देश

राम जन्म भूमि पूजन हो सकता है तो सीएए के विरुद्ध प्रदर्शन क्यों नहीं : असम में हुआ विशाल प्रदर्शन!

संगठन के सदस्यों ने गुवाहाटी में निषेधाज्ञा का उल्लंघन किया जिस वजह से उन्हें गिरफ़्तार किया गया। अन्य स्थानों पर उन्होंने अपनी मांगों के समर्थन में मानव श्रृंखला और कलाकृतियां बनाई।

असम की राजधानी में केएमएसएस समर्थकों ने धारा-144 का उल्लंघन कर मानव श्रृंखला बनाई और नारेबाज़ी की तथा गोगोई की रिहाई और सीएए को वापस लेने की मांग की।

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद गोगोई का गुवाहाटी चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल में इलाज चल रहा है।

वह गुवाहाटी जेल में क़ैद रहने के दौरान संक्रमित हो गए थे। गोगोई पिछले साल सीएए के विरोध में हिंसक प्रदर्शन करने के आरोप में जेल में हैं।

केएमएसएस अध्यक्ष राजू बोरा ने कहा कि समूह ने मंगलवार को सीएए के खिलाफ आंदोलन फिर से शुरू कर दिया है और क़ानून के वापस लिए जाने तक यह जारी रहेगा।

उन्होंने कहा कि इस बार विरोध अधिक एकजुट और शक्तिशाली होगा. भाजपा सरकार अखिल गोगोई से डरती है इसलिए उन्हें जेल में रखा है. वह गोगोई को जेल में रखकर लोगों की आवाज दबाना चाहती है।

बता दें कि नागरिकता संशोधन क़ानून “सीएए” के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शनों के दौरान पिछले साल 12 दिसंबर को अखिल गोगोई को जोरहाट से गिरफ्तार किया गया था। 13 दिसंबर को असम पुलिस ने उन पर राष्ट्रद्रोह का मामला दर्ज किया और 14 दिसंबर को मामला एनआईए के पास पहुंचा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *