उत्तर प्रदेश राज्य

राम मंदि भूमि पूजन से पहले मंदिर के मुख्य पुजारी और 16 सुरक्षाकर्मी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए : बाबरी मस्जिद को भूल मत जाना!

पांच अगस्त को विवादित स्थल अयोध्या में श्रीराम मंदिर शिलान्यास और भूमि पूजन से पहले मंदिर के पुजारी प्रदीप दास और सुरक्षा पर तैनात 16 जवान कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि इनमें फ़ायर ब्रिगेड के सिपाही, पीएसी और पुलिस जवान शामिल हैं। पुजारी प्रदीप दास राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास के सहायक हैं। मुख्य पुजारी के साथ चार अन्य पुजारी मंदिर की सेवा करते हैं। प्रदीप दास के कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद प्रशासन ने मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास और तीन अन्य पुजारी का भी कोरोना टेस्ट कराने का फ़ैसला किया है। कोरोना संक्रमित 16 पुलिसकमियों को भी क्वारन्टाइन किया गया है। जन्मभूमि की सुरक्षा में तैनात अन्य सुरक्षाकर्मियों की जांच प्रक्रिया जारी है।

ज्ञात रहे कि 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, लाल कृष्ण आडवाणी, संघ प्रमुख मोहन भागवन जैसी प्रमुख हस्तियां, राम मंदिर का भूमि पूजन और शिलान्यास करने अयोध्या जा रहे हैं।

Prof. इलाहाबादी ( نور )
@ProfNoorul

भूमि पूजन करने वाला पुजारी हुआ कोरोना पॉजिटिव, साथ में 16 अन्य लोगों के पॉजिटिव की खबर है। ऊपर वाले का खेल भी अपरम्पार है, जब मस्जिदें बन्द हैं तो मंदिरों में पूजन कैसे हो सकती है..?


– पीएम मोदी का भूमि पूजन में शामिल होना संविधान की शपथ का उल्लंघन: ओवैसी

– 5 अगस्त के भूमि पूजन को और गौरवशाली बनाने के लिये सभी 70 विधानसभाओं में लगाई जायेगी एलइडी-प्रदेश अध्यक्ष श्री
@adeshguptabjp

– Suresh Goyal
@sureshgoyal24
Jul 28
भूमि पूजन के दौरान रामलला को नो रत्नों से जडि़त पोशाक पहनाई जायेगी… ये सभी 9 रत्न अलग अलग प्रकार के होंगे …भूमि पूजन हेतु बदरीनाथ धाम की मिट्टी, अलकनन्दा का जल…

– India TV Hindi
@IndiaTVHindi
Jul 28
राममंदिर की नींव में रखी जाएगी यह 22.6 किलो चांदी की ईंट, पीएम मोदी करेंगे

– Zee News
@ZeeNews
Jul 28
अयोध्या में हमला कर सकते हैं जैश और लश्कर के आतंकी, खुफिया एजेंसियां अलर्ट पर.
#RamMandir

Anil Chaturvedi
@anilpricha

अपने अहंकार वश राहु -केतु ने राम मंदिर में भी कोरोना के जाल में फंसाया।
राम जन्मभूमि के पुजारी ‘दास’ कोरोना पॉजिटिव, सुरक्षा में तैनात 16 पुलिसकर्मी भी संक्रमित,भूमि पूजन से पहले हड़कम्प
लगता है श्री राम भी प्रसन्नं नहीं है भाद्रपद मास में अपने मंदिर के भूमि पूजन से

NDTV India
==========
Prime Time With Ravish Kumar – July 30, 2020: 21वीं सदी की नई शिक्षा नीति आई है. 21वीं सदी के बीसवें साल में. सबसे पहले 1968 में शिक्षा नीति बनी थी. फिर 1986 में इसे बनाया गया और 1992 में संशोधित किया गया.कहा जा रहा है कि नई शिक्षा नीति 34 साल बाद आई है. हालांकि साल 2000 और 2005 में NCERT ने प्राथमिक और माध्यमिक स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम को बदला था. 2009 में राष्ट्रीय मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा कानून पास किया गया था. 2017 में यूजीसी ने इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस नियमन जारी किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *