दुनिया

यमन पर सऊदी अरब के गठजोड़ के हमलों के 2000 दिन : दिल दहला देने वाली रिपोर्ट!

यमन के एक मानवाधिकार केंद्र ने इस देश पर 2000 दिन से जारी सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठजोड़ के हमलों के जानी और माली नुक़सान के दहला देने वाले आंकड़े जारी किए हैं।

इस मानवाधिकार केंद्र ने यमन पर सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठजोड़ के हमलों को 2000 दिन पूरे होने पर एक बयान जारी करके बताया है कि इन दो हज़ार दिनों में सऊदी गठजोड़ के हमलों में शहीद व घायल होने वालों की संख्या 43 हज़ार 181 है जिनमें से 16 हज़ार 978 लोग शहीद हुए हैं। बयान में कहा गया है कि शहीद होने वालों में 3,790 बच्चे और 2,381 महिलाएं हैं। बयान के अनुसार घायलों में चार हज़ार से अधिक बच्चे और लगभग तीन हज़ार महिलाएं हैं। बयान में कहा गया है कि इन दो हज़ार दिनों में यमन के नौ हज़ार से अधिक सेवा केंद्र और बुनियादी ढांचे तबाह हो गए हैं।

यमन के इस मानवाधिकार केंद्र ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठजोड़ के हमलों में 15 हवाई अड्डे, 16 बंदरगाहें, 304 बिजली घर और बिजली आपूर्ति के 537 केंद्र तबाह हो गए हैं। बयान में बताया गया है कि इस दौरान साढ़े पांच लाख से ज़्यादा घरों को नुक़सान पहुंचा है या वे ध्वस्त हो गए हैं। इसी तरह सार्वजनिक सेवा के 528 केंद्रों को भी नुक़सान पहुंचा है। बयान में बताया गया है कि सऊदी गठजोड़ ने इन दो हज़ार दिनों में 176 यूनिवर्सिटी केंद्रों, 1,375 मस्जिदों, 365 पर्यटन केंद्रों और 389 अस्पतालों व उपचार केंद्रों को भी तबाह कर दिया है। सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठजोड़ के हमलों के कारण 1,095 स्कूलों, 6,732 कृषि भूमियों, 132 स्पोर्ट्स केंद्रों, 244 पुरातन केंद्रों और 47 सूचना केंद्रों को भी भारी नुक़सान पहुंचा है।

यमन के इस मानवाधिकार केंद्र ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि इन दो हज़ार दिनों में दुश्मन ने जान बूझ कर 6,899 गाड़ियों, मछली पकड़ने की 463 नौकाओं, खाद्य पदार्थों के 884, गोदामों, 391 पेट्रोल पम्पों व गैस स्टेशनों, 672 बाज़ारों और खाद्य पदार्थ ले जा रहे 783 ट्रकों को निशाना बनाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *