, पीरमंसूर मस्जिद के इमाम साहब मौलाना_इक़बाल_अहमद_हसनी का इंतेकाल हो गया

Faisal Rahmani
===========
आज सुबह-सुबह एक निहायत अफ़सोसनाक ख़बर सुनने को मिली।

#इस्लामिक_स्कॉलर, #गया ज़िले के सूफ़ी, पीरमंसूर मस्जिद के इमाम साहब और एक नेक दिल शख़्सियत #मौलाना_इक़बाल_अहमद_हसनी का आज सुबह इंतेकाल हो गया।

मौलाना इक़बाल अहमद हसनी साहब #बिहार के सरज़मीं की जानी-मानी हस्ती थे जो हर ज़ात और मज़हब की इज़्ज़त करते थे। वो अपने ज़बरदस्त तक़रीर से सब पर गहरा असर छोड़ते थे।

ग़ौरतलब है कि पीरमंसूर को मज़हबी, समाजी और सियासी अक़ीदे का मरकज़ माना जाता है। इनकी सरपरस्ती में पीर मंसूर दरगाह को एक अलग पहचान मिली।
#मौलाना_इक़बाल_अहमद_हसन के अचानक चले जाने की ख़बर सुनकर शहर के लोगों में रंज-ओ-ग़म का माहौल है। मंगल को बाद नमाज़ अस्र कोली पोखर मदरसा गेवाल बिगहा में नमाज़-ए-जनाज़ा अदा की जाएगी।

वहीं दूसरी तरफ़ मौलाना हसनी के अपने भाई और #उर्दू के मशहूर #सहाफ़ी #ख़ुर्शीद_हाशमी का भी इंतेक़ाल हो गया। ख़ुर्शीद हाशमी कई सालों से उर्दू सहफ़ियत का जाना पहचाना चेहरा थे। उन्होंने उर्दू सहाफ़ियों के हक़ की लड़ाई के लिए तंज़ीम भी बनाई थी। ख़ुर्शीद हाशमी का वेसाल बीती रात तक़रीबन 11:00 बजे हुआ और बड़े भाई इक़बाल हसनी चार घंटे बाद तक़रीबन 3:00 बजे दुनिया से रुख़सत हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *