विशेष

देश बिक रहा है : उनकी प्रार्थना अब सुनी गई है!

सरकार 23 सार्वजनिक कंपनियाँ बेचेगी, आप स्वागत नहीं करेंगे तो क्या करेंगे- रवीश कुमार

“मोदी सरकार की यही ख़ूबी है। उनकी समर्थक जनता हर फ़ैसला का समर्थन करती है। वरना 23 सरकारी कंपनियों के विनिवेश का फ़ैसला हंगामा मचा सकता था। अब ऐसी आशंका बीते दिनों की बात हो गई है। सरकार की दूसरी खूबी है कि अपने फ़ैसले वापस नहीं लेती है। सार्वजनिक क्षेत्र कंपनियों में भी मोदी समर्थक कम नहीं होंगे। वे ख़ुशी से झूम रहे होंगे। बल्कि समर्थक लोगों को ही इस फ़ैसले के समर्थन में स्वागत मार्च निकालना चाहिए ताकि एक संदेश जाए कि ये वो जनता नहीं है जो सरकार के फ़ैसले पर संदेह करती थी। जिन सरकारी कर्मचारियों ने भक्ति में छह साल गुज़ारे हैं उनकी प्रार्थना अब सुनी गई है। उनके ईष्ट की निगाह अब पड़ी है। सरकारी कंपनी बेचने का फ़ैसला वाक़ई गुलाब की ख़ुश्बू की तरह है। कंपनियों को बेचने में मोदी सरकार से देर हो गई। वरना यहाँ काम करने वाले समर्थकों को भक्ति का और समय मिल गया होता। बहुत पहले नौकरी से मुक्ति मिल गई होती।”

By मीडिया विजिल

Syed Faizan Siddiqui
=================·
#निजीकरण #बीपीसीएल
विदेशी हाथों में जाएगी दूसरी सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी भारत पेट्रोलियम?
देश की दिग्गज तेल मार्केटिंग कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड विदेशी कंपनियों के हाथों में जा सकती है। सऊदी अरब की तेल कंपनी अरामको और अमेरिकी कंपनी Exxon Mobil ने हिस्सेदारी खरीदने में रुचि दिखाई है। कंपनी में 52.98 फीसदी की हिस्सेदारी को खरीदने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट दाखिल करने की आखिरी तारीख सरकार ने 31 जुलाई तय की है। इस तारीख को पहले भी बढ़ाया जा चुका है, लेकिन अब सरकार को भरोसा है कि इसे बढ़ाना नहीं पड़ेगा और समय रहते इच्छुक निवेशक मिल जाएंगे। बिजनस इनसाइडर की रिपोर्ट के मुताबिक बीपीसीएल में हिस्सेदारी खरीदने को लेकर अब तक करीब 100 इन्क्वॉयरीज हो चुकी हैं।

सरकारी सूत्रों का कहना है कि सऊदी अरामको, अबू धाबी नेशनल ऑइल कंपनी, रूस की रोजनेफ्ट और अमेरिका की कंपनी Exxon Mobil बीपीसीएल की हिस्सेदारी खरीदने में रुचि दिखाई है। ये सभी कंपनियां बीपीसीएल की हिस्सेदारी की नीलामी में हिस्सा ले सकती हैं। हालांकि भारत की कंपनियां भी इस मामले में पीछे नहीं है। मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के मुताबिक मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड भी बोली में हिस्सा ले सकती है। फिलहाल इस डील के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट की डेडलाइन को दो बार बढ़ाया जा चुका है और 31 जुलाई आखिरी तारीख तय की गई है।

सरकार ने देश की महारत्न तेल कंपनी में 53.98 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला लिया है। इसके अलावा मैनेजमेंट कंट्रोल का भी ट्रांसफर किया जाएगा। बीपीसीएल की हिस्सेदारी खरीदने के लिए सरकारी कंपनियों पर रोक लगाई गई है, जबकि वैश्विक कंपनियों और निजी सेक्टर की भारतीय कंपनियों को इसकी मंजूरी दी गई है। कंपनी में निवेशकों को कम से कम 10 अरब डॉलर की रकम का निवेश करना होगा।

सरकार ने देश की महारत्न तेल कंपनी में 53.98 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का फैसला लिया है। इसके अलावा मैनेजमेंट कंट्रोल का भी ट्रांसफर किया जाएगा। बीपीसीएल की हिस्सेदारी खरीदने के लिए सरकारी कंपनियों पर रोक लगाई गई है, जबकि वैश्विक कंपनियों और निजी सेक्टर की भारतीय कंपनियों को इसकी मंजूरी दी गई है। कंपनी में निवेशकों को कम से कम 10 अरब डॉलर की रकम का निवेश करना होगा।
( जनसत्ता )

Shamsher Ali Khan
====================
#कैप्टन_हनीफुद्दीन जिन्होंने कारगिल युद्ध मे सिर्फ 25 साल की उम्र में अपनी जान को इस देश पर कुर्बान कर दिया था !
6 जून को जब ऑपरेशन थंडरबोल्ट के दौरान वो अपने यूनिट के साथ ऊपर की पहाड़ियों का जायजा ले रहे थे तभी ऊपर से गोलीबारी हुई वो अपनी यूनिट के अफसर थे इसके बावजूद उन्होंने खुद आगे बढ़कर मोर्च लिया और अपने सभी साथियों को नीचे मदद लेने भेजा और खुद फायरिंग करते रहे जबतक उनके पास गोलियां खत्म न हो गयी तब जाकर पाकिस्तानी घुसपैठियों ने बर्फ से लदे पहाड़ो पर इनको शहीद किया !!
खुद सेना अध्यक्ष वेद प्रकाश मलिक साब इनकी माँ श्रीमती हेमा अजीज के पास गए और कहा की हम अभी तक अपने जवान की लाश हासिल नहीं कर सके क्योंकि ऊपर बैठे दुश्मन लगतार फायरिंग कर रहे इनकी माँ ने कहा लाश लाने के लिए और जान गवाने की जरूरत नही दूसरे जवान भी किसी न किसी माँ के बेटे होंगे जब हमारी फौज वो इलाका जीते तो हम खुद वो जगह देखना चाहेंगे जहाँ मेरा बेटा शहीद हुआ है !!
ठीक डेढ़ महीने बाद उस इलाके को जीतकर इनके शरीर को वापस लाया जा सका जिसे दिल्ली में पूरे मिलिट्री सम्मान के साथ दफनाया गया और 18500 की ऊँचाई पर तुरतुक जहाँ वो शहीद हुए थे आज उसका नाम हनीफुद्दीन सब सेक्टर है !
#KargilHeroes

Satyendra PS
====================
योगी आदित्यनाथ और उनके पूर्ववर्ती महंत अवैद्यनाथ 28 साल लगातार गोरखपुर के सांसद रहे हैं। अब आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं।
यह उन्ही के संसदीय क्षेत्र के अन्तर्गत आने वाले सहजनवां विधानसभा क्षेत्र के तिलौरा -चड़रांव -सिसई -पीपीगंज मार्ग के चड़रांव- सिसई के बीच का दृश्य है।
पाली ब्लॉक का यह कछार क्षेत्र हर साल बिना नदी का पानी आये सिर्फ बरसात के पानी से डूब जाता है। पचास से ज्यादा गांवों की हजारों एकड़ से ज्यादा फसल डूब जाती है। मुख्य मार्ग बंद हो जाता है, और तब तक डूबा रहता है जब तक की नदी का पानी घटने न लगे। भले ही तब तक फसल, रास्ते व गाँव के गाँव बर्बाद व तबाह हो जाए!
इलाके के लोग मांग करते रहे हैं कि राप्ती नदी के चोरमा रेगुलेटर पर हैवी पंप लगा दिया जाए। इससे यह 50 गांव हर साल डूबने से बचे रहेंगे या बुरी तरह नहीं डूबेंगे।
– S.p. Singh

Ajit Sahni
====================
एक औरत एक मौलवी साहब के पास गयीं “मौलवी साहब कोई ऐसा तावीज़ लिख दीजिये के मेरे बच्चे रात को भूख से ना रोया करें”
मौलवी ने एक तावीज़ लिख दिया और कहा इसे संदूक में रख दो..
अगले ही रोज़ किसी ने रुपयों से भरा थैला उस औरत के सेहन में फेंक दिया..
उस औरत के शौहर ने एक दुकान किराए पर ली, कारोबार बढ़ता गया, दुकानें और बढ़ गयी, earning बढ़ने लगी…
एक दिन उस औरत की नज़र उस संदूक पर पड़ी,जिसमें उसने तावीज़ को महफूज़ रख्खा था, “जाने मौलवी साहब ने तावीज़ में क्या लिखा है” संदूक खोला और तावीज़ पढने लगी लिखा था
“जब पैसे मतलब भर के हो जाए तो सारा पैसा संदूक में छुपाकर रखने की बजाए कुछ ऐसे घरों में डाल देना जहाँ रात को बच्चों की रोने की आवाजें आती हो”.
Via – Deepti Mishra

मुदित मिश्र
=============
Hazrat Ali {As} said to Kamil: O Kamil, knowledge is better than wealth.
Knowledge guards you but you are guarding wealth. Knowledge dispenses justice, while wealthseeks justice. Wealth decreases with expense while knowledge increase with expense. He said: Alearned man is better than one who prays and fights in the way of God. When a learned man dies,such a calamity befalls on Islam which cannot be removed except by his successor.

हज़रत अली {जैसा} ने कामिल से कहा: ऐ कामिल, दौलत से बेहतर ज्ञान है ।
ज्ञान आपकी रक्षा करता है लेकिन आप धन की रक्षा कर रहे हैं । ज्ञान न्याय की व्यवस्था करता है, जबकि धन न्याय करता है । खर्च से धन कम हो जाता है जबकि ज्ञान खर्च से बढ़ता है । उसने कहा: अलेर्नड आदमी उस व्यक्ति से बेहतर है जो भगवान के मार्ग में प्रार्थना करता है और लड़ता है । जब एक विद्वान व्यक्ति मर जाता है तो इस्लाम पर ऐसी विपत्ति आ जाती है जिसे उसके उत्तराधिकारी के अलावा नहीं हटा सकते ।

Alhamd Husain
====================
जब स्पेन में छुरी और नेजों से हजारों बैल हलाक हो जाते है और अज़ीयत देते हुए कहते है “ये तो एक खेल है”।
और जब डेन मार्क में हर साल सैकड़ों अफ़राद हजारों डॉल्फिन को कत्ल कर देते है (यहाँ तक कि समंदर का रंग सुर्ख हो जाता है) वह कहते है ये एक त्योहार है।
और जब यहूदियों का एक गिरोह हजारों मुर्गियों को पत्थरों पर मार देते है वह अपने अक़ीदे के मुताबिक इसी तरह उनके गुनाह माफ हो जाते है। वह कहते है अक़ीदा और मजहब!
और जब इसाई भारती परिंदों को जबह करते है नए साल के दिन और उसको अपना मकबूल खाना कहते है।
लेकिन मुसलमान जानवर को कुर्बान करके सुन्नत इब्राहिम और वो भी इतना एहतियात बरते की छुरी तेज हो, जानवर को चारा व पानी डाल कर फिर कोई और जानवर सामने न हो और उनकी गोश्त दुनियाँ के मसाकिन में तकसीम हो।
कुफ्फार के पले हुए सोसल मीडिया पर नमूदार होते है। इस्लाम और कुर्बानी के खिलाफ अपनी बकवास शुरू कर देते है… कि कुर्बानी के जानवर खरीदने से बेहतर है किसी गरीब की मदद की जाए वगैरह लेकिन याद रखें कुर्बानी है ही गरीब तक सेहतमंद जानवर का गोश्त पहुंचना।

Syed Tashhirul Islam
==================== ·
क्या आप जानते है ये तस्वीर किस देश की है अगर नहीं जानते तो ये ज़रूर जान लीजिए, ये उस देश की तस्वीर है जहां पर चुनाव के माध्यम से चुना हुआ विधायक बिकता है और फ़िर जनता के पैसे लूट कर अपनी तिजोरी भरता है ।

Rahul Gandhi
====================
रफ़ाल विमान के लिए IAF को बधाई।
लेकिन क्या सरकार इन सवालों के जवाब देगी:
1) प्रत्येक विमान की क़ीमत ₹526 करोड़ की बजाए ₹1670 करोड़ क्यों दी गयी?
2) 126 की बजाए सिर्फ़ 36 विमान ही क्यों ख़रीदे?
3) HAL की बजाए दिवालिया अनिल को ₹30,000 करोड़ का कांट्रैक्ट क्यों दिया गया?

Sikander Kaymkhani
====================
“जीव-हत्या का कट्टर विरोधी है, लेकिन”!
● साग-सब्जी खाएगा! (जबकि इसमे भी जीवन है)
● मछली खाएगा!
● टूथब्रश करेगा! (इससे किड़े-मकोड़े मरते है)
● खेतों मे कीटनाशक दवाई देगा!
● सोते समय मच्छर मारने वाले दवाई का प्रयोग करेगा!
● नहाते समय साबुन का प्रयोग करेगा, यह जानते हुए भी कि इससे शरीर मे लगे विषाणु मरते हैं!
● रास्ते मे चलते समय न जाने कितने जीव पैरों के नीचे आ जाने के कारण मर जाते हैं, लेकिन फिर भी रास्ते पर चलते हैं!
● साल के 365 दिनों मे 1 दिन ही कुर्बानी होती है जबकि 364 दिन क्या तुम मर जाते हो? जबकि रोजाना लाखों जीवों को कटकर महंगे दामों मे बेचा जाता है।
● मुस्लिम से ज्यादा हिंदू धर्म मे जीव-हत्या किया जाता है, विश्वास न हो तो Google पर और Youtube पर वीडियो देखलों, कोई एक मंदिर नही बल्कि हजारों मंदिर मे लाखों जानवरों की बलि दी जाती है!
● बीफ के निर्यात मे भारत नंबर एक का पायदान प्राप्त कर चुका है और इनमे 50% गाय 30% भैंस और 20 बकरे का मांस होता है,
अब यह मत बोलना कि भारत बीफ नही कद्दू के निर्यात मे नंबर एक पायदान प्राप्त कर चुका है!
इस पोस्ट को शेयर करके बंद अक्ल वालों के अक्ल को खोलिए और भारत के निर्माण मे सहयोग करें!!! शुक्रिया!

 

डिस्क्लेमर : इस आलेख/post/twites में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *