ब्लॉग

बसपा ख़त्म, BSP का RSS करण कर दिया है!

Satyendra PS
===========
बसपा बर्बाद है। खतम है। मैं उसको चर्चा के काबिल भी नहीं मानता इसलिए अच्छा या बुरा कुछ भी नहीं लिखता।
अभी राज्यसभा के लिए बसपा की तरफ से रामजी गौतम के नामांकन को लेकर जिस तरह बसपा/मायावती की आलोचना हो रही है, वह मेरी समझ से परे है। रामजी गौतम कौन से नेता हैं? मैंने पहली बार उनका नाम सुना है। वह जीतें या हार जाएं, उससे बसपा की सेहत पर क्या असर पड़ेगा? बसपा उनको जिताने के लिए भाजपा से समझौता क्यों करेगी भला?
मेरी राजनीतिक समझदानी कमजोर है, कोई बता सके तो बताए। मैं इस मामले में सपा पर भले आरोप लगा सकता हूँ कि किसी बजाज को चुनाव में निर्दल उतारा है, हो सकता है उनसे पैसा खाया हो।
बसपा के विरोध का यह तर्क जायज हो सकता है कि उसके सत्ता में आने पर ….कपार पर मूतने लगते हैं, लेकिन यह इससे भी घटिया तर्क है कि किसी रामजी गौतम को राज्यसभा भेजने के लिए मायावती ने भाजपा से समझौता कर लिया 🤔
नीतीश कुमार ने अपने 17 लोकसभा सांसदों में से एक को भी केंद्र में मंत्री क्यों नहीं बनने दिया था? क्या वजह हो सकती है ? बड़े बड़े नेता छोटके की प्रोग्रेस को लेकर इतना लोड नहीं लेते। गौतम इतने बड़े फन्ने ख्वां नहीं हैं कि उनके लिए मायावती उनके लिए लोड लें।
…..
दिल की चोटों ने कभी चैन से रहने न दिया
जब चली सर्द हवा,मैंने तुझे याद किया
इसका रोना नहीं कि क्यों तूने किया दिल बर्बाद
इसका गम है कि बहुत देर में बर्बाद किया 🤔

Preeta Harit
============
छः विधायक राजस्थान से गये पार्टी छोड़कर। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया। वे कांग्रेस से विधायक तोड़तीं हम तो तब जानते। अनुशासनहीनता थी ना। और पाँच आज चले गए इनको छोड़कर। पार्टी में घोर अनुशासनहीनता फैली हुई है।
इनकी नीतियों के कारण पार्टी नुक़सान उठा रही है। जो राज्यसभा भाजपा से सौदा करके ली थी आज वो भी हाथ से निकल गयी।
मैं न तो बसपा पार्टी की विरोधी हूँ न मायावती की।मैंने अपनी बात रखी है।

पार्टी नीतियों में सुधार करेगी तो सबसे पहले मेरा वोट पड़ेगा। जो लोग Facebook पर सपोर्ट करते हैं वे सुन लें, मुझे गालियाँ देने से यदि आपकी सीटें आती हों तो मुझे हज़ार गालियाँ दो। गालियाँ देना नैतिक थोड़े ही है। गालियाँ तो दे ही रहे हो। विरोध करने का हक़ तो सबको है। आप में से एक भी बिना पैसे भरे टिकट लेकर दिखा दो। जितनी गालियाँ मुझे दीं इतने वोट भी यदि उनको दे देते तो उनकी सरकार बन जाती लेकिन चाटुकार तो चाटुकार ही रहेंगे। इनको जहां मिलेगा वहीं तो बात करेंगे।अरे इतने बड़े समर्थक थे तो क्यूँ नहीं सरकार बनवा सके और क्यूँ छोड़ छोड़ के पार्टियों में गए।

Facebook के चाटुकार टिकट ले कर दिखा दें। जिस तरह RSS में गुंडे मवाली लोग होते हैं उसी तरह बसपा में हैं, BSP का RSS करण कर दिया है।
मैं पूछती हूँ एक आम आदमी के घर में कितनी बार गयी है बहन कुमारी मायावती। क्यूँ, क्यूँकि वहाँ पैसे नहीं मिलते हैं। कभी किसी ग़रीब महिला के पास बैठ कर खाना खाते देखा है उनको।अब तो मुख्यमंत्री भी नहीं हैं।आज जो चाटुकार हैं वो कल उनके चाटुकार होंगे जो पद पे बैठे होंगे। कल वो भाजपा में या कांग्रेस में घुस जाएगी तो वे कुछ नहीं बोल सकते। इन्होंने तो सत्ता पाने के लिए भाजपा तक के तलवे चाट लिए थे। उसके बाद कांग्रेस में चली गयी थी। तुम में से जितने भी विरोधी हैं, है किसी में हिम्मत इस बात को लिखने की। रोटियाँ बंद हो जाएँगी। जितना विरोध मेरा कर रहे हो यदि सपोर्ट करते तो एक सशक्त व्यक्ति और पैदा हो जाता, समाज की लड़ाई लड़ने को। मुझे वोट की चिंता नहीं, मेरे लिए एक वोट को भी मैं अपनी ताक़त मानूँगी।

जय भीम जय भारत
आपसे संवाद में मैं …

प्रीता हरित IRS , “87
राष्ट्रीय अध्यक्ष
बहुजन सम्यक संगठन
7836945942
7838050300

Sagar PaRvez
===========·
उप्र राज्यसभा चुनाव में आया नया मोड़, BSP में बगावत के बावजूद बजाज का पर्चा खारिज, निर्विरोध चुनाव तय
उत्तर प्रदेश से राज्यसभा की दस सीटों पर दस उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है। 2 नवंबर तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकते हैं, नाम वापसी का समय बीतने के बाद सोमवार को सभी दस उम्मीदवारों के निर्विरोध निर्वाचन की औपचारिक घोषणा की जाएगी।

उत्तर प्रदेश में 10 सीटों के लिए राज्यसभा चुनाव की प्रक्रिया में आज दिन भर चले हंगामे के बीच आखिरकार राज्यसभा चुनाव के निर्वाचन अधिकारी ने 11वें उम्मीदवार प्रकाश बजाज के नामांकन को रद्द कर दिया। पर्चा खारिज होने का कारण उसमें प्रस्तावक के गलत हस्ताक्षर और अन्य कई त्रुटियों थीं। उधर बीएसपी प्रत्याशी रामजी गौतम का पर्चा स्वीकार हो गया है। इसके बाद राज्यसभा की 10 सीटों पर हो रहे चुनाव में बीजेपी के 8, बीएसपी और एसपी के एक-एक उम्मीदवारों सहित सभी दस उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है।

दिन भर चले घटनाक्रम के बाद बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा ने बताया, “प्रकाश बजाज के प्रस्तावक का नाम गलत था। इसके अलावा फॉर्म 26 में कई गलतियां थीं। इसी कारण उनका पर्चा निरस्त कर दिया गया है। बजाज के एक प्रस्तावक ऐसे भी हैं, जो विधनसभा के सदस्य ही नहीं हैं। ऐसी कई बड़ी गलतियों के कारण उनका पर्चा खारिज कर दिया गया है।” बगावत करने वाले विधायको पर मिश्रा ने कहा, “उन लोगों ने सबके सामने रामजी गौतम के प्रस्तावक के रूप में अपने हस्ताक्षर किए थे। अब वह किस दवाब में गलतबयानी कर रहे हैं, इसका पता नहीं है।”

इससे पहले बुधवार को सुबह 11 बजे बीएसपी के चार विधायक असलम चौधरी, असमल राइनी, हाकिमचंद बिंद और मुजतबा सिद्दीकी ने निर्वाचन अधिकारी के समक्ष पहुंचकर बीएसपी उम्मीदवार रामजी गौतम के नामांकन पत्र से अपना प्रस्ताव वापस लेने की अर्जी दे दी थी। उन्होंने वहां कहा कि नामांकन पत्र पर जिस क्रमांक में दस्तखत हैं, वह उनके नहीं हैं। वहीं, बीएसपी महासचिव सतीश चंद्र मिश्र, विधानसभा में बीएसपी नेता लालजी वर्मा और विधायक उमाशंकर सिंह ने गौतम के पक्ष में नामांकन के समय के वीडियो फुटेज और फोटो प्रस्तुत करते हुए नामांकन को सही बताया।

समाजवादी पार्टी और बीएसपी की तरफ से बुधवार को दिनभर चले तर्क-वितर्क के बाद आखिरकार देर शाम निर्वाचन अधिकारी अशोक कुमार ने एसपी समर्थित प्रकाश बजाज के नामांकन पर आपत्तियों को स्वीकार करते हुए उनका पर्चा खारिज कर दिया। साथ ही बीएसपी उम्मीदवार के नामांकन पत्र पर आई आपत्तियों को खारिज कर दिया।

निर्वाचन अधिकारी के निर्णय के बाद राज्यसभा चुनाव में सभी दस सीटों पर दस उम्मीदवारों का निर्विरोध निर्वाचन तय हो गया है। 2 नवंबर तक उम्मीदवार नाम वापस ले सकते हैं, नाम वापसी का समय बीतने के बाद सोमवार को सभी दस उम्मीदवारों के निर्विरोध निर्वाचन की औपचारिक घोषणा की जाएगी।

डिस्क्लेमर : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख सोशल मीडिया फेसबुक पर वायरल है, इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति तीसरी जंग हिंदी उत्तरदायी नहीं है. इस आलेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं. इस आलेख में दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार तीसरी जंग हिंदी के नहीं हैं, तथा तीसरी जंग हिंदी उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *