दुनिया

मेलानिया ट्रम्प, इवांका को क्यों कहती हैं सांप : हैरान कर देने वाला ख़ुलासा

अमेरिका की फर्स्ट लेडी मेलानिया ट्रम्प और उनकी सौतेली बेटी इवांका ट्रम्प के बीच कोल्टवॉर की ख़बरे तो वर्ष 2016 में उस समय सामने आना शुरू हुईं थीं जब डोनल्ड ट्रम्प अपने चुनावी अभियान में व्यस्त थे।

इन दोनों महिलाओं की बीच जारी कोल्डवॉर की ख़बरों में उस समय और तेज़ी आई जब ट्रम्प अमेरिका के राष्ट्रपति बनने में कामयाब हुए और व्हाइट हाउस पहुंच गए। देखते ही देखते मेलानिया ट्रम्प और इवांका के बीच तनाव में कुछ वृद्धि हुई कि जिसकी पुष्टि स्वयं व्हाइट हाउस से बाहर आने वाली ख़बरों ने की। वहीं पिछले 4 वर्षों में ऐसी भी ख़बरें सामने आई कि डोनल्ड ट्रम्प और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रम्प के बीच सबकुछ अच्छा नहीं है।

वैसे तो अमेरिका के राषट्रपति डोनल्ड ट्रम्प अपने ट्वीट्स और विवादित बयानों की वजह से दुनिया भर के अख़बारों की सुर्ख़ियों में बने रहते हैं, लेकिन इस बीच उनकी पत्नी मेलानिया ट्रम्प और उनकी बेटी इवांका ट्रम्प के बीच जारी कोल्डवॉर पर भी दुनिया भर की मीडिया अपनी पैनी नज़र रखे रही है। जब से ट्रम्प व्हाइट हाउस पहुंचे हैं तब से यह बात कही जा रही है कि ट्रम्प व्हाइट हाउस में मौजूद दो-दो फर्स्ट लेडी के बीच फंसे हुए हैं। दुनिया के सबसे शक्तिशाली कहे जाने वाले राष्ट्रपति भवन, व्हाइट हाउस में फर्स्ट लेडी और फर्स्ट बेटी के बीच काफ़ी गंभीर विवाद पाए जाते हैं। हालांकि, दो महिलाओं के बीच मौजूद तनावपूर्ण संबंधों पर जल्द ही प्रकाशित होने वाली पुस्तक में कई नए ख़ुलासे ने दुनिया को हैरानी में डाल दिया है। न्यूयॉर्क पत्रिका में आने वाली किताब, ‘मेलानिया एंड मी’ “द राइज़ एंड फॉल ऑफ माई फ्रेंडशिप विद फर्स्ट लेडी” (Melania and Me: The Rise and Fall of My Friendship with the First Lady) में फर्स्ट लेडी और फर्स्ट बेटी के बीच संबंधों के बारे में कई आश्चर्यचकित करने देने वाले रहस्योद्घाटन किए गए हैं। इस किताब को मेलानिया ट्रम्प की प्रथम सचिव पत्रकार एवं लेखिका स्टेफ़ी विंसन वोलकोफ़ ने लिखा है।


सीएनएन ने अपनी एक रिपोर्ट में किताब से ली गई कुछ बातों का न्यूयॉर्क पत्रिका का हवाले देते हुए यह दावा किया है कि, इवांका ट्रम्प और उनके पति जैरेड कशनर की यह कोशिश है कि वह किसी तरह मेलानिया ट्रम्प के तहत चलने वाले व्हाइट हाउस के कार्यालय का कंट्रोल संभालें। किताब में यह दावा किया गया है कि मेलानिया ट्रम्प की 2016 से कोशिश रही है कि वह किसी तरह इवांका ट्रम्प को ट्रम्प के साथ होने वाली बैठकों से दूर रखें और इस संदर्भ में वह चाहती हैं कि इवांका की ट्रम्प के साथ फोटो तक भी न खींची जाए। स्टेफ़ी विंसन वोलकोफ़ अपनी किताब में यह भी ख़ुलासा किया है कि डोनल्ड ट्रम्प के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान मेलानिया ने यह प्रयास किया था कि किसी भी तरह इवांका ट्रम्प अपने पिता के साथ तस्वीर में न आ सकें। इस बारे में ब्रिटिश समाचार पत्र “द गार्डियन” ने अपने एक लेख में लिखा है कि, वोलकोफ़ ने अपनी किताब में यह दावा किया है कि, मेलानिया ट्रम्प की यह लगातार कोशिश रही है कि वह इंवाका को राजनीति से दूर रखें। इसी तरह यह भी दावा किया गया है कि मेलानिया ट्रम्प, इवांका ट्रम्प और उनके नज़दीकी साथियों को सांप बताती हैं।

स्टेफ़ी विंसन वोलकोफ़ द्वारा लिखी गई किताब में यह भी दावा किया गया है कि वर्ष 2016 में डोनल्ड ट्रम्प के चुनावी अभियान के दौरान मेलानिया ट्रम्प के विरुद्ध भाषणों की चोरी के आरोपों की ख़बरों को मीडिया में फैलाई गई थी। इसके पीछ भी इवांका ट्रम्प का ही हाथ था। इसी तरह किताब में यह भी दावा किया गया है कि इवांका ट्रम्प, व्हाइट हाउस की कर्मचारी होने के बावजूद, अपने व्यक्तिगत ई-मेल के माध्यम से बहुत सारे सरकारी काम अंजाम देती हैं। जबकि उनके पिता ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान व्यक्तिगत ई-मेल के ज़रिए सरकारी कामों को अंजाम देने पर हिलेरी क्लिंटन की आलोचना की थी। दिलचस्प बात यह है कि इस किताब के सामने आने और इसमें लिखी गईं बातें ऐसे समय में सामने आई हैं कि जब एक बार फिर ट्रम्प चुनाव के मैदान में हैं। इस बीच इस बार के चुनाव में एक बार फिर इवांका ट्रम्प और मेलानिया ट्रम्प के चुनाव प्रचार में मीडिया के आकर्षण का केंद्र बनी हुईं हैं, क्योंकि दोनों को एक साथ ट्रम्प के कई चुनावी अभियान में देखा जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *