देश

राजस्थान : सचिन पायलट व् 2 मंत्रियों को गहलोत कैबिनेट से हटाया, भाजपा के साथ मिलकर सरकार गिराना चाहते थे सचिन पायलट : रिपोर्ट

कांग्रेस पार्टी ने सचिन पायलट को राजस्थान के उपमुख्यमंत्री पद से हटा दिया है।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस पार्टी ने पायलट समर्थक 2 मंत्रियों को भी अशोक गहलोत कैबिनेट से हटा दिया गया है। इसके साथ ही कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से भी पायलट को हटा दिया गया है। पर्यवेक्षक बनाकर जयपुर भेजे गए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह घोषणा की है। सुरजेवाला ने नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम की घोषणा करते हुए कहा कि किसान के घर में जन्मे और ओबीसी समाज से आने वाले राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को यह ज़िम्मेदारी दी गई है।

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि सचिन पायलट और उनके कुछ मंत्री साथी, बीजेपी के षड्यंत्र में भटकर कर कांग्रेस पार्टी की चुनी गई सरकार को गिराने का साजिश कर रहे हैं, यह अस्वीकार्य हैं। इसलिए बड़े दुखी मन से कांग्रेस पार्टी ने कुछ फ़ैसले लिए हैं। सचिन पायलट, विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को उपमुख्यमंत्री और मंत्री पद से हटाया जा रहा है। विश्वेन्द्र सिंह के पास पर्यटन और देव स्थान मंत्रालय था तो मंत्री रमेशचंद मीणा खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग, उपभोक्ता मामले विभाग की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

पार्टी ने मौजूदा राजनीतिक संकट के बीच कांग्रेस विधायक दल की बैठक में न आने वाले और पायलट के साथ गए मंत्रियों के अलावा दो अन्य विधायकों को भी उनके पदों से हटा दिया है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा पार्टी ने राजस्थान प्रांत युवा कांग्रेस के अध्यक्ष पद से मुकेश भाकर को हटा दिया है। उनकी जगह विधायक गणेश घोघरा नए अध्यक्ष होंगे। इसी तरह राकेश पारीक को हटाकर हेम सिंह शेखावत को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस सेवा दल का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

उधर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यपाल कलराज मिश्रा से मुलाकात की। दोनों की यह मुलाकात राजभवन में हुई।

राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार के ख़िलाफ़ बग़ावती रुख़ अपनाने वाले नेता सचिन पायलट ने राज्य में राजनैतिक घटनाक्रम पर पहली बार प्रतिक्रिया देते हुए मंगलवार को कहा कि सत्य को परेशान किया जा सकता है, लेकिन पराजित नहीं।

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने ट्वीट किया कि सत्य को परेशान किया जा सकता है, पराजित नहीं। इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्विटर प्रोफाइल से उप मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का उल्लेख हटा दिया।

Ravita Punia
@ravita4ever
यह रोज़ रोज़ थोड़े थोड़े MLA खरीदने से बेहतर है कि सीधा
@RahulGandhi
से ही बात कर ले, थोक मूल्य में पूरी #Congress ले ले!
#RajasthanPoliticalCrisis Face with tears of joy

Ravita Punia
@ravita4ever
#कोरोना भारत में विकराल रूप ले चुका है, घर से तब ही निकलो जब #विधायक खरीदना हो!

The Times Of India
@timesofindia
BJP held a meeting today at their party office in #Rajasthan over the current political situation in the state. Party’s state president Satish Poonia and party leaders Om Mathur, Gulab Chand Kataria & Rajendra Rathore were present at the meeting. (ANI)

राजस्थान में राजनैतिक संकट, गहलोत सरकार बची है

भारत के राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि उनके पास बहुमत मौजूद है।

उन्होंने सोमवार को विधायक दल की बैठक दो घंटे तक टाले जाने के बाद दोपहर 1 बजकर 15 मिनट पर अशोक गहलोत के आवास पर मीडिया के सामने विधायकों के संग शक्ति प्रदर्शन किया गया। सोनिया गांधी और राहुल गांधी ज़िंदाबाद नारों के बीच सीएम अशोक गहलोत ने पर्यवेक्षक रणदीप सिंह सुरजेवाला और अजय माकन के साथ विक्ट्री निशान बनाया।

कांग्रेस पार्टी ने 109 विधायकों के बैठक में मौजूद होने का दावा किया है हालांकि सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के करीब 17 विधायक बैठक से ग़ायब रहे। दूसरी तरफ पायलट गुट अभी भी 30 विधायकों के समर्थन का दावा कर रहा है।

इससे पहले राजस्थान विधानसभा में उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने संवाददाताओं से कहा कि राज्य की अशोक गहलोत सरकार को कोई दिक्कत नहीं होगी और भाजपा के किसी भी तरह की योजना राज्य में कामयाब नहीं होंगे।

पायलट ने दावा किया था कि कांग्रेस के 30 से अधिक विधायकों और कुछ निर्दलीय विधायकों द्वारा उन्हें समर्थन देने के वादे के बाद अशोक गहलोत सरकार अल्पमत में है। ज्ञात रहे कि 200 सदस्यों की विधानसभा में कांग्रेस के 107 और भाजपा के 72 विधायक हैं।

दूसरी ओर रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व ने पिछले 48 घंटे में सचिन पायलट से अनेकों बार बात की है। व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा वाजिब हो सकती है लेकिन राजस्थान व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा से बड़ा है। सुरजेवाला ने कहा कि अगर कोई मतभेद है तो सचिन पायलट समेत सभी विधायकों के लिए कांग्रेस पार्टी के दरवाजे सदैव खुले थे, हैं और रहेंगे।

सुरजेवाला ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा के 3 अग्रिम विभाग हैं आयकर विभाग, ईडी और सीबीआई, जब भी मोदी सरकार, भाजपा को प्रजातंत्र की हत्या करनी होती है तो भाजपा के ये विभाग सबसे पहले आगे आकर खड़े हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *