विशेष

हाथरस में जातीय दंगा भड़कने की कोशिश करने वाले आख़िर कौन लोग हैं : ज़रूर पढ़ें ये रिपोर्ट!

मौका किसी त्यौहार का हो या राष्ट्रीय पर्व का अक्सर एजेंसियों की तरफ से एलर्ट जारी किये जाते हैं, इनपुट दिए जाते हैं कि कुख्यात आतंकवादियों के निशाने पर प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, दो चार अन्य vvip, संघ परिवार के कुछ उच्च कोटि के राष्ट्रवादी देशभक्त नेता होते हैं, कहा जाता है कि ये आतंकवादी सीमा पार कर देश में घुसे हैं, सीमा बहुत बार नेपाल की भी होती है, इस तरह के एलर्ट पर बाकी का काम संघ समर्थक मीडिया कर देता है, मीडिया वालों की लाइब्रेरी में रखे इंटरनेट से डाउनलोड किये गए अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान, इराक के वीडियोस को एडिट कर भारत के परिपेक्ष में दिखाना शुरू कर दिया जाता है, रिपोर्टिंग ऐसी ऐसी भयानक होती है कि आम आदमी घबरा जाता है

इसी तरह कुछ मौकों पर धमाके करने, इमारतों को उड़ाने की चिठियाँ, मेल, फ़ोन कॉल का खेल खेला जाता है, सूत्रों के मुताबिक ये सब बड़ी साज़िश का हिस्सा होते हैं, इस के माध्यम से एक वर्ग विशेष को टारगेट बनाने में आसानी हो जाती है

हाल के समय में एक ट्रैंड और देखने को मिला है कि जनता के प्रदर्शनों, धरनों आदि को कुचलने के लिए उस पीछे विदेशी साज़िश और फंडिंग का हवाला देकर लोगों को भयभीत किया जाता है, साथ ही इन मामलों में मुस्लिम राजनैतिक दल या कोई संगठन का नाम भी शामिल कर दिया जाता है

इस तरह से एक ”तीर” से कई निशाने साधे जाते हैं, एक ही झटके में दर्जनों लोगों की ज़िन्दिगियों को तबाह कर दिया जाता है, दिल्ली का दंगा, शाहीन बाग़ का आंदोलन, बंगलुरु की हिंसा और अब हाथरस का मामला देखें, सभी में एक ही लाइन पर काम होता नज़र आएगा, जैसे फ़र्ज़ी एनकाउंटर की पटकथा लिखी जाती है कि रात के समय पुलिस पार्टी वाहनों की जांच कर रही थी तभी एक वाहन पर दो संदिग्ध आते दिखाई दिए, जब उन्हें रोकने के लिए इशारा किया तो बदमाशों ने पुलिस पर गोली चला दी, बचाव में पुलिस ने भी जवाबी कार्यवाही करते हुए गोली चलायी, जिसमे एक कुख्यात बदमाश मोके पर ही ढेर हो गया, जबकि एक अन्य अँधेरे का लाभ उठा कर फरार हो गया, मर्तक बदमाश से एक तमंचा, दो ज़िंदा कारतूस और एक चोरी की बाईक बरामद हुई है, इस मुढभेड़ में दो पुलिस कर्मी भी बदमाशों की गोली लगने से ज़ख़्मी हो गए हैं, ज़ख़्मी पुलिसकर्मियों को जिला हॉस्पिटल ले जाया गया जहाँ उपचार के बाद उन्हें छुट्टी दे दी गयी है, फरार बदमाश की खोज जारी है,,,,,असलियत में किसी बदमाश को इधर-उधर से उठा कर, कहीं वीराने में, खेत, नहर, आदि में ले कर ”ठोक” देते हैं,,,,

खेल ऊपर से खेला जाता है, नीचे वाले अपने ”आक़ा” के निर्देशों का पालन करते हैं,,,बाकी सब ख़ैरियत है,,,,

अब देखें ये रिपोर्ट

हाथरस में जातीय दंगा भड़कने की कोशिश करने वाला आखीरकार कौन लोग हैं , उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने दावा किया है कि हाथरस कांड के आर में कुछ लोग उत्तर प्रदेश में दंगा भड़काने की कोशिश कर रहे हैं जिस पर यूपी पुलिस ने कार्रवाई भी करी है और कुछ बेवसाइट्स का खुलासा भी किया है, लेकिन अब ये मामला उल्टा पड़ गया है और विपक्षी पार्टियों ने इस मुद्दे पर भी बीजेपी को घेर लिया है, दरअसल हाथरस में दंगा भड़काने की कोशिश करने वाले का बीजेपी से कनेक्शन बताया जा रहा है ।

आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह हाथरस में पीड़ित परिवार के साथ मुलाकात करने पहुंचे थे। हाथरस से पीड़ित परिवार के साथ मुलाकात करने के बाद वहां से वापस जाने के दौरान एक शख्स ने उन पर हमला बोल दिया। बताया जा रहा है कि इस शख्स ने आप नेता पर काली स्याही फेंकी।

आप नेता पर हमला करने वाला शख्स हिंदू संगठन से जुड़ा हुआ है। जिसका नाम दीपक शर्मा बताया जाता है। सोशल मीडिया पर इस घटना की वीडियो शेयर की गई है। तेजी से वायरल हो रहा है और एबीपी न्यूज के कैमरे में जो कैद हुआ वो चौंकाने वाला है दरअसल दीपक शर्मा के साथ कुछ लोग और मोजूद थे जो लोगों पर पथराव करते कैमरे में कैद हो गए इससे साफ पता चलता है कि उत्तर प्रदेश में जातीय दंगा भड़काने की कोशिश करने वाला दीपक शर्मा है।

आपको बता दें कि दीपक शर्मा पहले भी विवादों में रहा है दीपक शर्मा ने एक बार ताजमहल में जाकर शिव चालीसा पढ़ने का और हिंदू मुस्लिम दंगा कराने की कोशिश कर चुका है, दीपक शर्मा का बीजेपी नेताओं के साथ फोटो भी वायरल हो रहा है उत्तर प्रदेश के बड़े अधिकारी पुलिस के साथ भी फोटो है।

हाथरस मामले में साशन, प्रशासन के स्तर पर घोर लापरवाही की गयी है इसी वजह से आज ये मामला अंतराष्ट्रीय हो गया है,

हाथरस में ‘साज़िश’ कौन रच रहा है, कौन मुख्यमंत्री को बदनाम करना चाहता है, कौन हिंसा भड़काना चाहता है, इसके जवाब खुद सवालों में मौजूद हैं

जिस वक़्त राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी हाथरस जाना चाह रहे थे तब सरकार ने अपनी अकड़ में उन्हीने वहां जाने से रोक दिया, अगले दिन कांग्रेस ने हाथरस पहुँचने के लिए बड़ा एलान कर दिया उस समय भी भारी पुलिस बल तैनात कर सरकार ने अपनी ताकात दिखाने की कोशिश की, तमाम हंगामों, लाठीचार्ज के बाद पांच लोगों को हाथरस जाने की इजाज़त दी, ये काम सरकार, प्रशासन पहले दिन भी कर सकता था और तमाम बदनामियों से बचा जा सकता था


भारत के पूर्व प्रधानमंत्री केपौत्र औपूर्व केंद्रीय मंत्री के पूर्व सांसद पुत्र के ऊपर पुलिस ने उस समय हमला बोला जब वो सामान्य रूप से खड़े होकर बात कर रहे थे, पुलिस के ज़रिये सरकार ने जो तांडव हाथरस में किया है उससे धयान बंटाने के लिए नए नए ‘जुमले’ गढ़े जा रहे हैं, आम आदमी के सांसद संजय सिंह के ऊपर स्याही फिकवायी जाती है, भीम आर्मी के चंद्रशेखर को घर में क़ैद कर दिया जाता है, पुलिस के बीच में बैठा एक ”गुंडा’ खुली चुनौती देता देखा जा सकता है

हाथरस पीड़िता के परिजनों व् मीडिया वालों के साथ पुलिस प्रशासन, साशन के ज़िम्मेदारों ने क्या किया ये कोई छुपा हुआ है

सूत्रों के मुताबिक हाथरस में बढ़ते जन समूह को देखते हुए दिल्ली दंगों की तरह ”हाथरस” में भी इधर-उधर से अपराधियों, बदमाशों को बुला कर रखा गया था/है, ये बाहरी लोग भीड़ में शामिल होकर हिंसा भड़काने के काम को अंजाम देने के लिए रखे गए,

हाथरस में कोई दंगा नहीं हुआ है वहां एक जघन्य अपराध हुआ है, अपराध के बाद पुलिस ने जांच करने में कोई मुसतैदी नहीं दिखाई थी बल्कि वारदात के बाद ”कमाई” चक्कर में लगे रहे, सूत्रों के मुताबिक नामजद, बेनाम, संदिग्धों को खोज खोज कर ”वसूली’ की गयी, डर दिखाया गया कि ‘उक्त’ भी संदिघ्ध है, अपने बच्चों को बचाने के लिए आदमी उधार क़र्ज़ लेकर ‘देता’ ही है

 

पुताई के काम आने वाले ”चूने” को IED, RDX जैसा बता कर मुख्यमंत्री की जान को ख़तरा, तार दाऊद से जोड़ दिए थे और विदेशी साज़िश क़रार दे दिया था,,,हाथरस में भी ‘विदेश’ को ”घुसा” दिया है,,,चीन घुस कर बैठा है, उसकी जानकारी किसी एजेंसी, विधायक, सांसद, मंत्री, मुख्यमंत्री, गृहमंत्री, प्रधानमंत्री को नहीं है

 

Ravish Kumar
@_RavishNDTV_

मेरी पिछले कुछ दिनों की डिबेट के मुद्दे
कोविड-19
बेरोजगारी
नया किसान बिल
इंडियन मीडिया की हालत
भारतीय शिक्षा प्रणाली

बाकी एंकर्स की पिछले 5 महीनों की डिबेट के मुद्दे

सुशांत, रिया, कंगना, पायल, दीपिका

क्या मैं सही दिशा में कार्य कर रहा हूं?

अगर हां तो रिट्वीट करें।

Sushil Kumar Singh
@SushilK96168392
#क्या_ये_सच_है
आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह पर
आज हाथरस में स्याही फेंक कर हमला करने वाले आरोपी का फोटो
ADG Law & Order
प्रशान्त कुमार के साथ ….
अब भी कुछ समझना बाकी है क्या?
ए साहेब,
अपनी नाकामियों को #काल_स्याही के पीछे ना छिपाईये! सच हमेशा सच रहेगा।
#तस्वीर_बोलती_है …

Srivatsa
@srivatsayb

“Those who talk about me sitting on a cushion on the Tractor are quiet about PM Modi spending ₹8,000 crores on a new airplane with 50 beds”

Tight slap by
@RahulGandhi
to BJP, Modia and Bhakts.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *