विशेष

जानिये किस के डर से छुप छुप कर रहते हैं इस्राईली सैनिक, हिब्रू समाचार पत्र की यह रिपोर्ट ज़रूर पढ़ें!

इस्राईली विश्लेषक ने हिब्रू समाचार पत्र में लिखा है कि हिज़्बुल्लाह के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह को इस्राईल की कमज़ोरियों के बारे में बहुत अच्छी तरह से मालूम है और वह हमें अलर्ट रख कर मज़े ले रहे हैं।

एलोन बेन डेविड ने इस्राईल के मआरियो समाचार पत्र में लिखा कि उत्तरी सीमा पर रहने वाले यह शिकायत कर रहे हैं कि अब उन्हें सीमा पर गश्ती सैनिक क्यों नहीं नज़र आ रहे हैं?

इस्राईल के इस सैन्य विश्लेषक ने लिखा कि इस्राईल की खुफिया एजेन्सियों में यह सवाल किया जा रहा है कि इस्राईल किस तरह से सीरिया मे मार खाएगा क्योंकि हसन नसरुल्लाह हमेशा यह संकेत करते रहे हैं कि हर कार्यवाही का जवाब ज़रूर दिया जाएगा।

उन्होंने लिखा कि सैयद हसन नसरुल्लाह हमें चौकन्ना रख कर खुश होते हैं और उन्हें आंनद आता है।

बेन डेविड ने लिखा कि उत्तरी सीमा के लोगों को जब इस्राईली सैनिक नज़र नहीं आते तो उन्हें अपनी सुरक्षा की ओर से चिंता हो जाती है। इस्राईल हालांकि यह धमकी देता है कि अगर किसी इस्राईली सैनिक पर हमला किया गया तो लेबनान के मूलभूत ढांचे को निशाना बनाया जाएगा लेकिन हसन नसरुल्लाह यथावत इस बात पर बल दे रहे हैं कि हिज़्बुल्लाह के किसी सदस्य को निशाना बनाए जाने का निश्चित रूप से जवाब दिया जाएगा।

बेन डेविड ने कहा कि हसन नसरुल्लाह की बात सही है और हिज़्बुल्लाह निश्चित रूप से एक इस्राईली सैनिक को निशाना बनाएगा और इस्राईल उसका सीमित जवाब देगा।

इसी मध्य इस्राईली समाचार पत्र यदीऊत अहारोनूत ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि इस्राईली सेना, हिज़्बुल्लाह की ओर से जवाबी कार्यवाही का सामना करने के लिए तैयार है लेकिन इस्राईली वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों का कहना है कि अगर जैसा कि सैयद हसन नसरुल्लाह बार बार कह रहे हैं, इस्राईली सैनिक को निशाना बनाया गया तो उसका जवाब बहुत व्यापक रूप से दिया जाना ज़रूरी है भले ही उसके लिए उत्तरी सीमा पर कुछ दिनों तक युद्ध ही क्यों न करना पड़े।

इस्राईली सेना का कहना है कि हिज़्बुल्लाह, उसके खिलाफ सैन्य कार्यवाही के लिए घात लगा कर नज़र रखे है जिसकी वजह से लेबनान की सीमा पर इस्राईली सैनिक, आज़ादी से गश्त नहीं लगा पा रहे हैं जिसकी वजह से इस क्षेत्र में रहने वाले स्वंय को असुरक्षित समझ रहे हैं क्योंकि सैनिक हिज़्बुल्लाह के हमले के डर से छुप कर रहते हैं।

इस्राईली समाचार पत्र ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि इस्राईली सेना, हिज़्बुल्लाह से बड़ी क़ीमत वसूलने पर तैयार है लेकिन सवाल यह है कि बड़ी कीमत का निर्धारण कौन करेगा? नेतेन्याहू और बनी गाट्स ने इस संदर्भ में बयान दिये हैं लेकिन हिज़्बुल्लाह और इस्राईल के बीच झड़पों के अनुभवों से पता चलता है कि दावों और सच्चाई में बहुत अतंर होता है। जैसा कि सन 2015 में जब हिज़्बुल्लाह ने इस्राईल के दो सैनिकों को मार डाला तो इस्राईली सेना ने अपनी धमकियों के बावजूद कोई जवाबी कार्यवाही नहीं की।

इस्राईली समाचार पत्र ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि इस्राईली सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि यह अच्छी बात नहीं है कि सीमा पर हमारे सैनिक छुप छुप कर रहें इस लिए हमें अवसर मिलते ही कार्यवाही करके मामला खत्म करना चाहिए।

साभार रायुल यौम।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *