उत्तर प्रदेश राज्य

ग़ाज़ियाबाद से डकैती, नौयडा से हत्त्या : कानपुर में फिरौती में बीस लाख रुपये न मिलने पर बृजेश पाल की हत्या!video!

कानपुर देहात के भोगनीपुर के चौरा गांव स्थित धर्मकांटा के लापता मैनेजर का शव मंगलवार को देवराहट के कान्हाखेड़ा गांव के बाहर कुएं में मिला। 12 दिन पहले वह अंडवियर व बनियान में लापता हो गए थे। पुलिस ने उनके दोस्त को गिरफ्तार कर घटना का खुलासा किया है।

एसपी का दावा है कि मैनेजर के दोस्त ने नींद की गोलियां डालकर कोल्ड ड्रिंक पिलाई थी। इसके बाद कार में ही रस्सी से गलाघोंट कर हत्या कर दी थी और परिजनों से रकम वसूलना चाहता था। अकबरपुर कोतवाली में घटना का खुलासा करते हुए एसपी अनुराग वत्स ने बताया कि चौरा गांव निवासी ट्रक चालक शिवनाथ पाल का बेटा बृजेश पाल (25) गांव के ही जावेद के धर्मकांटा में बतौर मैनेजर नौकरी करता था।

15 जुलाई की रात वह कांटे से ही अंडरवियर व बनियान में लापता हो गया था। उसके पैंट शर्ट कांटे के अंदर टंगे मिले थे। 16 जुलाई की सुबह उसके फोन पर चचेरे भाई सर्वेश ने काल की तो फोन उठाने वाले ने बीस लाख रुपये मांगे थे। साथ ही पुलिस को सूचना देने पर हत्या करने की बात कही थी।

घटना के खुलासा में 12 टीमें लगाई गई थीं। टीमों ने कड़ी मेहनत के बाद बृजेश के दोस्त कन्हाखेड़ा देवराहट निवासी सुबोध सचान को हिरासत में लिया। उससे पूछतांछ करने पर घटना का खुलासा हो गया। उसने कोल्ड ड्रिंक में नींद की गोलियां मिलाकर पिलाने के बाद गला घोंट कर हत्या करने की बात कबूल की।

एसपी का दावा है कि पूरे घटनाक्रम को अंजाम सिर्फ सुबोध ने ही दिया है। उसने कुंए में शव फेंकने के बाद बीस लाख रुपये मांगे थे। सुबोध के पास दो ट्रक हैं उन पर लोन है। उसे रुपयों की जरूरत थी। इसके चलते उसने दोस्त की ही हत्या करके उसके परिजनों से रकम वसूलने की घिनौनी योजना बनाई थी।

एसपी के मुताबिक मृतक के मोबाइल फोन और चप्पलों की बरामदगी के लिए पुलिस टीम हत्यारोपी सुबोध को रात में भोगनीपुर कोतवाली से कान्हाखेड़ा गांव लेकर जा रही थी। रास्ते में उसने दरोगा की पिस्टल छीनी और गाड़ी से कूदकर भागने लगा। घेराबंदी करके पुलिस को गोली चलाने पड़ी। पैर में गोली लगने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

Raj Babbar
@RajBabbarMP

स्तब्ध कर देने वाला घटनाक्रम है।

कानपुर में फ़िरौती के लिए फिर एक अपहरण और हत्या। थोड़े दिनों पहले हुई घटना को जैसे दुहरा दिया गया है। गोरखपुर में अपहरण और हत्या वाली घटना को कुछ घंटे ही बीते हैं कि फिर कानपुर की घटना सामने आ गयी है।

क्या अपराधियों से हार गई योगी सरकार ?

Udaiveersingh
@UDhakre

अभी #YogiKaHatyaPradesh की कानपुर से गोरखपुर की ठीक से निंदा भी नहीं हो पाई थी,कि ग़ाज़ियाबाद से डकैती की और नौयडा से हत्त्या की ख़बर आ गई।NCR तक तो अपराधी पहुँच गए।लगता है कि
@AwasthiAwanishK
और
@myogiadityanath
जी जल्दी विधान सभा और लोकभवन भी इनके हवाले कर देंगे

UP Congress
@INCUttarPradesh

यूपी में अब अपहरण उद्योग फल – फूल रहा है।

कानपुर देहात में अपहरण के बाद हत्या, व्यापारी की अपहरण के बाद हत्या हुई, अपहृत व्यापारी की लाश कुएं में मिली, 11 दिन पहले व्यापारी का अपहरण हुआ , कानपुर देहात के भोगनीपुर का मामला।

Akhilesh Yadav
@yadavakhilesh

आज की सुबह अपहरण व हत्या की ख़बर से हुई और शाम भी इसी तरह की ख़बर से हो रही है। अब कानपुर देहात से ये दुःखद समाचार आया है। लगता है प्रदेश या तो संगठित अपराध के जाल में फंस गया है या फिर इसके पीछे कोई ऐसा है जो सत्ता से भी बड़ा हो गया है।

शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना।

umang misra
@umangmisra

जबकि कोरोना के मामले में सबने खुद को आत्मनिर्भर मान लिया
कानपुर में मंगलवार को 234 नए केस
एक दिन में 8 की मौत
एक्टिव केस 2234
अब तक 1952 ठीक हुए राहत की बात पर 187 नहीं बचे।शहर में 187 मौत कम नहीं।घर पर रहें।ये सामान्य वायरस नहीं, चुन कर शिकार करता है।
निकलना पड़े तो…मास्क+दूरी

Brajesh Misra
@brajeshlive

यह अत्यंत स्तब्ध करने वाला है | कानपुर देहात में 11 दिन पहले अपहृत हुए व्यापारी की लाश मिली है. 20 लाख की फिरौती नहीं मिली तो व्यापारी की हत्या कर दी गई. परिवार पुलिस से गिड़गिड़ाता रहा लेकिन इन अफसरो ने कोई गंभीर प्रयास नहीं किया. निकम्मे अफसरो को संरक्षण समाज पर भारी पड़ रहा है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *