दुनिया

इस्लामोफ़ोबिया फैलाने वाले मैक्रां की दिमाग़ी हालत सही नहीं है, उन्हें इलाज की ज़रूरत है : रजब तैयब अर्दोगान

तुर्क राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोगान ने अपने फ़्रांसीसी समकक्ष इमानुएल मैक्रां पर इस्लामोफ़ोबिया फैलाने और लाखों मुसलमानों के साथ बुरा बर्ताव करने का आरोप लगाया है।

अर्दोगान का यह बयान फ़्रांसीसी सरकार द्वारा पेरिस स्थित एक मस्जिद को बंद किए जाने का आदेश देने के बाद सामने आया है।

तुर्क राष्ट्रपति ने शनिवार को तुर्की की सत्तारूढ़ पार्टी की बैठक के दौरान कहाः मैक्रां को इस्लाम और मुसलमानों से क्या समस्या है?

उन्होंने कहा कि एक ऐसे राष्ट्राध्य के बारे में क्या कहा जा सकता है, जो धार्मिक आज़ादी को नहीं समझता है और अपने ही देश के लाखों अल्पसंख्यकों के साथ ऐसा बुरा बर्ताव कर रहा है? सबसे पहले ऐसे शख़्स को अपने दिमाग़ का इलाज कराना चाहिए।

फ़्रांसीसी राष्ट्रपति पिछले काफ़ी अरसे से इस्लाम और मुसलमानों को फ़्रांस की पश्चिमी संस्कृति के लिए ख़तरा बता रहे हैं और उन्होंने मुसलमानों पर कई तरह के प्रतिबंध भी लगाए हैं।

अक्तूबर की शुरूआत में भी मैक्रां ने दावा किया था कि कट्टरवाद के उदय के कारण न सिर्फ़ फ़्रांस, बल्कि पूरी दुनिया में इस्लाम संकट में है।

तुर्क राष्ट्रपति ने फ़्रांसीसी राष्ट्रपति की कड़ी आलोचना करते हुए कहा था कि वह स्पष्ट रूप से भड़काऊ बयान दे रहे हैं और देश में अपनी असफलताओं पर पर्दा डालने के लिए इस्लाम को निशाना बना रहे हैं।

16 अक्तूबर को पेरिस में पैग़म्बरे इस्लाम के अपमानजनक कार्टून छात्रों के साथ साझा करने वाले टीचर समुएल पैटी का एक चेचेन छात्र ने सिर काट दिया था। जिसके बाद, फ़्रांस की सरकार ने मुसलमानों और उनके धार्मिक केन्द्रों पर अपने हमले तेज़ कर दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *