सेहत

महिलाओं की योनि से जुड़े तथ्य जो खुद महिलाओं को भी नहीं पता होते!

महिलाओं की योनि से जुड़े तथ्य खुद महिलाओं को भी नहीं पता होते। आमतौर पर लोग योनि के रोग, साफ-सफाई या उससे जुड़ी किसी भी तरह की बात करते हुए कतराते हैं। अधिकतर लोगों को लग सकता है कि योनि सिर्फ संभोग सुख और बच्चे के जन्म से ही जुड़ी हो सकती है। लेकिन, बता दें कि योनि से जुड़े तथ्य हर किसी को हैरान कर सकते हैं।

बता दें कि दुनिया की लगभग आधी आबादी के करीब महिलाओं की जनसंख्या है। लेकिन, योनि से जुड़े तथ्य शायद ही आबादी के कुछ हिस्से को पता हो सकते हैं। तो चलिए जानते हैं योनि (गुप्तांग) से जुड़े 10 रोचक तथ्य।

जानिए योनि (गुप्तांग) से जुड़े तथ्य

1.क्लिटरस
क्लिटरस, योनि का ऐसा हिस्सा है जिसके मात्र छूने से अधिकतर महिलाएं संभोग के लिए उत्तेजित हो जाती है। इसमें आठ हजार नसें होती हैं। वहीं, पुरुषों को लिंग में चार हजार नसें ही होती हैं। यही वजह भी है कि योनि महिला के शरीर का सबसे अधिक संवेदनशील अंग होता है।

2.योनि से जुड़े तथ्य समझने से पहले समझें वजायना का अर्थ
‘वजायना’ शब्द लैटिन भाषा के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जिसकी अर्थ है ‘तलवार की म्यान’।

3.शार्क से है जुड़ी
योनि में एक प्राकृतिक गंध पाई जाती है, जिसे स्कुआलेन कहा जाता है। स्कुआलेन शार्क के लिवर में भी पाई जाती है। योनि से जुड़े तथ्य में यह भी शामिल है।

4.योनि का आकार
जिस तरह लिंग का आकार छोटा-बड़ा, मोटा-पतला, सीधा-टेढ़ा होता है, ठीक उसी तरह योनि के आकार और रंग भी अलग-अलग होते हैं। इसके अलावा, कुछ महिलाओं की योनि में क्लिटरस योनि के खुलने वाले द्वार के नजदीक होता है, तो कुछ क्लिटरस योनि से थोड़े दूर हो सकते हैं।

5.आकार से हो सकती है बड़ी
योनि मांसल मांसपेशियों से घिरी होती है, जो उन्हें जरूरत पड़ने पर फैलने या बड़ा होने में मदद करती है। इसी कारण सेक्स और बच्चे को जन्म देने के दौरान योनि 200 प्रतिशत तक फैल सकती है।

6. उत्तेजना के समय साइज में बदलाव
उत्तेजना के समय योनि के आकार में भी बदलाव आ सकता है। इस समय पर योनि का आकार तीन से चार इंच तक बढ़ सकता है।

6.खुद को रखती है साफ
योनि स्वंय ही खुद की सफाई करती है। इसे साफ करने लिए सिर्फ पानी ही बहुत है।

7.योनि का लचीलापन
कई स्थितियों में योनि का लचीलापन बढ़ सकता है, जिसमें वर्कआउट की मदद से कसाव लाया जा सकता है। इसके लिए कीगल एक्सरसाइज सबसे अच्छा विकल्प होता है।

8.उम्र के साथ बढ़ती रहे
30 साल की महिला की योनि किसी किशोरी के मुकाबलें 2 गुना बड़ी होती है। वहीं, जन्म के समय से लेकर मेनोपॉज तक पहुंचने तक यह 7 गुना तक बढ़ जाती है।

9. दस सेकंड में पहुंचे चरम पर
क्लिटरस की मदद से महिलाएं संभोग का सुख 10 से 30 सेकंड के बीच ही पा जाती है।

एक्सपर्ट टिप्स
इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर शरयु माकणीकर, जो काउंसलिंग भी करती हैं, उन्होंने हैलो स्वास्थ्य की टीम के साथ योनि से जुड़े फैक्ट्स शेयर किए हैं। उनका मानना है ”महिलाओं में शुरू होने वाला पीरियड उनके शरीर में कई तरह के बदलाव लाता है। जब तक लड़कियों में प्यूबर्टी यानी यौन अवस्था शुरू नहीं होती है, तब तक उनके योनि से किसी भी तरह का कोई पदार्थ डिस्चार्ज नहीं होता है। जब उन्हें पीरियड्स शुरू होते हैं, तो यह एक अच्छी बात मानी जाती है, क्योंकि पीरियड्स का साइकिल उनके मां बनने की स्थिति से जुड़ा होता है।”

योनि या गुप्तांग से जुड़े तथ्य ये भी आपको जरूर जानना चाहिए
आमतौर पर अधिकांश पुरुष अपने पेनिस (लिंग) से जुड़ी बातों को जानने के लिए हमेशा तत्पर्य रहते हैं और वे इसके बारे में करीबी दोस्तों और इंटरनेट के माध्यम से जान भी सकते हैं। एक तरफ जहां पुरुष मास्टरबेशन के बार में एक-दूसरे साथी से खुलकर बातें किया करते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ महिलाएं अपनी ही सहेलियों से योनि या योनि से जुड़े तथ्य या फीमेल मास्टरबेशन के बारे में बात करने से भी कतराती हैं। लगभग हर तीसरी महिला मास्टरबेशन का भरपूर आनंद लेती है, लेकिन वो हमेशा इस बारे में बात करने से कतराती रहती है।

लेकिन जानकर हैरानी होगी कि महिला की योनि सेक्स का आनंद लेने, हर महीने पीरियड्स के दौर से गुजरने और बच्चे पैदा करने से कहीं ज्यादा खास है। लंदन के यूनिवर्सिटी ऑफ यूरिन साइंस कॉलेज में सलाहकार डॉ. सूजी एलेन ने बहुत सी महिलाओं के साथ काम किया है। उनका कहना है कि “लोगों के व्यवहार की ही तरह हर दूसरी महिला की योनि भी अलग-अलग होती है।

कोई एक महिला अपनी योनि की तुलना किसी अन्य या दूसरी महिला की योनि से नहीं कर सकती है। लोगों को ऐसा लगता है कि सभी महिलाओं की योनि आकार और प्रकार में एक जैसी ही होगी, लेकिन असलियत एकदम इसके उलट है। किसी भी दो महिला की योनि एक आकार या प्रकार या साइज की नहीं होती है। इसलिए अगर किसी महिला को चिंता है कि उसकी योनि अन्य महिलाओं की योनि के तुलना में कैसी दिखती है, तो उसे इसके बारे में फिक्र करनी छोड़ देनी चाहिए।

योनि से जुड़े तथ्य हमें बताते हैं कि योनि के दो हिस्से होते हैं एक अंदरूनी हिस्सा औऱ दूसरा बाहरी हिस्सा। योनि के अंदरूनी हिस्से योनि के अंगर होते हैं, जिसमें गर्भ और अंडाशय शामिल होते हैं, वहीं योनि के बाहरी हिस्से में योनि के बाहर दिखने वाले अंग होते हैं जिन्हें वल्वा के रूप में जाना जाता है। इसमें योनि के उद्घाटन, आंतरिक और बाहरी होंठ (लेबिया) और भगशेफ शामिल होता हैं। भगशेफ योनि के शीर्ष पर स्थित अंग होता है।

इसके अलावा योनि से जुड़े तथ्य आपको यह भी बताते हैं कि योनि के अंदर एक लंबी ट्यूब होती है, जो लगभग आठ सेमी तक बड़ी होती है और गर्भाशय ग्रीवा (गर्भ की गर्दन) से जुड़ी हुई होती है और नीचे योनी तक जाती है, जहां यह पैरों के बीच खुलती है। इसके अलावा योनि बहुत ही लोचदार होती है, इसलिए यह पुरुष के साथ सेक्स करने के दौरान और बच्चे के जन्म के समय आसानी से फैल जाती है।

अब भले ही आपको योनि से जुड़े इन तथ्यों को जानकर हैरानी महसूस हो सकती है लेकिन, यही सच्चाई है और इसे नकारा नहीं जा सकता है।

अगर आपको योनि से जुड़े तथ्य से किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसा प्लेजर देते हैं

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल न सिर्फ सिंगल महिलाएं और पुरुष बल्कि, शादी-शुदा लोग भी करते हैं। हालांकि, भारत में इसका इस्तेमाल कितने प्रतिशत तक किया जाता है इसका कोई सटीक आंकड़ा उपलब्ध नहीं हैं क्योंकि, भारत में अभी भी सेक्स टॉयज पर न खुलकर बात की जाती है।

एक ई-कॉमर्स साइट की मानें, तो उसने अपने साल 2018 के ऑनलाइन सर्च से इस बात का खुलासा किया है कि करीब 20 फीसदी भारतीय ल्यूब्रिकेंट्स, सेक्स गेम्स और सेक्स टॉयज के बारे में जानने या खरीदने के लिए ऑनलाइन सर्च करते हैं, जो यह साफ करता है कि भारत में भी सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में लोग दिलचस्पी लेते हैं।

क्यों किया जाता है सेक्ट टॉयज का इस्तेमाल?
सेक्स टॉयज का इस्तेमाल व्यक्ति सेक्स का आनंद उठाने के लिए करता है। यह एक छोटे या बड़े खिलौना के रूप में मिलता है, जिसमें डिल्डो और वाइब्रेटर जैसे खिलौने का निर्माण महिलाओं के लिए किया जाता है। पुरुषों के लिए सेक्स टॉयज महिलाओं की योनि के रूप में डिजाइन किए खिलौने होते हैं। हालांकि, विदेशों में अब सेक्स टॉयज के तौर पर डॉल्स भी मिलती हैं।

सेक्स टॉयज कैसे काम करता है?
ये खिलौने मोबाइल फोन की तरह चार्ज किए जा सकते हैं। या फिर कुछ सेल के जरिए भी चलते हैं, जो कंपनशील या अकंपनशील हो सकते हैं।

बैन है सेक्स टॉय का इस्तेमाल
सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना भारत में गैर कानूनी अपराध माना जाता है। भारतीय दंड संहिता की धारा 292 के तहत सेक्स टॉय खरीदना या इसकी बिक्री करने पर पाबंदी लगाई है क्योंकि, सेक्स टॉय का इस्तेमाल भारत में ‘अश्लील’ माना जाता है, जिसके तहत इस नियम का उल्लंघन करने पर दो साल तक की जेल हो सकती है।

ऑर्गैज्म के लिए कितना सफल है सेक्स टॉयज का इस्तेमाल?
इसमें कोई दोराय नहीं कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल रियल सेक्स जैसे ही प्लेजर ही देते हैं। हालांकि, यह व्यक्ति के अनुभव पर भी निर्भर करता है। क्योंकि, सेक्स टॉयज के इस्तेमाल में किसी दूसरे साथी की जरूरत नहीं होती। लेकिन, अगर किसी को सिर्फ साथी के साथ ही सेक्स करना पसंद है, तो उन्हें सेक्स टॉयज से रियल सेक्स जैसा प्लेजर नहीं मिल सकता है।

क्या है डॉक्टर्स की राय?
हैलो स्वास्थ्य की टीम ने कंस्लटिंग होम्योपैथ और क्लिनिकल सेक्सोलॉजिस्ट, डॉ. शाहबाज सायद M.D (Hom), PGDPC के साथ बात की। उनका कहना है, “भारत में सेक्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म या प्लेजर नहीं मिल पाता है। हालांकि, फोरप्ले या हस्थमैथुन के दौरान अधिकतर महिलाओं को ऑर्गैज्म का एहसास होता है। वहीं, अगर बार-बार एक ही तरह के सेक्स पुजिशन अपनाई जाएं, तो इससे शारीरिक संबंध से मन धीरे-धीरे हट सकता है। इसलिए, कभी-कभार सेक्स के लिए सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करना सही होता है।”

“सेक्स का आनंद लेने के लिए कभी-कभी रिश्ते में कुछ नयापन लाना जरूरी होता है। साथ ही, जरूरी सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए। यह ध्यान रखें कि सेक्स टॉयज का इस्तेमाल बहुत ज्यादा या लगातार न करें। क्योंकि, यह आपको इसका आदी बना सकता है। इसके अलावा, इन टॉयज का इस्तेमाल साथी के साथ संबंध बनाने के दौरान किया जाए, तो यह रिश्ते को और भी ज्यादा मजबूत और आनंददायक बना सकता है।”

सब्सक्राइब’ पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।
सेक्स टॉयज के हेल्थ बेनिफिट्स

अलग-अलग शोध से पता चलता है कि यौन सुख बढ़ाने के लिए सेक्स टॉयज का उपयोग करने से आपको नींद आने, इम्यूनिटी पावर बढ़ाने, दर्द से राहत, तनाव कम करने और मस्तिष्क की शक्ति बढ़ाने में मदद मिल सकती है। सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करने के लिए उम्र एक बाधा नहीं है। न्यूयॉक के सेक्सोलॉजिस्ट डॉ इवांस कहते हैं कि, एक महिला ने हमें बताया कि उसने 70 में सेक्स टॉय का उपयोग करके अपने पहले संभोग का आनंद लिया। सेक्स टॉयज से सेक्स करने से दवा के विपरीत कम साइड-इफेक्ट्स हैं और कई महिलाओं को क्लिटोरल ओर्गास्म और जी-स्पॉट ओर्गास्म का आनंद लेने में यह मददगार साबित हो सकता हैं और कई महिलाओं को यह ऐसा सुख देता है जो उन्होंने पहले कभी ना महसूस किया हो। सेक्स टॉयज लोगों को सेक्सुअल प्लेजर और आनंद लेने के लिए जारी रखने में मदद कर सकते हैं जब पेनिट्रेटिव सेक्स संभव नहीं है। ”

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए सेक्स टॉयज को इस तरह से पेश किया गया है वे सेक्स के बारे में एक बिना किसी संकोच के बात कर सकें कि उन्हें एख कपल की तरह क्या पसंद है या अकेले उन्हें कैसा सेक्स पसंद है। डॉक्टर कहते हैं, “यह कुछ ऐसा हो सकता है जो शर्मिंदगी या वस्तुओं की खरीद के डर के कारण पहले नहीं आजमाया गया हो, लेकिन विशेषज्ञ इसको इस्तेमाल करने की सलाह देते है।”

सेक्स टॉय चुनते समय सिलिकॉन, कड़े ग्लास, धातु या ABS प्लास्टिक से बने ‘त्वचा-सुरक्षित’ उत्पादों की सलाह देते हैं, क्योंकि कुछ ऐसी सामग्रियों से बने होते हैं जो यौन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। अगर आपके पास कोई स्वास्थ्य समस्या है जो आपके सेक्सुअल हेल्थ को प्रभावित कर रही है तो इसके लिए तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लें। आपका स्थानीय यौन स्वास्थ्य क्लिनिक भी सलाह देने में सक्षम हो सकता है।

इन टॉयज का इस्तेमाल करने के कई नुकसान हो सकते हैंः

ये टॉयज बस एक खिलौना होते हैं। इससे सिर्फ सेक्स का प्लेजर प्राप्त किया जा सकता है। यह मनुष्य की तरह प्यार नहीं जता सकता है।

इन टॉयज के इस्तेमाल की लत बहुत जल्दी लग सकती है।

इन टॉयज का इस्तेमाल लोगों को अकेले रहने के लिए आदी बना सकता है। क्योंकि, अगर एक बार इसकी लत लग जाती है, तो फिर उन्हें साथी के साथ चरम सुख प्राप्त करने में कठिनाई हो सकती है।

सेक्स टॉयज का इस्तेमाल यौन संचारित रोगों का खतरा बढ़ा सकता है। इसलिए, हर बार इसका इस्तेमाल करने से पहले इसे अच्छे से साफ करना चाहिए।

सेक्स का परम सुख लेने के लिए फ़ोरप्ले करें

कुछ महिलाओं को सेक्स के लिए उत्तेजित करना इतना आसान नहीं होता है। ऐसे में पुरुषों के लिए यह बड़ी बात हो जाती है कि अपनी महिला को कैसे उत्तेजित करें? इसके लिए बहुत से तरीके होते हैं, उनमें से ही एक है उनको स्पर्श करना। महिलाओं के कुछ कामुक अंग होते हैं, जिन्हें छूने से महिला जल्दी उत्तेजित हो जाती है। इस आर्टिकल में महिला को सेक्स के लिए एक्ससाइटेड करने के लिए महिलाओं के कौन-से पार्ट का स्पर्श करें? महिला को उत्तेजित कैसे करें? उन्हें कैसा फील कराएं? इसके टिप्स दिए जा रहे हैं। आइए जानें-

महिला को कैसे उत्तेजित करें? इस सवाल का जवाब पाने से पहले यह भी जाने कि कौन से ऐसे कारक हैं। जिनकी वजह से महिलाओं की कामोत्तेजना कभी-कभी कम हो जाती है-

वाइन (wine): हालांकि, एक गिलास वाइन आपकी कामेच्छा को बढ़ा सकता है। लेकिन, शराब की ज्यादा मात्रा पीने से ऑर्गेज्म तक पहुंचना मुश्किल हो सकता है।

स्वास्थ्य की स्थिति (health conditions) : मधुमेह, किडनी रोग, हृदय रोग और मल्टीपल स्केलेरोसिस सहित रक्त प्रवाह और तंत्रिका कार्य को प्रभावित करने वाले रोग यौन प्रतिक्रिया को कम कर सकते हैं। ऐसे में महिला को कैसे उत्तेजित करें? यह एक बड़ा सवाल हो सकता है।

हार्मोन असंतुलन (hormonal imbalance) : शरीर में हार्मोन असंतुलन की वजह से भी महिला की कामेच्छा में कमी पाई जाती है। ऐसे में महिला को कैसे उत्तेजित करें? पुरुष साथी के लिए थोड़ा कठिन हो जाता है।

पीरियड का दर्द (menstruation pain) : मासिक धर्म के दौरान यौन संबंध बनाने के लिए महिला को कैसे उत्तेजित करें? इस सवाल का जवाब हर पुरुष ढूंढ़ता हैं क्योंकि क्रैम्प की वजह से होने वाले दर्द के कारण महिला साथी को शारीरिक संबंध बनाने में समस्या हो सकती है। पीरियड में होने वाले दर्द के चलते महिला की काम शक्ति में कमी आ सकती है।

कुछ दवाएं (some medicines) : महिला को कैसे उत्तेजित करें? इसका जवाब ढूंढ रहे हैं तो यह भी जान लें कि ब्लड प्रेशर को कम करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं चरम सुख प्राप्ति में रोड़ा बन सकती हैं। एंटीडिप्रेसेंट्स, विशेष रूप से एसएसआरआई, भी संभोग को बाधित कर सकती हैं।

रजोनिवृति के कारण : 45 की उम्र से ज्यादा की महिलाओं में अक्सर सेक्स की इच्छा कम पाई जाती है। इसके पीछे मुख्य कारण मेनोपॉज का होना पाया जाता है।

भावनात्मक कारण (emotional factor) : किसी भी प्रकार के स्ट्रेस, चिंता या अन्य भावनात्मक कारकों के चलते भी महिला की कामेच्छा में कमी आती है। ऐसे में महिला को कैसे उत्तेजित करें? पुरुष साथी के लिए एक बड़ा सवाल बन जाता है।

अपनी साथी को एक सच्चे पुरुष होने का अनुभव कराएं
महिला को कैसे उत्तेजित करें? इसके लिए सबसे पहले पुरुष साथी महिला को यह एहसास दिलाना चाहिए कि आप एक सच्चे इंसान हैं। एक महिला को उत्तेजित करने का सबसे आसान तरीका यह है कि आप उन्हें अपने व्यवहार से एक जिम्मेदार पुरुष साथी होने का एहसास कराएं। अपनी महिला साथी/पत्नी के कंफर्ट और डिस्कंफर्ट के बारे में जानें और उसी के हिसाब से अपने ऐक्शन रखें। ऐसा करने से आपकी साथी को आप पर भरोसा बढ़ेगा और वह आपकी कायल हो जाएगी।

सेक्स का परम सुख लेने के लिए फोरप्ले करें
फोरप्ले के महत्व को कम करके नहीं आंका जा सकता है। पुरुष यौन रूप से उत्तेजित होने में जरा-सा भी समय नहीं लगाते पर ज्यादातर महिलाओं के केस में यह बात सही नहीं है। फोरप्ले एक ऐसा रास्ता है जो महिलाओं को उत्तेजित करने में सक्षम है। फोरप्ले में गले लगाना, चूमना, शरीर को सहलाना शामिल है। एक कम्फर्टेबल सेक्स के लिए पर्याप्त फोरप्ले आवश्यक है।

मसाज ऑयल
जेस्ट्रा एक तरह का मसाज ऑयल है जो जननांग क्षेत्र में सनसनी पैदा करता है। नैदानिक ​​परीक्षणों से पता चलता है कि निम्न उत्तेजना और संभोग को उत्तेजित करने में जेस्ट्रा मददगार हो सकता है। शोध से पता चलता है कि जेस्ट्रा के इस्तेमाल से लगभग 70% महिलाओं में इच्छा, उत्तेजना और संतुष्टि को बढ़ावा मिला। महिला को कैसे उत्तेजित करें? इसके लिए जेस्ट्रा एक अच्छा उपाय साबित होगा।

महिला को कैसे उत्तेजित करें : साथी के शरीर के टर्न ऑन पॉइंट्स को छूएं
एक अध्ययन के अनुसार एक महिला के शरीर में पांच ऐसी जगह होती हैं जिससे वो स्पष्ट रूप से उत्तेजित होती हैं। इन पॉइंट्स को जानकर पुरुषों का महिला को कैसे उत्तेजित करें? यह सवाल का जवाब मिल सकता है-

नाभि
आपकी साथी की नाभि एक संवेदनशील हिस्सा हो सकता है जिसे सही तरह से छूने और सहलाने से वो उत्तेजित महसूस कर सकती हैं। ऐसे तो अध्ययन में सिर्फ 4% महिलाएं इस जगह से उत्तेजित हुई थी पर क्या पता आपकी साथी भी उन 4% महिलाओं में हों।

गर्दन
इस अध्ययन में करीब 28% स्वस्थ महिलाओं ने माना कि वो गर्दन पर चूमे जाने और छूने से उत्तेजित महसूस करती हैं। कड्लिंग के दौरान आप यह कर सकते हैं।

पीठ
पीठ पर प्यार के एहसास से करीब 6% महिलाएं उत्तेजित होती हैं। विभिन्न सेक्स पॉजीशन में पीठ की प्राथमिकता बहुत ज्यादा है तो आप पीठ पर सही तरह से हाथ फेर कर अपनी साथी को उत्तेजित कर सकते हैं।

होंठ
होंठ पर चुम्बन आपके साथी को टर्न ऑन करने का सबसे सरल और आसान तरीका है। किस करना हमेशा अपने साथी की सहमति के बाद ही करें। बगैर सहमति ऐसा करने से आपका साथी टर्न ऑफ भी हो सकता है।

धीरे-धीरे आगे बढ़ें
सेक्स करने के लिए कभी अपनी साथी को मजबूर न करें। उसे पूरे माहौल में घुलने-मिलने का समय दें। उसकी एनर्जी के हिसाब से अपना मूवमेंट रखें। अपनी साथी की बॉडी लैंग्वेज को समझें। जब तक कि आप उनकी स्थिति के बारे में निश्चित न हो जाएं तब तक इंतजार करना बेहतर है।

महिला में कामोत्तेजना बढ़ाने के लिए शतावरी का उपयोग भी किया जा सकता है। यह महिलाओं के लिए एक शक्तिशाली टॉनिक माना जाता है। इसमें एंटीइंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जिससे महिला के अंगों को उत्तेजित करने में सहायता मिलती है। शतावरी का इस्तेमाल महिला में कामेच्छा बढ़ाने के साथ ही

बांझपन की परेशानी को भी दूर करने में सहायक होता है। अगर महिला का सेक्स में बिल्कुल भी इंटरेस्ट नहीं है तो डॉक्टर की सलाह से शतावरी जड़ी-बूटी का उपयोग किया जा सकता है। इसमें मौजूद फाइटोएस्ट्रोजन हार्मोन को संतुलित बनाए रखता है और सेक्स करने की इच्छा को जगाता है।

ऊपर बताए गए ये कुछ तरीके महिला को कैसे उत्तेजित करें इस समस्या को हल करते हैं। ये आसान से टिप्स आपकी पार्टनर को उत्तेजित करने में मददगार साबित हो सकते हैं। यदि इन सुझाओं से भी आप अपने साथी को उत्तेजित करने में असफल होते हैं तो आप अपने डॉक्टर से बिना झिझक के तुरंत परामर्श लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *