देश

राम जन्म स्थली के बाद अब महात्मा गौतम बौद्ध की जन्म स्थली पर भारत और नेपाल के बीच जंग!

भारतीय विदेशमंत्री एस. जयशंकर द्वारा महात्मा गौतम बुद्ध को भारतीय बताने के बाद नया विवाद पैदा हो गया है और नेपाल ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है।

सत्ताधारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी और विपक्षी नेपाल कांग्रेस के नेताओं ने जयशंकर के बयान पर आक्रोश जताया है। एनसीपी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल ने कहा कि जयशंकर का बयान शरारतपूर्ण है।

उधर नेपाल के विदेश मंत्रालय ने भी एक बयान में कहा कि यह सु-स्थापित और ऐतिहासिक प्रमाणों के आधार पर साबित अकाट्य तथ्य है कि बुद्ध का जन्म नेपाल स्थित लुम्बिनी में हुआ था। बुद्ध की जन्मस्थली और बौद्ध धर्म की स्थापना से जुड़े स्थानों में से एक लुम्बिनी, यूनेस्को के विश्व विरासतस्थलों में से एक है।

नेपाली विदेशमंत्रालय ने कहा कि 2014 में अपनी नेपाल यात्रा के दौरान नेपाल की विधायी संसद को संबोधित करते हुए ख़ुद भारतीय प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि नेपाल वह देश है, जहां विश्व में शांति के प्रतीक बुद्ध का जन्म हुआ था।

ज्ञात रहे कि शनिवार को एक वेबिनार के दौरान भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा था कि बुद्ध और महात्मा गांधी दो महान भारतीय थे।

उन्होंने कहा था कि अभी तक के दो महान भारतीय कौन हैं जिन्हें आप याद करते हैं, मैं कहूंगा एक गौतम बुद्ध और दूसरे महात्मा गांधी हैं, वे केवल ऐसे भारतीय नहीं हैं जिन्हें सिर्फ़ हम भारतीय याद करते हैं बल्कि वे ऐसे भारतीय हैं जिन्हें पूरी दुनिया याद करती है।

दूसरी ओर भारत की ओर से गौतम बुद्ध की जन्मस्थली को लेकर उत्पन्न विवाद को ख़ारिज करते हुए भारत के विदेशमंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि विदेश मंत्री एस. जयशंकर की टिप्पणी ‘हमारी साझा बौद्ध विरासत’ के बारे में थी।

उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि गौतम बुद्ध का जन्म लुम्बिनी में हुआ था जो नेपाल में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *