दुनिया

फ़िलिस्तीनियों ने इस्राईली बस्तियों पर कई राकेट हमले किए, 6 इस्राईली घायल

बहरैन और संयुक्त अरब इमारात ने फ़िलिस्तीनी जनता की उमंगों का ख़ून करते हुए वाइट हाऊस में अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प की मौजूदगी में इस्राईल के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त अरब इमारात के विदेशमंत्री अब्दुल्लाह बिन ज़ाएद आले नहयान और बहरैन के विदेशमंरी अब्दुल लतीफ़ बिन राशिद अज़्ज़ियानी और इस्राईल के प्रधानमंत्री बिनयामीन नेतेनयाहू ने वाइट हाऊस में इस षड्यंत्रकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए, जिसके बाद अमरीका ने भी अब्राहम नामक इस समझौते पर हस्ताक्षर किए।

वाइट हाऊस में जब षड्यंत्रकारी समझौते पर हस्ताक्षर हो रहे थे तो इसके विरोध में फ़िलिस्तीन और अमरीका में कड़ी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की जा रही थीं।

वाइट हाऊस के बाहर बड़ी संख्या में लोगों ने जमा होकर इस समझौते का विरोध किया और इस्राईल के विरुद्ध तथा फ़िलिस्तीनियों के समर्थन में नारे लगाए। प्रदर्शनकारियों ने अमरीकी अधिकारियों द्वारा फ़िलिस्तीनियों के अधिकारों की अनदेखी किए जाने की कड़े शब्दों में निंदा की।

दूसरी ओर इस विश्वासघाती समझौते पर विरोध जताते हुए फ़िलिस्तीनियों ने इस्राईली बस्तियों पर कई राकेट हमले किए जिनमें कई लोगों के घायल होने की सूचना है।

फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार फ़िलिस्तीनी और इस्राईली मीडिया का कहना है कि राकेट हमलों के बाद ख़तरे के सायरन बजने लगे।

फ़िलिस्तीन के प्रतिरोधकर्ता गुटों ने अपने राकेट हमलों में असक़लान और उश्दूद बस्तियों को निशाना बनाया जिसमें छह इस्राईलियों के घायल होने की सूचना है।

इस्राईली समाचार पत्र येदीयूत अहारनोत के पत्रकार का कहना है कि ग़ज़्ज़ा ने उन अधिकारियों को राकेटों से जवाब दिया है जो वाइट हाऊस में जमा हुए हैं।

वाशिंग्टन में होने वाले इस समझौते के बाद बैतुल मुक़द्दस और फ़िलिस्तीनी उमंगों का सौदा करने वाले अरब देशों की संख्या 4 हो गयी है।

इससे पहले मिस्र ने 1979 में और जार्डन ने 1994 में इस्राईल को स्वीकार किया था।

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के दामाद और सलाहकार जेयर्ड कूश्नर ने जारी महीने के आरंभ में सऊदी अरब, क़तर, बहरैन और ओमान का दौरा किया था जिसका लक्ष्य, क्षेत्र के देशों को इस्राईल के साथ संबंध स्थापित करने के लिए तैयार करना था। (

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *