विशेष

मुर्दे जागते है

Rajendra Singh
==========
*व्यंग*
*नई तकनीकी वाले भाई -बहन थोड़ा समझ के बहार है ।*
*ट्रंक काल वाले फ़ोन से हम एमरॉयड तक पहोच गये लेकिन अब ये समझना मुश्किल हो गया है कि कौन सा भाई कौन सी बहन से बात कर रहा और कौन सी बहन कौन से भाई से ।साथ ही बात करते करते चेट कौन से वाले भाई से या बहन से हो रही है

आप अगर किसी से पूछे कि किस्से लगा है बे घण्ठे भर से तो उसका जवाब यही होगा कि मेरी कज़िन से और अगर लड़की से पूछे तो उसका भी जवाब यही होगा कि मेरे दूर के कज़िन से *एक बात और इन कजीनो की वेरायटी भी है । जैसे दूर के मामा का बेटा, दुर की भुआ का बेटा पड़ोस वाली अंटी का लड़का स्कूल वाला भाई या मेरा रखी भाई ।

अब किस्सा कुछ यूं है कि में अक्सर सुबह जल्दी घर से निकलता हू और ऑफिस जाता हूं । तो भी कुछ लोग कान में हेड फ़ोन फसाये रास्ते मे टहलते रहते है । चाहे लड़का हो या लड़की देर रात घर आता हूं तो पड़ोस से भी बातों की आवाज़ आती है ।हाल ही में मेरे हाथ एक महोदय का मोबइल बिल गलती से लग गया में उन्हें अक्सर घंटो बात करते देखता था यही नही उनकी बेटी भी फ़ोन पर हेड फ़ोन फसाये लयगी रहती थी । बिल देख कर मेरी आँखें चका चोंध रह गयी क्योकि अक्सर में उन दोनों से पूछ लेता था किस्से इतनी गहन चर्चा चल रही है और जवाब मिलता था अपने भाई से ।

लेकिन बिल देखने के बाद थोड़ संकोच हुआ कि एक ही नंबर पर देर रात तक कॉल दिन मे के बार काल । मेने भी अपनी जिज्ञासा को शांत नही होने दिया ।

और बिल देने के बहाने छत पर निकल पड़ा देखा तो मैडम लगी हुई थी और दूरी तरफ उनकी सुपुत्री मेने पहले उनकी बेटी से पूछा किस्से बात कर रही है बोली मेरे भाई से मैने कहा तेरा भी तो अभी बहोत छोटा भाई और नीचे खेल रहा है । मोबइल पर गेम बोली स्कूल वाले एक भाई है मेरा उससे । में थोड़ी देर सोच में पड़ पड़ गया । फिर उसकी माँ के पास गया । मेने कहा मैडम आपका मोबाइल बिल नीचे गलती से डाकिया मुझे दे गया था । उनके आवभाव से लग रहा था कि वो मोबइल में किसी से चैट भी कर रही है वाट्सप या fb पर मैने कहा मेडम किस्से बात कर रही है । तो बोली मेरे भाई से मेरा माथा और गहराई जानने ठनका मेने मज़ाक में पूछ लिया क्या ये वही भी है जिकी फ़ोटो कुछ दिन पहले आपने अपने वाट्सप स्टेटर्स पर लगाई थी बोली नही वो मेरी दूर की भुआ का बेटा था और ये मेरा रखी भाई

मेने कहा कभी अपने सग्गे भाइयों से भी बात कर लिया करो बहोत दिनों से वो आया भी नही, बोली वो काम मे बिज़ी रहते है । मेने चुटकी लेते हुए बोला कि ये बाकी सारे कज़िन फ़ोकट है क्या, बड़े मुस्कुरा कर बोली नही कभी कभी बात हो जाती है । मेने फिर बोला गलती से आपका बिल देख लिया है । इतनी रात तक बात मत किया करो 2,3 बजे तो मुर्दे जागते है । हँसकर मैडम चली गयी ।

अच्छा एक बात समझना बडा मुश्किल है कि कान में हेड फ़ोन लगकर अगर आप किसी से बात भी करे और चेट भी तो सामने वाला एक और ही आप पर ध्यान देगा दूसरी और नही । *यही नही भूले भटके आपसे कही कोई पहचान वाला भाई या बहन टकरा जाए किसी के साथ तो वो बड़े सलीके से कहते है* धीरे से मेरा फलाना या ढिकाना भाई है* अब खेर ये कजीनो वाला खेल तो मोबइल कंपनी जाने और सर्विस देने वाली टेलीफोन कंपनी । की कौन सा भाई किस बहन से रात रात भर लगा रहता है ।?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *