इतिहास

भारत का इतिहास : प्राचीन भारत- 1200 ई.पू–240 ई : मौर्य काल 322-185 ईसा पूर्व : बिन्दुसार : पार्ट 10

प्राचीन भारत के इतिहास में मुख्यत: मौर्य काल, शुंग काल, शक एवं कुषाण काल आते हैं

मौर्य काल
========

विवरण ‘मौर्य काल’ प्राचीन भारत के इतिहास में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। चंद्रगुप्त मौर्य, चाणक्य, बिन्दुसार तथा सम्राट अशोक आदि जैसे प्रसिद्ध व्यक्ति इसी काल में हुए।
मौर्य काल 322-185 ईसा पूर्व
प्रमुख शासक चंद्रगुप्त मौर्य, बिन्दुसार, अशोक, कुणाल
शासन इस काल में केंद्रीय शासन का प्रचलन था और राजा को दैवीय अधिकार प्राप्त थे।
प्रसिद्ध नगर पालि एवं संस्कृत ग्रंथों में उल्लेखित मगध, पाटलिपुत्र, तक्षशिला, कौशांबी, श्रावस्ती, अयोध्या, कपिलवस्तु, वाराणसी, वैशाली, राजगीर, कंधार आदि नगर मौर्य काल में काफ़ी समृद्ध थे।

अन्य जानकारी मौर्ययुगीन पुरातात्विक संस्कृति में उत्तरी काली पॉलिश के मृदभांडों की जिस संस्कृति का प्रादुर्भाव महात्मा बुद्ध के काल में हुआ था, वह मौर्य युग में अपनी चरम सीमा पर दृष्टिगोचर होती है। इस संस्कृति का विवरण उत्तर, उत्तर पश्चिम, पूर्व एवं दक्कन के विहंगम क्षेत्र में प्रसार हो चुका था।

मौर्य राजवंश (322-185 ईसा पूर्व) प्राचीन भारत का एक राजवंश था। ईसा पूर्व 326 में सिकन्दर की सेनाएँ पंजाब के विभिन्न राज्यों में विध्वंसक युद्धों में व्यस्त थीं। मध्य प्रदेश और बिहार में नंद वंश का राजा धननंद शासन कर रहा था। सिकन्दर के आक्रमण से देश के लिए संकट पैदा हो गया था। धननंद का सौभाग्य था कि वह इस आक्रमण से बच गया। यह कहना कठिन है कि देश की रक्षा का मौक़ा पड़ने पर नंद सम्राट यूनानियों को पीछे हटाने में समर्थ होता या नहीं। मगध के शासक के पास विशाल सेना अवश्य थी, किन्तु जनता का सहयोग उसे प्राप्त नहीं था। प्रजा उसके अत्याचारों से पीड़ित थी। असह्य कर-भार के कारण राज्य के लोग उससे असंतुष्ट थे। देश को इस समय एक ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता थी, जो मगध साम्राज्य की रक्षा तथा वृद्धि कर सके। विदेशी आक्रमण से उत्पन्न संकट को दूर करे और देश के विभिन्न भागों को एक शासन-सूत्र में बाँधकर चक्रवर्ती सम्राट के आदर्श को चरितार्थ करे। शीघ्र ही राजनीतिक मंच पर एक ऐसा व्यक्ति प्रकट भी हुआ। इस व्यक्ति का नाम था- ‘चंद्रगुप्त’। जस्टिन आदि यूनानी विद्वानों ने इसे ‘सेन्ड्रोकोट्टस’ कहा है। विलियम जॉन्स पहले विद्वान् थे, जिन्होंने सेन्ड्रोकोट्टस’ की पहचान भारतीय ग्रंथों के ‘चंद्रगुप्त’ से की है। यह पहचान भारतीय इतिहास के तिथिक्रम की आधारशिला बन गई है।

बिन्दुसार
=======

चंद्रगुप्त की मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र ‘बिन्दुसार’ सम्राट बना। यूनानी लेखों के अनुसार उसका नाम ‘अमित्रकेटे’ था। विद्वानों के अनुसार ‘अमित्रकेटे’ का संस्कृत रूप है- ‘अमित्रघात’ या ‘अमित्रखाद’ अर्थात “शत्रुओं का नाश करने वाला”।

स्ट्रैवो के अनुसार सेल्यूकस के उत्तराधिकारी ‘एण्टियोकस प्रथम’ ने अपना राजदूत ‘डायमेकस’ बिन्दुसार के दरबार में भेजा था।

प्लिनी के अनुसार ‘टॉलमी द्वितीय’ फिलेडेल्फस ने डायोनियस को बिन्दुसार के दरबार में नियुक्त किया।

अपने पिता की भाँति बिन्दुसार भी जिज्ञासु था और विद्वानों तथा दार्शनिकों का आदर करता था। ऐथेनियस के अनुसार बिन्दुसार ने एण्टियोकस (सीरिया का शासक) को एक यूनानी दार्शनिक भेजने के लिए लिखा था। दिव्यावदान की एक कथा के अनुसार आजीवक परिव्राजक बिन्दुसार की सभा को सुशोभित करते थे।

पुराणों के अनुसार बिन्दुसार ने 24 वर्ष तक, किन्तु महावंश के अनुसार 27 वर्ष तक राज्य किया। डॉ. राधा कुमुद मुखर्जी ने बिन्दुसार की मृत्यु तिथि ईसा पूर्व 272 निर्धारित की है। कुछ अन्य विद्वान् यह मानते हैं कि बिन्दुसार की मृत्यु ईसा पूर्व 270 में हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *