विशेष

…भारत ने तुर्की, अफ़ग़ानिस्तान, श्री लंका में करवाये आतंकियों से हमले?

 

बीते कई दिनों से अमेरिकी मैगज़ीन ‘फॉरिन पॉलिसी’ की एक रिपोर्ट पर अंतरष्ट्रीय स्तर पर चर्चा हो रही है, ये रिपोर्ट आप के रोंगटे खड़े कर देगी, कानों से धुंआ निकलने लगेगा :

यहाँ आप पहले वो रिपोर्ट पढ़ें

Indians and Central Asians Are the New Face of the Islamic State

Terrorists from India, Tajikistan, Uzbekistan, and Kyrgyzstan were never at the forefront of global jihad before—now they are.

BY RAFFAELLO PANTUCCI
OCTOBER 8, 2020, 6:32 AM

As white nationalists across the world have gained prominence through racist, Islamophobic and anti-Semitic acts, the world’s focus on terrorism seems to have shifted. Many experts on extremism now focus heavily on the far-right in its many incarnations as an important driver of terrorist threat. But this myopic approach ignores the dynamism that the Islamic State injected into the international jihadist movement, and the long-term repercussions of the networks it built. In particular, the Indian and Central Asian linkages that the group fostered are already having repercussions beyond the region.

This threat emerged most recently with the attack by the Islamic State in Khorasan Province (ISKP) on Jalalabad prison in early August. The attack showed a level of ambition that distinguished the group from many of the Islamic State’s other regional affiliates. Part of a bigger global push to do something about colleagues rotting in prisons, it was also a way of signaling how the group’s approach to freeing its prisoners differed from the Taliban’s. In ISKP’s eyes, the Taliban are in essence surrendering in their peace negotiations with the U.S. government. But the most interesting aspect of the attack was the roster of fighters involved—a multinational group that included Afghans, Indians, Tajiks, and Pakistanis.

Powered By
While at first glance this seems unsurprising, the presence of Central Asians and Indians in transnational attacks is a relatively new phenomenon that reflects a shifting pattern in jihadism linked to the Islamic State. Some of the group’s most dramatic attacks—like the Easter 2019 Sri Lanka bombings, the attack on a Turkish nightclub on New Year’s Eve 2017, or the 2017 truck attacks in New York City and Stockholm—revealed jihadism’s persistent appeal to a global audience. Indeed, the rise of Central and South Asian cohorts to the front rank of attack planning is a development with potentially worrying consequences.

Jihadist ideas are not new to Central Asia or India. The civil war in 1990s Tajikistan that broke out in the wake of the country’s emancipation from the Soviet Union was an early post-Cold War battlefield which included jihadist elements. Fighters used northern Afghanistan as a base from which to fight in Tajikistan.

While most of the support for the fighting in Tajikistan emerged from communities in northern Afghanistan who went on to fight against al Qaeda and the Taliban, some disillusioned fighters in the conflict ended up fighting alongside al Qaeda. And for a while, assessments of where al Qaeda would go after its ejection from Afghanistan post-9/11 focused on the Fergana Valley, a region spanning Uzbekistan, Tajikistan, and Kyrgyzstan that is home to conservative communities who have clashed with their respective capitals. Groups like the Islamic Movement of Uzbekistan, Jund al Khilafah, the Islamic Jihad Union or various Tajikistani groups provided networks that helped Central Asians get involved in fighting in Afghanistan and Pakistan. But these networks were relatively limited in their impact.

India was the birthplace of the Deobandi movement, a sect that was a source of ideas for the Taliban, and the conflict in Kashmir has for years been a rallying cry for extremist groups

India’s history of jihadism goes back even further. The country was the birthplace of the Deobandi movement, a sect that was a source of ideas for the Taliban among others. And the conflict in Kashmir has long been held up by extremist groups as one of the world’s most long-standing unresolved jihadi conflicts. While most Kashmiris are nationalists furious at New Delhi, their conflict is one that is regularly adopted as a rallying cry by extremists who point to it as one of the many places where Muslims are being abused.

Yet notwithstanding this heritage, neither India nor Central Asia has historically produced many figures in the international jihadist movement, launching attacks far from their borders. Indians have stayed involved in networks in India, or occasionally Pakistan. Central Asians have shown up in Afghanistan and Pakistan, but rarely farther afield. That is changing.

A major attraction drawing young men and women to jihadism has always been the idea of participating in a transnational religious movement and an epic global struggle. To focus only on a parochial local level misses the larger canvas of their narratives. This appears to be a gap that the Islamic State identified and filled.

A major turning point in Indian and Central Asian involvement in the global jihadist movement was Syria.A major turning point in Indian and Central Asian involvement in the global jihadist movement was Syria. A cauldron that continues to draw people in, it is a clear and significant marker in the international jihadist story. The battlefield was one that drew in Muslims from almost 100 different countries and from every continent. This included Indians and Central Asians, though their experiences were markedly different.

The Central Asians integrated well into the conflict, serving alongside both Islamic State and al Qaeda-affiliated groups. For example, Tajikistani former Colonel Gulmurod Khalimov rose to be a senior Islamic State commander. Large groups of Central Asians fought on the battlefield. In contrast, the few Indians who made it to the Levant had a different experience. Many received bad treatment at the hands of their Arab hosts, who tended to look down on them—reflecting the status of South Asians as poor laborers in much of the Arab world. This racism did not stop a significant number of Indians being drawn to the group, however. A more thriving community of Indian fighters made it to the conflict in Afghanistan to fight alongside ISKP there.

In this photograoh taken on November 17, 2019 members of the Islamic State (IS) group stand alongside their weapons, following they surrender to Afghanistan’s government in Jalalabad, capital of Nangarhar Province. – Over 225 Islamic state IS militants including their families 190 women and 208 children were surrendered to government during past two weeks, Afghan security forces lunched a military operation against ISIS in Achin district of Nangarhar province, Nangarhar governor Shamahmod miakhil said. (Photo by NOORULLAH SHIRZADA / AFP) (Photo by NOORULLAH SHIRZADA/AFP via Getty Images)

Since the Islamic State’s emergence, Central Asians have been involved in repeated attacks in Turkey, including the assault on Istanbul’s Ataturk Airport in June 2016 and the high-profile massacre at the city’s Reina nightclub on New Year’s Eve 2017, as well as attacks using vehicles that were driven into crowds in 2017 in Stockholm in April, and New York City on Halloween that year, as well as an underground bombing in St. Petersburg.

For Indians, the international role has been more limited, with Indians for the most part appearing in attacks in Afghanistan and in limited numbers on the battlefield in Syria. The attack on the prison in Jalalabad follows the earlier decision by ISKP to use an Indian fighter to attack a Sikh gurdwara—a place of worship—in Kabul. Seen as “polytheists,” Sikhs are regarded as an acceptable target by the Islamic State like many other religious groups, though the decision to use an Indian attacker likely reflected a desire by the group to highlight their connection to India in particular.

The Islamic State officially announced the creation of an affiliate in India last year but has been hinting about involvement in Kashmir for years. The group was likely in part rejected by local Kashmiris who have long seen foreign Islamists as complicating factors in their struggles against the Indian state. However, it now seems as though the group is quite openly talking about its involvement. Al Naba, the Islamic State’s regular publication, recently listed the martyrdom notices of three Kashmiris who had reportedly fallen fighting for the group. These individuals join the growing numbers of Keralans and other Indians who are now reported to have died or fought alongside the Islamic State.

While the absolute numbers are small, this is an entirely new trend. Indians involved in external jihadist attacks have until now been the exception. The few Indians who pursued jihad tended to do it at home in a limited fashion, often with links across the border to Pakistan. Only a few ventured beyond, like Dhiren Barot, a British-raised Hindu convert who was close to 9/11 organizer Khalid Sheikh Mohammed and was ultimately jailed for a plot to detonate a bomb in the U.K. in 2005.

This is surprising, considering that India is home to the world’s third-largest Muslim community. However, today’s new generation of jihadists, is driven by a range of economic, political, and ideological factors.

Both Central Asia and India are home to large communities of young men who go and work abroad, sending home remittances that are a crucial pillar of local economies. It is often among these diaspora communities where radicalization takes place—for the Indians in the Gulf, for the Central Asians in Russia. In the COVID-blighted world, this workflow has slowed down, hurting economies, but also creating a pool of underemployed young men at home and abroad.

In the COVID-blighted world, opportunities to work abroad have dried up—hurting economies and creating a pool of underemployed young men at home and abroad.

This comes in the context of a tense political environment. In India, Prime Minister Narendra Modi has advanced a series of policies promoting a Hindu nationalist narrative openly hostile toward Muslims. There has since been a notable uptick in jihadist propaganda toward India. In Central Asia, governments may not be stoking the same fires, but there has been an active pursuit of political opponents across the region. While there are numerous programs in place seeking to counter violent extremism, it is not always clear how effective they are, nor is it clear they are able to deal with problems of radicalization amongst diaspora communities.

And there is the continuing question of what will happen to the fighters from these countries who went to Syria and Iraq. Some may try to come home, but others may end up fostering new networks which create problems elsewhere.

The danger is that there may be an increasing number of Indian and Central Asian links to plots outside their regions. Earlier this year, German authorities disrupted a network of Tajiks linked to cells in Albania and in contact with the Islamic State in both Afghanistan and Syria. They were reportedly under orders to launch an attack in Europe. Other Central Asian cells have been reportedly disrupted across Europe, and authorities in Ukraine have made numerous arrests of fighters fleeing the collapsing battlefield in Syria.

India has seen less such activity, though there were Indian links to the 2019 Sri Lanka Easter attacks. Like many violent Islamist extremists, a Southern Indian cell involved appears to have followed the sermons of Indian prominent extremist preacher Zakir Naik, whose speeches have helped radicalize numerous different jihadists around the world.

Most of the current attention on new terrorist groups focuses on the extreme right—something that is understandable given the deeply polarized political environment in the western world. But violent Islamist threats have not gone away, and are transforming. The story of Central Asian and Indian jihadism is one that has historically received too little attention. Emerging from domestic environments that are creating more opportunities for disenfranchisement and radicalization to take place, they are exactly the sort of threats which may slip under the radar until it is too late.

Raffaello Pantucci is a senior associate fellow at Britain’s Royal United Services Institute and a visiting senior fellow at the S. Rajaratnam School of International Studies in Singapore. He is the author of We Love Death As You Love Life: Britain’s Suburban Terrorists. Twitter: @raffpantucci

नोट : ऊपर की जो रिपोर्ट है उसका सार ये हुआ कि ‘भारत कुख्यात दाइश के साथ मिल कर कार्यवाहियां कर रहा था/है’

 

old story

एक साल पहले कश्मीर के पुलवामा में CRPF के कारवां पर आतंकवादी हमला हुआ था जिसमे तक़रीबन 50 भारतीय जवानों की मौत हो गयी थी, हमला बेहद खतरनाक था, इस हमले में 300 किलो ग्राम विष्फोटक इस्तेमाल किया गया था, हमले के लिए एक कार को आतंकवादियों ने इस्तेमाल किया था, ये फ़िदायीन हमला था, इस हमले के बाद पूरे देश के अंदर हलचल बढ़ गयीं थीं, राजनैतिक गतविधियों को नए तरीके से लाभ हानि का आंकलन कर बढ़ाया गया, शीर्ष नेतृत्व की तरफ से राजकुमार कोहली निर्देशित फ़िल्मों के से डायलाग बोले गए, ”जो आग वहां लगी है वो इधर भी लगी है’

दिल्ली के मीडिया ने पुलवामा आतंकवादी हमले को ख़ास तरोके से प्रस्तुत कर देश के अंदर ”उबाल’ पैदा किया, जिसका फायदा आगामी चुनावों में एक पार्टी ने उठाया, यहाँ बहुत अहम् बात ये है कि आतंकवादी हमले को एक साल बीत गया है मगर इसकी जांच रिपोर्ट अभी तक नहीं आयी है, NIA हमले की जाँच कर रही है, इस के आलावा कश्मीर पुलिस व् अन्य किसी एजेंसी की तरफ से भी कोई रिपोर्ट नहीं दी गयी है लेकिन हमले क्वे समय टीवी समाचार चैनलों ने जो तमाशा खड़ा किया था वो बेहद खतरनाक था, सारा खेल ‘गुप्त’ रूप से मिल रहे निर्देशों, इशारों पर किया जा रहा था, सेना के पूर्व अधिकारी टोपी पहन कर 8PM लगा कर चीखते नज़र आते थे, ‘ये कोई रंडी ख़ाना” है, टीवी चैनलों के एंकर सेना की वर्दी पहनने लगे थे, उनके स्टूडियो जंग का मैदान बन गए थे, बस नहीं चल रहा था वार्ना ये ‘कमाऊ’ पत्रकार अपने अपने स्टूडियो में से ही ”अग्नि” मिसाइल पाकिस्तान पर दाग़ देते

पुलवामा आतंकवादी हमला शक पैदा करता है,अतिसंवेदनशील इलाके के अंदर विस्फ़ोटक पहुंचा कैसे, सेना के काफ़िले के मूवमेंट के दौरान प्राइवेट वाहन इतना करीब कैसे आया, पुलवामा में उस दिन सार्वजनिक बंद था तब वहां हाई सेक्युर्टी थी, ऐसे में आतंकवादी हमला करने में कामयाब कैसे हो गए

– पुलवामा आतंकवादी हमले से जुड़े सच की खबरें कभी सामने आएँगी, या नहीं, पता नहीं, बस इतना ज़रूर कहा जा सकता है कि पाकिस्तान का नाम लेकर, मीडिया में झूठ बोल कर देश और जनता को गुमराह कर, राजनैतिक संगठन, कट्टरपंथी संगठन अपने लक्ष्यों की पूर्ति करने में लगे हैं,

– बारिश नहीं हो रही है, चीन या पाकिस्तान का हाथ है
– बाढ़ आ गयी, चीन या पाकिस्तान की साज़िश है
– प्रदुषण बढ़ गया, पाकिस्तान का षड़यंत्र है
– आतंकवादी हमला हो गया, पाकिस्तान ने करवा दिया
– शाहीन बाग़ में लोग धरना दे रहे हैं, जिना वाली आज़ादी के नारे लग रहे हैं
– बिरयानी खिलाई जा रही है
– सारी मस्जिदों को तोड़ डालो

अंम्बेडकरवादी shailendra saket
@saketshailendra
Jun 20, 2019
#GulamMedia
लक्षण दलाल मिडिया
१.आप थकते नहीं कौन सा टानिक लेते है
२.आप पर्स रखते हैं
३.आप आम किस तरह खाते है
४.आप में एक फाकिरी हैं
५. २००० के नोट में चिप
६.असली हिन्दू vs ढोंगी हिन्दु
७.हल्ला बोल
८.ये कोई रन्डी खाना है
और भी अनगीनत

NDTV India
=====
भारत में झुग्गी बस्तियों में रहने वाले लोगों की संख्या 6 करोड़ से अधिक है. झुग्गियां हमारे शहरी जीवन की क्रूर सच्चाई हैं. जहां बग़ैर पानी नाली की सुविधा के लाखों लोग ज़िंदगी बसर करते हैं और अपने सस्ते श्रम से मुंबई दिल्ली या अहमदाबाद जैसे शहरों को सींचते हैं. अभी-अभी दिल्ली चुनाव खत्म हुआ है. बीजेपी का नारा था जहां झुग्गी वहीं मकान. 20 लाख लोगों को मकान देने के नारे के साथ बीजेपी मैदान में उतरी थी तो केजरीवाल वहां सीवर लाइन पहुंचाने और सड़क बनाने के काम के दावे के साथ मैदान में उतरे थे. एक तरह से राजधानी दिल्ली में झुग्गी बस्ती एक बड़ा मुद्दा था. सबको पता है भारत के शहरों के बीच में या पीछे बसी झुग्गियों की सच्चाई. फिर अहमदाबाद की एक झुग्गी न दिखे इसके लिए दीवार न बनाई जाए. नई बन रही आधी किलोमीटर लंबी यह दीवार अहमदाबाद एयरपोर्ट से गांधीनगर की ओर बनाई जा रही है. इस दीवार के पीछे सरानियावास नाम की एक झुग्गी बस्ती है. यहां के लोग अचानक से दीवार बनते देख हैरान भी हैं और चिन्तित भी. उनके आने जाने का रास्ता एक तरफ से बंद हो जाएगा. यह दीवार इसलिए बनाई जा रही है कि जब अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत आएं तो उन्हें यह झुग्गी न दिखे.

Ashok Swain
@ashoswai
Last year, when world was celebrating #Valentineday & Modi doing a film shoot, 40+ soldiers got kilIed in Pulwama. Day of love was manipulated by Modi to declare war on Pakistan, kilIing a crow in Balakot, gave a PoW & kiIling 6 more of own & win the election. #HappyValentinesDay

Ashok Swain
@ashoswai
CRPF jawans killed today in #KashmirTerrorAttack – All of them are from poor families and almost all of them are low caste, Dalit, tribal or Muslim. They are the ones who get killed in wars, not the ones who scream for war in TV studios.

santosh gupta
@BhootSantosh
.
जब मुंबई में 26/11 का live इनकाऊंटर चल रहा था,, तब गुजरात के मुख्यमंत्री मुंबई आकर होटल ताज़ के सामने,, नाच नाचकर कांग्रेसी सरकार को कोस रहे थे.!
और आज राहुल गांधी ने #पुलवामा हमले पर सवाल उठाए, तो कई बड़े भाजपाइयों को नीचे तक आग लग रही है.!
वे बिचारे बोलें तो बोलें क्या ????

पढ़ें पुरानी रिपोर्ट

===========

पुलवामा की पड़ताल

भारत में आतंकवाद, बाबरी मस्जिद विध्वंस, पुलवामा इस्राईल की देन हैं : रिपोर्ट

वाट्सएप कॉल की जासूसी की खबर ने भारत के अंदर लोगों में दहशत पैदा कर दी है लेकिन इस तरह की जासूसी की खबर से किसी को क्या फ़र्क़ पड़ता है, देश की सरकार खुद अपने नागरिकों की ग़ैर कानूनी जासूसी करवाती है, देश की पुलिस बिना किसी कानूनी अनुमति के लाखों लोगों के फ़ोन ट्रेस करती हैं, कॉल रिकॉर्ड करती हैं, ये खेल नया नहीं है, भारत सरकार अमेरिका और इस्राईल के हाथों में खेल रही है, कट्टरपंथी, उग्रवादी, भगवा बिर्गेड के लोग इस्राईल की प्रशंसा में देश के लोगों के खिलाफ बुरे से बुरा बर्ताव करते हैं, ट्रम्प की जीत के लिए हवन, पूजन करते हैं

इस वक़्त भारत की सरकार इस्राईल और अमेरिका के ग्रुप में शामिल है, यह इसलिए कि इस्राईल और अमेरिका की नीति मुस्लिम विरोध पर टिकी हुई है, यह दोनों देश पूरी दुनियां में आतंकवाद के पैदा करने वाले हैं, भारत में जिस आतंकवाद की बात होती है वो भारत के अंदर इसराइल और भगवा संगठनों का दिया हुआ है, देश के अंदर जितनी भी आतंकवादी वारदातें घटी हैं वो भगवा संगठनों और इस्राईल के गठजोड़ की दैन हैं, बाबरी मस्जिद विध्वंस में इस्राईल की पूरी भूमिका रही थी, पुलवामा आतंकवादी घटना की जांच भारत के एजेंसियां कर रही हैं, जिसकी जाँच रिपोर्ट अभी तक सामने नहीं आयी है लेकिन इस पुलवामा आतंकवादी घटना में इस्राईल और फ्रांस की ब्लैक वाटर व् दाइश की भूमिका को नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता है, भारत सरकार के उच्च नेता और अधिकारी हर समय इस्राईल के गुणगान करते रहते हैं, सूत्रों के मुताबिक हाल ही में भारत सरकार ने कश्मीर से 370 और 35A पर जो कार्यवाही की है उसमे भी इस्राईल की मर्ज़ी शामिल रही है यही नहीं कश्मीर के अंदर इस्राईल और फ्रांस के सैंकड़ों जासूस मौजूद रहे हैं

पाकिस्तान मीडिया की ख़बरों के मुताबिक बालाकोट में की गयी भारत की कार्यवाही के समय इस्राईल के पायलेट कार्यवाही में शामिल थे और फ्रांस व् इस्राईल के विशेषज्ञ कार्यवाही के समय राजिस्थान और गवालियर एयर बेस पर मौजूद रहे थे, पाकिस्तान मीडिया के मुताबिक 27 अप्रैल को जब पाकिस्तान ने भारत पर हमला किया था तब पाकिस्तान एयर फाॅर्स में भारत के दो विमान मार गिराए थे, एक विमान अभिनन्दन उड़ा रहे थे जबकि सुखोई 30 एक इस्राईली पॉयलेट उड़ा रहा था जिसे पाकिस्तान ने गिरफतार कर लिया था और विमान को मार गिराया था

अभिनन्दन के साथ एक इस्राईली पॉयलेट भी पकड़ा गया था : रिपोर्ट

पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट पर रात के समय हवाई हमला किया था, इस हमले में मीडिया ने फ़र्ज़ी खबर चला कर लोगों को खूब गुमराह किया था, चुनाव का समय था तो बीजेपी ने भी इसकी जमकर चर्चा की और ववाही लूटी खुद प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे चुनाव कश्मीर और पाकिस्तान तक खुद को सीमित रखा था, राजिस्थान की सभा में तो मोदी ने यह तक बोल दिया था कि पाकिस्तान में उन्होंने हमला किया था, बीजेपी के अन्य नेता भी ऐसी ही ”डींगें” मारते थे

बता दें कि बालाकोट के बाद अगले ही दिन पाकिस्तान ने दिन के समय भारत पर हवाई हमला बोला था जिसमे उस समय समाचार भी मीडिया में आये थे कि पाकिस्तान के हमले में दो भारतीय हवाई जहाज तबाह, और दो पायलेट गिरफ्तार मगर कुछ समय बाद ही पाकिस्तान की तरफ से ख़बर को घुमा दिया गया था और एक पायलेट अभिनन्दन के गिफ्तार करने की बात सामने आयी थी

तीसरी जंग ने उसी समय अपने समाचार में यह खुलासा किया था कि पाकिस्तान ने भारत के दो पायलेट पकडे हैं जिनमे एक पायलेट इस्राईल का है, तीसरी जंग ने सूत्रों से मिली जानकारी के आधार पर यह खबर भी प्रकाशित की थी कि बालाकोट पर भारत के हमले से समय इस्राईल और फ्रांस के विशेषज्ञ भारत में मौजूद थे जोकि राजिस्थान और गवालियर के एयर बेस में बैठ कर बालाकोट पर हमले का निर्देशन कर रहे थे
आप को बता दें कि इस्राईल और भारत के बहुत गहरे और पुराने सम्बन्ध हैं, जिस समय इंद्रा गाँधी ने 1968 में IB की इस्थापना की थी उन्होंने IB डायरेक्टर को निर्देश दिए थे कि वो हर समय मोसाद के सम्पर्क में रहे
सूत्रों के अनुसार कश्मीर में इस्राईल के जासूस पिछले दो सालों से सक्रिय हैं और कश्मीर पर भारत ने जो बड़ा कदम उठाया है वो भी अमेरिका, सऊदी अरब, UAE और इस्राईल की सहमति से लिया गया है

#पुलवामा की पड़ताल : पार्ट 1

कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद से ही तरह तरह की खबरें समाचार पत्रों/चैनलों में देखने को मिल रही हैं,,,देश की सरकार सेना को खुली छूट दे कर अपना काम निपटा चुकी है,,,,अब गेंद सेना के पाले में हैं,,,सरहद पर तनाव है, पूरे देश में उन्माद और दो महिने बाद चुनाव है,,,सर्जिकल स्ट्राइक,,,के इन्तिज़ार में लोग,,,,अब ‘फिल्म’ बनने में कुछ तो वक़्त लगता है,,,,प्रसून जोशी से गीत ही लिखवाना होता तो कोई बात नहीं थी,,,पूरी पटकथा,,,निर्देशन, दिग्दर्शन,,,,कितना काम होता है,,,फिल्म कोई ऐसे ही बन जाती है,,,
पुलवामा आतंकी हमले पर मेरी अपनी राय/मत हमारे ‘वॉर रूम’, युद्ध के नीतिकार मीडिया के वरिष्ठ पत्रकारों, जानकारों, विशेषज्ञों, प्रवक्ताओं, 8 पीएम वाले रक्षा विशेषज्ञों से मेल नहीं खाती है, वैसे भी किसी भी मामले में लोगों के अलग अलग मत हो सकते हैं
असल बात है कि घटना घटी है और उसमे तक़रीबन 49 सैनिकों की मौत की खबर है,,,इसकी खोजबीन/जाँच पड़ताल एजेंसियां/पुलिस/ख़ुफ़िया विभाग आदि आदि कर ही रहे हैं/होंगे,,,हम भी करते हैं,,,

,,,,तो जांच शुरू करने से पहले दिमाग को संतुलन में लाना ज़रूरी है,,,ताकि कोई निष्कर्ष एक पहुँचना हो सके,,,तो एक गाना सुनते हैं,,,,”आँखों आँखों में हम तुम हो गए दीवाने,,,,”बातों बातों में देखो बन गए अफ़साने,,,,”’मामला साधारण तो है नहीं,,,तो जाँच करते हैं,,,उससे पहले जान लें कि ‘ये जिंदिगी इस ज़मीन पर वो इंसान की हो या, चरिन्दे, परिंदे, कीड़े, मकोड़े ,,,अर्थात किसी की भी हो बहुत प्यारी ”शै” है,,,,और ये ज़मीन आसमान, दरिया पहाड़, सागर, जंगल,,,जो कुछ भी हम देखते हैं सच में ‘कुदरत’ की बेमिसाल ‘कुदरत’ के नमूने हैं,,,कश्मीर बहुत खूबसूरत खित्ता है, मेरा खूब देखा भाला है, असल में मेरा ‘कारगिल’ में लम्बे समय तक रहना हुआ था,,,कारगिल जहाँ ‘कारगिल युद्ध’ हुआ था,,,वहां दिल्ली टू जम्मू, जम्मू टू श्रीनगर और श्रीनगर टू कारगिल का रास्ता है पहुँचने का, या फिर दिल्ली टू लेह बाई एयर और लेह टू कारगिल बाई टैक्सी जाना होता था ,,,,
,,,जाँच पुलवामा की करना है और मै आप को कारगिल ले पहुंचा, सोच तो रहे होंगे,,,जी,,,कारगिल जंग के समय पाकिस्तान की सेना भारत की पोस्टों पर कब्ज़ा कर के बैठी थी,,,और नीचे आबादी में सेना, सेना की इंटेलिजेंस, IB , LIO किसी को कानों कान भनक नहीं थी, पहली बार सुचना पहाड़ों पर अपने मवेशी लेकर जाने वाले वहां के लोकल बाशिंदों ने दी थी, जानकारी मिलने के बाद भी भारतीय सेना समझ रही थी कि कुछ घुसपठिये /आंतकवादी होंगे,,,और किसी ने भी उसे खास तवज्जो नहीं दी थी ,,,बाद में जो हुआ सब जानते हैं,,,वो पाकिस्तान की सेना थी जो ऊपर चौकियों पर कब्ज़ा कर के बैठी थी,,,
नजीब का नाम याद है, JNU से ग़ायब हो गया जिसका दो साल बाद भी पता नहीं है कहाँ गया,,,बटला हाउस में एनकाउंटर होता है,,,आतंकवादी वहां पनाह लिए हुए थे,,,एक बहादुर पुलिस अधिकारी की जान इस हमले में चली गयी थी,,,
उत्तर प्रदेश में इस समय 80 ज़िले हैं, हर ज़िले में कम से कम दो लोगों की रोज़ाना हत्या हो जाती होगी, एक आदमी हर ज़िले में सड़क हादसे का भी शिकार हो जाता होगा,,,बाकी सामान्य मौतें अलग से,,,मतलब ये कि उत्तर प्रदेश में हर रोज़ तक़रीबन 160 लोगों की हत्या हो जाती है, 80 तक़रीबन सड़क हादसे में मरते हैं, अन्य अलग,,,सब जोड़ें तो 240 मौतें, इनको 200 मान लेते हैं,,,इराक/सीरिया/अफगानिस्तान में जंग चल रही है इतनी हत्याएं तो वहां भी हर रोज़ नहीं होती हैं,,,,ये एक राजय का अनुमान है,,,नजीब अहमद मर चुका है/ज़िंदा है, कहाँ है, क्या हुआ उसके साथ,,,की जानकारी ‘किसी’ को नहीं है,,,एक बंदा ‘लियाकत’ कश्मीरी गोरखपुर नेपाल सरहद पर पकड़ा जाता है, 2013 में, समाचार चैनलों पर खबर आती है, भारत में नेपाल के रास्ते से घुसते समय आतंकवादी गिरफ्तार,,,दिल्ली पुलिस, यूपी पुलिस, क्राइम ब्रांच आदि आदि ने उसे दबोचा था,,,फिर एक ब्रेकिंग न्यूज़ आती है पुरानी दिल्ली के एक होटल में छापा मारा गया,,,वहां से आतंकवादी फरार एक AK-56 रायफल बरामद,,,तुरंत दोनों घटनों को आपस में जोड़ दिया जाता है,,,गोरखपुर से गिरफ्तार आतंकी के साथी ‘पुरानी दिल्ली’ के होटल में ठहरे हुए थे,,,यूपी पुलिस कहती है ‘लियाकत’ को हमने दबोचा है, दिल्ली पुलिस कहती है हमने पकड़ा है,,,तभी ट्विटर पर उमर अब्दुल्लाह आते हैं और लिखते हैं,,,लियाकत पाकिस्तान से भारत वापस आया है और यह जानकारी सरकार को भी है, वो समझौते ‘गुप्त’ के तहत भारत आया था,,,अब होती है भसड़,,,जो टीवी चैनल वाले AK-56 रायफल होटल से बरामद बरामद की खबर दिखा रहे थे और वो दिल्ली पुलिस जो अपना ‘गुड वर्क’ बता रही थी को जैसे सांप सूंघ गया हो,,,वो AK-56 रायफल किस की थी आज तक नहीं बताया,,,

पुलिस के पास अपने मुखबिर होते हैं, आम लोगों में से ही कुछ लोग अपना धंधा पानी चलाने के लिए ‘ख़बरी/हेलो बन जाते हैं,,,एजेंसियों के भी अपने अलग से ख़बरी होते हैं,,,इनको टारगेट पर इस्तेमाल किया जाता है, मान लो किसी की जानकारी लेनी है तो, उसके इलाके में ‘हेलो’ को किराये का मकान लेकर रहने को भेज दिया जाता है, वह वहां जब तक काम होता है, रहता है और किसी को भनक भी नहीं लग पाती है कि ये ‘मुखबिर’ है,,,,
सूत्रों के अनुसार ये ‘ख़बरी’ जगह जगह धमाके करवाने में बहुत काम आये थे,,,,’छोटा वाला कोई जेम्स बॉन्ड’ मुखबिर को ‘थैला’ देकर बोलता कि इसे वहां रख आना, वहां से ‘वो’ ले जायेगा,,’वो’ जो होता ही नहीं था,,,थैला बाजार में, भीड़ में, मेले में, मस्जिद में, मंदिर में,,,स्टेशन, बस स्टैंड,,,कहीं भी,,,और फिर होता था ‘धमाका’,,,टीवी पर खबरें, सुरक्षित कर रखे गए वीडियो निकाल कर चलाये जाते,,,तार/हाथ/पैर….. देश से लेकर विदेशों तक से जोड़ दिए जाते,,,इधर धमका, उधर उसकी जांच टीवी वाले ही तुरंत कर डालते, ‘थैला’ रखने वाले का ज़रूरत पड़ती तो ‘फोटो/स्केच’ स्क्रीन पर दिखा दिया जाता,,,हेलो अब बड़ा वाला ‘आतंकी’ बन चुका होता था,,,अब आवश्यकता अनुसार वो आतंकी कभी चिठ्ठी लिख कर धमकियाँ देता, कभी मेल से तो कभी फ़ोन से,,,जब जैसी ज़रूरत होती काम आ जाते,,,,फिर एक दिन कहीं बड़ी घटना को आतंकवादी अंजाम देते और वो मुढभेड़ में मारे जाते,,,कुछ को समझा दिया जाता, बेटा यहाँ तो लपड़ा बहुत हो गया है,,,तू सूम से बाहर निकल ये है तेरा ‘पासपोर्ट’ और ये टिकट पैसा उधर पहुंचने पर ‘उनसे’ मिल जाएगा,,,ठीक,,,तू हमारा ख़ास आदमी है\, चिंता मत कर, तुझे कुछ नहीं होने दिया जायेगा,,,पंछी ‘उड़’ कर यहाँ से ‘वहां’ चला जाता,,,नाम अब भी ज़रूरत के मुताबिक ख़बरों में चलता रहता,,,उधर वो भी खुद को ‘खबरी’ न मान कर ‘भाई’ मान लेता,,,परेशानी कोई थी नहीं, नाम का नाम और पैसा/मौज सब छुट्टा,,,कहानी फिल्मों की भी इतनी उलझी नहीं होती हैं जितना ऐसे कर्म करने वाले सरकारी, ग़ैर सरकारी, लोगों, कर्मचारियों की होती हैं,,लखनऊ का ‘टुंडा’ कवाब बड़ा मशहूर है, मेने मगर आज तक चखा भी नहीं है, जबकि लखनऊ में वो गलियां घूमी हैं जो वहां के रहने वलों ने भी नहीं देखी होंगी,,,चलते चलते थक जाते,,,और फिर चलते रहते,,,,हंसन गंज की मस्जिद या इमामबाड़े पर ‘आग़ा जानी’ की गिफ्ट की हुई किताब अभी भी है,,,’टुंडा’ बहुत नाम था इसका, ‘भटकल’ ये भी बड़ा मशहूर हुआ था,,,बटला हाउस के बाद गिरह ‘आजमगढ़’ पर घूमती रही,,,टारगेट फिक्स कर लिए जाते हैं,,,
तौबा,,,,पुलवामा की जाँच करना थी और लंतरानी न जाने मै भी कहाँ की लेकर बैठ गया,,,पाकिस्तान में दहशतगर्दी बहुत बड़े पैमाने पर है, अलग अलग रूप के आतंकवादी हैं, धार्मिक, धार्मिक के अंदर वैचारिक, वैचारिकों के अंदर ‘उदंडी’,,, मसलकी वगैरह वगैरह,,,वहां ये इसलिए भी हैं क्यूंकि ‘मध्यप्रदेश’ वाली ‘दर्रा’ उधर असली वो भी ना के बराबर दामों में, एक से एक बढ़िया ‘अफगानी’ घर ‘ठिये’ पर पहुंचा देता है,,साथ ही पाकिस्तान, अफगानिस्तान में वहां के बड़े ‘वॉर लॉर्ड्स’ मौजूद हैं, उनके पास अपने निजी लड़ाके कई कई लाख की सख्या में हैं, जहाँ से भी ‘आर्डर’ मिलता है, उतने बन्दूकबाज़ वहां पहुँच जाते हैं, उनका यही रोज़गार है, घर परिवार, बाल बच्चे ‘गन’ के सहारे पलते हैं,,,ये ज़बान के पाबंद, अफीम का ‘झिक’ के नशा करने वाले, बहादुर, मज़बूत जिस्म के लोग होते हैं, इनकी खुराक हमारे मुकाबले में अच्छी और ज़यादा होती है,,,दूसरे हवा, पानी, पहाड़ों की ज़िंदगी, इनको सख्त जान, सख्त दिल बना देती है,,,’क़ौल’ दे दिया तो जान चली जाएगी ‘बात’ नहीं ख़राब होगी,,,भारत, पाकिस्तान एक ही था, अंग्रेज़ गए तब वो बटवारा कर के गए थे, बटवारे को गाँधी, जिन्ना, नेहरू, पटेल और जो भी थे सब मिल कर नहीं रोक सकते थे, वह अंग्रेज़ों की पॉलिसी थी, उनका अपना कार्यक्रम था,,,भारत का बटवारा अब उसे धर्म के नाम पर कहें या कुछ भी, हुआ,,,,वहीँ से झगडे शुरू हुए जो अभी तक चले आ रहे हैं,,,यूरोप के देशों ने दुनियां के अनेक देशों पर कब्ज़े कर के रखे, वहां की सम्पतियों को लूटा और अपने देश आबाद किये, एशिया, अफ्रीका हर जगह यूरोप के चोर चरित्र देशों का राज था, तब मोनार्की/डेक्टेटरशिप थी,,,अब डेमोक्रेसी है,,,मगर यूरोप और अमेरिका आज भी बाकी दुनियां को अपने लिए इस्तेमाल करते हैं, इनके अपने इन्तेरस्ट में जो होता है करते हैं,,,अरब में युद्ध, अफगानिस्तान में युद्ध,,,किस बात का है,,वहां कोई धर्म की लड़ी हो रही, कोई हुकूमत की जंग हैं, वहां युद्ध हो रहे हैं, सम्पत्तियों पर अपने अपने अधिकार/कब्ज़े के लिए

आतंकवाद,,,,आतंकवादी ये जैसे हेलो/खबरी बनाये जाते हैं अपने मकसद के लिए बनाते हैं, उन्हें कब कितना चलना है, चलाते हैं और ग़रीब देशों को खौफ दिखा कर अपने अपने काम में लगाए रखते हैं,,,
अपराध, भरष्टाचार, आतंकवाद कभी न ख़तम होने वाली समस्या हैं,,,इनको सिर्फ ईमानदारी से कम किया जा सकता है,,,कर्नल प्रोहित,, साध्वी प्रज्ञा , नागपुर वाले मोहन बाबू, इंद्रेश भाई साहब अपने यहाँ के ‘वॉर लार्ड’ मीडिएटर हैं,,,मध्यपरदेश/झारखण्ड/छत्तीसगढ़’कर्नाटक में जो कैंप इनके लगते थे,,,वहां ‘किसे’ ट्रेनिंग दी जाती थी, यही लोग बता सकते हैं, बेचारे करकरे को ‘दारा सिंह’ की खुंस में,,,चर्च तुम जलाओ, लोगों को ज़िंदा जला दो,,,मदर/फादर को भी न छोड़ो,,,तुम को हुआ क्या है,,,अच्छी खासी भोली सी सूरत है प्रज्ञा की, जिंदिगी अपनी भी ख़राब और जो ‘उधर’ से ‘इधर’ आते थे उनकी भी,,,
अटकल/भटकल/टुंडा ये और बहुत सारे ‘हेलो’ थे,,,हेलो,,,समझौता हुआ सऊदी, UAE, बांग्लादेश, नेपाल, पाकिस्तान, भारत में,,,तो कई ‘पंछी’ जो उड़ गए थे वापस आ गए थे,,,
पुलवामा की आगे की जांच अब किसी और दिन कर लेंगे,,,सुबह हो चुकी है,,,,,ऐ वे मै अल्ला वाली जुगनी जी,,,ऐ वे मै नबी वाली जुगनी जी,,,ऐ वे मै अली वाली जुगनी जी,,,,ऐ वे मै मेरे पीर की जुगनी जी,,,,जुगनी जी,,,,,जुगनी जी,,,,,जुगनी जी,,,,,जुगनी जी,,,,
परवेज़ ख़ान……
उसने पूछा किस चीज़ को लेकर निश्चिन्त हो…

… ””””मैं, तुम्हें खो देना है इक रोज़…….. ,,,,,,,जो आप स्वतंत्र महसूस करते हैं वास्तव में आपको महसूस होता है.. आत्माओं की भाषा गलती नहीं करती…

#पुलवामा की पड़ताल : पार्ट 2

==========

पुलवामा में आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच हालात जंग तक जा पहुंचे थे, दोनों देशों में बहुत तनाव बढ़ गया, भारत और पाकिस्तान के इस तनाव में बड़ा अहम् काम मीडिया कर रहा है, समाचार चैनलों ने ऐसा लगता है जैसे युद्ध करवाने का कहीं से ठेका ले लिया है, एक ख़ास पक्ष के फेवर में खबरें चलना, माहौल बनान, लोगों को भड़काने का काम मीडिया कर रहा है, अब कोई भी वाहन अपने आप चल कर कहीं नहीं जाता है, उसे चलाने वाला होता है, वोही तै करता है कहाँ पहुंचना है, चेहरे नज़र आ रहे हैं, परदे पर अदाकारी करते एक्टर नज़र आ रहे हैं, ड्राइवर/निर्देशक पीछे से अपना काम कर रहे हैं,,,हिंदी फिल्मो में देखा होगा, दो लोगों में ‘खलनायक’ किस तरह दरार पैदा करते हैं, उन्हें लड़ाते हैं,,,फ़िल्मी कहानियां असल जिंदिगी की कहानियां भी होती हैं, बहुत उलझी हुई,
इस वक़्त दुनियां दो ग्रुप में बंटी हुई है, कुछ देश खुद को अलग रखे हुए हैं, कुछ अपना असर बढ़ा रहे हैं, दुनियां में कई जगह जंग चल रही है, जिसमे बड़े बड़े सभी देश शामिल हैं, कुछ सामने से लड़ रहे हैं कुछ अंदर से, अफ़ग़ानिस्तान हाल में ‘धुरी’ बना हुआ है,,,
बाकी फिर….

,,,,,ये रिपोर्ट पढ़ें

Israel playing major role in India-Pakistan conflict : UK Analyst

A prominent British columnist has argued that Israel’s warming relations with India has contributed to the escalating tensions between India and Pakistan amid fears of an all-out conflict between the two nuclear-armed rivals.
Robert Fisk, the senior analyst writing for The Independent, said in an article on Thursday that Israel was desperately seeking to capitalize on the anti-Muslim sentiment among the Hindu nationalists in India to sell more arms and weapons to New Delhi.
Fisk said the recent escalation between India and Pakistan is in fact a product of growing Israeli influence in New Delhi, saying Israel’s fingerprints are visible all over the conflict.
India launched airstrikes on Pakistani positions earlier this week after 40 of its troops were killed in a militant attack in the Indian-controlled Kashmir region.
The conflict has enjoyed an extensive coverage by the media in the UK, a country home to some 1.4 million people with Indian origin and a community of 1.2 million British Pakistanis.
Fisk said the Indian army’s use of Israeli-made Rafael Spice-2000 “smart bombs” in its attack on militant positions inside Pakistan was a clear proof that the regime in the occupied Palestinian territories was benefiting from the conflict.
“Well, don’t let the idea fade away. Two thousand five hundred miles separate the Israeli ministry of defense in Tel Aviv from the Indian ministry of defense in New Delhi,” wrote Fisk in his commentary, adding, “but there’s a reason why the usual cliché-stricken agency dispatches sound so similar.”
Fisk, an award-winning journalist and writer, said that Israel was trying to capitalize on the growing power of the right-wing nationalist government of Indian Prime Minister Narendra Modi by pretending that the two governments are both under attacks by Muslims.
Fisk said India was Israel’s largest arms client in 2017, paying £530m ($700 million) for Israeli air defense. He said Israel ensured the Indian government about the lethal force of its weapons by providing evidences of their use in Palestine and in Syria.
The standoff between the two neighboring countries has escalated dramatically since February 14, when Indian paramilitary forces on the New Delhi-controlled side of Kashmir were hit by a deadly bomb attack orchestrated by Pakistan-based militants.
The tensions reached a peak on Tuesday, when India said it had conducted “preemptive” airstrikes against what it described as a militant training camp in Pakistan’s Balakot.
Both Islamabad and New Delhi have also claimed to have shot down each other’s fighter planes near the disputed border of Kashmir, accusing one another of violating each other’s airspace.
Kashmir has been split between India and Pakistan since partition in 1947. Both countries claim all of Kashmir and have fought three wars over the territory.
Indian troops are in constant clashes with armed groups seeking Kashmir’s independence or its merger with Pakistan.
India regularly accuses Pakistan of arming and training militants and allowing them across the restive frontier in an attempt to launch attacks. Pakistan strongly denies the allegation.
— presstv.com

=============

#पुलवामा की पड़ताल : पार्ट 3

==========

सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद मामले में तीन लोगों की एक कमेटी बना कर आपसी सहमति से हल निकालने की पहल की है, बाबरी मस्जिद का मामला भारत में आज के वक़्त का सबसे उलझा हुआ और बड़ा संवेदनशील केस है, यही जड़ है भारत में आतंकवाद के जन्म की, बाबरी मस्जिद को गिराने के बाद देश में आतंकवादी वारदातें होना शुरू हुई थीं, जिनके लिए मुसलमानों को ज़िम्मेद्दार बता कर पूरे देश और दुनियां में मुसलमानों के खिलाफ माहौल बनाया गया था
हाल ही में सऊदी क्राउन प्रिंस भारत की यात्रा पर आये थे, सऊदी प्रिंस के पिता वहां के किंग हैं और उनकी बहनों को प्रिंसेस कहा जाता है, आज के समय में अरब के देश ‘दौलत’ के भण्डार हैं, लेकिन रसूल अल्लाह की आमद के वक़्त ये अरब दुनियां के सबसे पिछड़े, असभ्य, खूंखार, बर्बर लोग थे, वहां का समाज तमाम तरह की बुराइयों से भरा हुआ था
रसूल अल्लाह ने अल्लाह के संदेशों/आदेशों को लोगों तक पहुँचाना शुरू किया, लोग उन का विरोध करने लगे, जो उनको अच्छा, ईमानदार इंसान मानते थे वोह भी विरोधी हो गए, लेकिन रसूल को उनके रब ने जिस काम के लिए भेजा था वो करते रहे, बहुत परेशानियां, मुश्किलें रसूल के सामने आती रहीं, पहला बड़ा मामला ‘बदर’ के युद्ध की सूरत में सामने आता है, अरब के जंगी, पूरी तैयारी, लश्कर, हथियारों, रसद के साथ मैदान में थे, उधर रसूल अल्लाह के गिनती के कुछ लोग थे, जिनके पास हथियार नहीं थे, सवारी के घोड़े नहीं थे, जिरहबख्तर नहीं थे, खाने पीने का कोई ख़ास बंदोबस्त नहीं था,,,,मोर्चा हुआ,,,और जिनके पास कुछ नहीं था सिवाए रसूल अल्लाह और अल्लाह की मदद के जीत गए, अरब के जंगी बहादुर हार कर फरार हो गए, कुछ पकडे गए,,,ये बड़ा अहम् मामला है, इसको समझना ज़रूरी है,,,जो लोग अरब के ‘बदर’ की जंग में रसूल अल्लाह के लोगों ने बंदी बनाये थे अरबों को उनके बारे में ख़याल था कि या तो मुसलमानों ने उन्हें मार दिया होगा, या उनको बहुत तकलीफें दी जा रही होंगी,,,,अरबों के ये ख्याल अपने तजुर्बों की बिना पर थे, जैसा वो अपने दुश्मनों के साथ करते थे वैसा ही अब ख़याल कर रहे थे कि इनके लोगों के साथ हो रहा होगा,,,,मगर अल्लाह के रसूल ने बंदियों को कोई सज़ा नहीं दी, उन पर कोई ज़ुल्म नहीं किया गया, उनकी जान नहीं ली गयी,,,बस उन से कहा गया कि तुम में से जो पढ़ा लिखा है वो एक मुस्लमान को पढ़ाये,,,और फिर उन बंदियों को रिहा कर दिया गया,,,,जब ये गिरफ्तार किये गए लोग वापस अपने लोगों में पहुंचे तो वहां लोगों को हैरत हुई, इनकी बातें सुन कर जो लोग रसूल अल्लाह के बारे में बुरे ख़याल रखते थे, उनको सताते थे, उनके अंदर बदलाव आना शुरू हुआ ,,,

अरब का बड़ा नामी सूरमा ख़ालिद मुस्लमान हो गया, रसूल अल्लाह के क़तल का इरादा लिए घर से निकले उमर मुस्लमान हो गए,,,,फिर एक वक़्त आता है जब रसूल अल्लाह के सिपाही मक्का की तरफ चलते हैं और मक्का में हर तरफ से दाखिल होते हैं, और रसूल अल्लाह मक्का में दाखिल होते हैं, क़ाबा जाते हैं,,,मक्का के लोग घरों में बंद हैं, डरे हुए हैं, आज उनको याद आता है कि मुहम्मद पर कौन कौन से ज़ुल्म किये थे,,,आज उनका बदला लिया जायेगा, किसी को छोड़ा नहीं जायेगा, खून की नदियां बहेगी, लाशों के ढ़ेर लग जायेंगे,,,,मगर रसूल अल्लाह एलान करते हैं, जो काबा में हैं, वो माफ़, जो अबू सुफियान के यहाँ हैं, उन को माफ़ी,,,,और पूरे मक्का वालों को आप ने आम माफ़ी दे दी,,,ये दुनियां की एक मात्रा क्रांति/फ़तेह/जीत थी जिसमे ‘एक बून्द’ खून की नहीं बही,,,जिन लोगों की डर से जान निकली जा रही थी, रसूल अल्लाह के एलान के बाद उनके होश उड़ गए,,,उन्हें तो ख्याल था कि आज बहुत बुरा अंजाम होगा,,,,इस तरह दुनियां के सबसे खूंखार लोग हिदायत पा कर ‘इस्लाम’ में आ गए ,,,,
असल में पुलवामा और बाबरी मस्जिद की वजह से ये ज़िक्र करना पड़ा,,,,
अरब आज बहुत दौलतमंद हैं,,,रसूल अल्लाह ने दुनियां में सबसे पहली डेमोक्रसी कायम की थी, मक्का की फ़तेह के बाद आप ने समाजवाद के नज़रिये को अपनाया और ग़रीबों के लिए अमीरों से ज़कात का निज़ाम कायम किया, समाजी बराबरी कायम की, औरतों को सम्पतियों का मालिकाना अधिकार, निकाह में मेहर की सूरत में भविष्य को ध्यान में रख कर कुछ रकम का तै करना, महिला की हिफाज़त/इज़्ज़त की ज़िम्मेद्दारी मर्दों पर कायम की गयी, बच्चियों के क़त्ल बंद हुए, हुकुम हुआ कि जो बेटी को पालेगा, तालीम देगा, उसकी शादी करेगा तो उसके लिए अच्छी खबर है, वो जन्नत वाला होगा,,,,हुकुम हुआ, माँ – बाप की इज़्ज़त करो,,माँ के पैरों तले जन्नत है,,,मतलब कि हर तरह की आज़ादी, खुदमुख्तारी के साथ, इज़्ज़त, बराबरी, भाई चारे के साथ,,,आप ने हुकुम दिया कि जो लोग और मज़हबों के मानने वाले हैं उनके साथ किसी तरह का फर्क नहीं होगा, वो अपने मज़हब के तरीके से रहे, जियें,,,,रसूल अल्लाह ने ‘डेमोक्रेसी’ को कायम किया,,,जबकि यूरोप व् दुनियां के दूसरे मुल्कों में तानाशाही/बादशाहत थी, वहां किंग थे, प्रिंस थे, प्रिंसेस थीं,,रॉयल लाइफ थी,,,
गड़बड़ रसूल अल्लाह के इस दुनियां से पर्दा करने के बाद शुरू होती है, रसूल ने जो रियासत कायम की थी उस फार्मूले को यूरोप ने अपना लिया, पूरे यूरोप में डेमोक्रेसी पहुँच गयी और अरब एक वक़्त के बाद डेमोक्रेसी से तानाशाही/बादशाहत में बदल गए,,,मुसलमानों की गाडी यहाँ से ग़लत दिशा में चली,,,,
एक और बड़ी ग़लती मुसलमानों ने लगातार अभी तक की है, वो ये कि जब इस्लाम की बात होती है तो लोग कितने ही किस्से, वाक़ियात मुस्लिम साशकों, उनके कामों की मिसाल देकर समझाते हैं,,जबकि इस्लाम का इतिहास सिर्फ ‘रसूल अल्लाह’ की 63 साल की जिंदिगी है,,,रसूल अल्लाह के दुनियां से पर्दा कर लेने के बाद की हर घटना, वाकिया ”मुसलमानों का इतिहास” है,,,,तो यहाँ ये फ़र्क़ नहीं रखा गया जिससे बहुत बार नुक्सान हुआ है,,,,इस्लाम का इतिहास,,,,और मुसलमानों का इतिहास,,,दोनों अलग हैं,,,,मुसलमानों के इतिहास में कई बार ऐसा भी हुआ है जो शर्मिंदा करता है,,,डराता है, ज़ुल्म होता है,,,खून बहते हैं,,,लाशों के ढेर लगते हैं,,,,इस्लाम का इतिहास ‘फ़तेह मक्का’ है जहाँ रसूल अल्लाह के पास ताक़त थी मगर आप ने लोगों को माफ़ करना सही समझा,,,,लोगों को साज़ नहीं दीं बल्कि तालीम सिखाने का काम दे कर ‘बदर’ में आज़ाद कर दिए,,,

आये दिन अख़बारों टीवी पर खबरें देखने को मिलती हैं कि पाकिस्तान से आयी करोड़ की हीरोइन बरामद, स्मेक बरामद,,,ये आती कैसे है, सरहद पर अगर ‘सुई’ गिर जाए तो वोह भी मिल सकती है रात के वक़्त भी ऐसा रौशनी होती है,,,कुछ दरिया, नाले, दर्रे हैं जहाँ पर तारों की बाड़ या निगरानी ज़यादा चौकस नहीं है,,,,कुछ दशकों पहले तक पाकिस्तान के मजदुर भारत के खेतों में काम करने आते थे, यहाँ के लोग सरहद पार उधर आते जाते थे, उधर के डाकू इधर डाके डालते थे, इधर के वहां अपना काम दिखाते थे,,मगर तब आतंकवाद नहीं था,,,
1968 में इंद्रा गाँधी ने जब IB को बनाया तो उसके डॉयरेक्टर को सीधे इस्राईल ‘मोसाद’ के संपर्क में रहने को कहा,,इस्राईल का इतिहास आप जानते हैं,,,1990 और 1992 में बीजेपी के कार्यक्रम ‘मोसाद’ के निर्देशन में चलाये गए थे, 6 दिसम्बर 1992 को बाबरी मस्जिद को गिराने का पूरा कार्यक्रम ‘मोसाद’ की देख रेख में हुआ था, बाबरी मस्जिद को ‘उड़ाया’ गया था, वो ढायी नहीं गयी थी, ‘उड़ाया’ गया था तब जबकि उसकी सुरक्षा में पैरामिलट्री फाॅर्स तैनात थी, पुलिस थी,,,तब कैसे ‘उडाया’ गया, वहां ‘मसाला’ पहुंचा कैसे,,,,
पुलवामा की पड़ताल करते करते मै भी पता नहीं कहाँ से कहाँ पहुँच जाता हूँ,,,,
6 दिसम्बर 1992 को बाबरी मस्जिद के गिरा देने के बाद देश में बड़े दंगे हुए, मुंबई में टारगेट किलिंग हुईं,,,मार्च 1993 में मुंबई में ‘टाइगर’ ने धमाके करवा के बैलेंस बनाने की कोशिश की, ये मुंबई हमला ‘आतंकवाद’ के लिए आगे चल कर ‘अदालत’ की ‘नज़ीर’ की तरह काम आया,,,,जब भी जहाँ भी धमाके हुए, वारदात हुई,,,उसको मुसलमानों के सर डाल दिया गया,,,तर्क होता था,,,मुसलामन बाबरी मस्जिद का बदला ले रहे हैं,,,अब तक मैथमैटिकल एक्वेशन eg ax+by+cz= R …बन कर अंदर अंदर काम होते रहे,,,धमाके होते रहे, मुस्लमान बर्बाद होते रहे,,,प्रिंस,,,,सेवक,,,सेवक,,,,प्रधानसेवक,,,,बन गए,,,और उनका मॉडल था हमने अपना लिया हमारा उन्होंने,,,,हम कहाँ पहुंचे,,,,,पुलवामा,,,,भारत और ईरान में लगभग एक साथ समय में आतंकवादी हमले हुए, ईरान के 27 सैनिक मारे गए थे, इधर भारत में 44 की मौत हो गयी,,,,पुलवामा का आतंकवादी हमला एक कोई ‘डार’ नाम का 19 साल का लड़का था ने किया था, ऐसा जानकारियां अभी तक मीडिया में आयी हैं,,,,’एक’ अकेला थक जायेगा,,,मिल कर बोझ उठाना,,,,साथी हाथ बढ़ाना, साथी रे,,,,और कौन थे जिनके हाथ उसमे ‘शामिल’ थे,,,एक बात बता दें उस दिन कश्मीर बंद भी था, यानी कि जो सुरक्षा एजेंसियां चौकन्ना रहती हैं वो हाई अलर्ट पर रही होंगी,,,तब भी आतंकवादी हमला करने में कामयाब हो गए,,,’ट्रिगर’ पॉइंट यही है कि ‘चूक’ कहाँ हुई,,,’वारदात’ हुई कैसे,,,,
सेना में शौर्य था, पराक्रम था सब कुछ था लेकिन जब, देश पर संकट था तब नेता मॉडलिंग कर रहे थे,,,,मै देश नहीं झुकने दूंगा, देश नहीं रुकने दूंगा,,,,चलो छोड़ो,,,,इसके आगे फिर कभी,,,,मुंह तोड़ जवाब देंगे,,,,मुंह तुड़वा लेंगे,,,,ये कोई रंडी ख़ाना है,,,ये कोई रंडी ख़ाना है,,,चुन चुन कर बदला लेना मेरी फ़ितरत है,,,,,,हम देख रहे हैं तुम्हारे सीने में आज भी नफरत की आग जल रही है,,,,ये आग कब बुझेगी,,,,
– परवेज़ ख़ान

=============

जस्टिस काटजू ने कहा, इमरान ख़ान की स्पीच को सिर्फ़ भारतीय महादीप में ही नहीं पूरी दुनियां में पहुँचाया जाये, वो एक नायक हैं
भारत और पाकिस्तान के बीच हालिया बने तनाव और हवाई झड़पों पर भारत के वरिष्ठ जज मारकंडे काटजू ने एक पाकिस्तानी समाचार चैनल से बात करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की न सिर्फ तारीफ की बल्कि उन्होंने कहाकि इमरान खान नोबेल प्राइज के लिए उपयुक्त/हकदार हैं
जस्टिस मारकंडे काटजू का यह इंटरव्यू पाकिस्तान के पत्रकार हमीद मीर ने लिया था, जब पाकिस्तानी पत्रकार ने जस्टिस काटजू से सवाल किया कि ‘मोदी साहब ने कल अहमदाबाद में एक चुनावी रैली में कहा कि घर में घुस कर मारेंगे’, मोदी साहब ने पाकिस्तान के साथ जंग का, टेंशन का माहौल बनाया हुआ है उससे मोदी साहब को फायदा होने वाला है’ का जवाब देते हुए जस्टिस काटजू ने कहाकि ‘नहीं कोई ख़ास फ़र्क़ नहीं पड़ेगा, उनको कोई ख़ास बेनिफिट नहीं मिलेगा हालाँकि कोशिश बहुत की गयी है, देखिए हम लोगों के कॉन्ट्री के सामने बड़ी ट्रामंडिस प्रॉब्लम आ गई हैं, मैसिव अनएम्प्लॉइमेंट हो गया है और 3 लाख से ज़यादा फार्मर्स ने ख़ुदकुशी की हुई है, हर दूसरे बच्चे को खाने को नहीं मिल रहा है, ये बड़े मैसिव प्रोब्लेम्स आ गए हैं, लोग समझते हैं ज़यादा दिन ये माहौल चलेगा भी नहीं
हामिद मीर का सवाल : काटजू साहब ये बताएं, हमारे जो प्रधानमंत्री हैं इमरान खान साहब उन्होंने अमन की पेशकश की है मोदी साहब को, आप का जो पायलेट गिरफ्तार हुआ पाकिस्तान में उसको भी वापस भेज दिया है, तो मोदी साहब उसके बावजूद मुज़ाकरात ‘बातचीत’ के लिए तैयार नहीं हैं, तो फिर पाकिस्तान क्या करे

जस्टिस काटजू का जवाब : देखिए जो करना चाहिए वो आप के प्राइम मिनिस्टर इमरान खान साहब ने बात बताई है, और सही बताई है, and i was very impress by speech, जो उन्होंने टेलीविज़न पर तकरीर की है, i tell u it is amzeging, he has display the quality of real statsman, देखिये पॉलिटिशियन और स्टेट्समैन में फ़र्क़ होता है, पॉलिटिशियन बिलकुल इमीडीएडटे गेन की तरफ देखता है, जबकि स्टेट्समैन has far sighted vision, उन्होंने बड़ी सही चीज़ें कहीं और पेटेंटली समझाया, देखिए हम लोग भी शिकार हैं दहशतगर्दी के, मै हॉस्पिटल गया, किसी का हाथ नहीं है किसी का पैर नहीं है, जैसा इन्वेस्टीगेशन इंडियन govt चाहती है हम लोग राज़ी हैं, let us have talks, देखिए एक चीज़ आप लोग अपने प्राइम मिनिस्टर के बारे में नहीं जानते जो मै समझ गया, अब तक आप समझते थे कि ये एक क्रिकिटेर थे और अब पॉलिटिशियन हो गए हैं मगर उनमे एक तीसरी क्वालिटी भी है जो मैंने पायी कि he is a scholar also, ये लगता है ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में सिर्फ किरकेट नहीं खेलते थे, इन्होने डीप स्टडी हिस्ट्री की की है, क्यूंकि इन्होने जो तकरीर की उसमे जो उन्होंने रेफरेन्सेस जो हिस्ट्री के दिए that shows he has study in history, deep history, he is a scholar also, ये बात आप पाकिस्तानियों को अपने प्राइम मिनिस्टर के बारे में अब तक समझ में नहीं आयी, आप बस समझते थे किर्किटेर हैं, पॉलिटिशियन हैं, he is a scholar also, आप स्पीच फिर से सुनिए उनकी, जो रेफरेन्सेस दिए हैं बड़े equrate दिए हैं उन्होंने,,,,,

,,,,सारे हिन्दोस्तान ने उनकी स्पीच सुनी, बैलेंस्ड, फुल ऑफ विस्डम, पेसेंटली, ठन्डे दिमाग़ से उन्होंने समझाया कि हम लोग भी शिकार हैं, let us talk discussion, बातचीत तरीका है जंग कोई तरिका नहीं है, it was very impressive speech, i think it should be circulated throught the world, not in just our continant, and he diserv the nobel prize, i support that move, very fine leader,

============
Satyendra PS
हिटलर एक दिन सिनेमा हाल में यह देखने गया कि जब मेरी तस्वीर आती है तो लोग क्या व्यवहार करते है।
फ़िल्म शुरू होने से पहले हिटलर की तस्वीर आयी तो सारे लोग खड़े हो गए और जयजयकार के नारे लगाने लगे।
हिटलर खड़ा नहीं हुआ और क्यों खड़ा होता, वह तो खुद ही हिटलर था मगर यह भूल गया कि वह यहाँ हिटलर बन कर नहीं आया है।
सभी जयघोष के नारे लगा रहे थे, वह बहुत प्रसन्न था, तभी बगल मे खड़े एक आदमी ने उसको कंधे पर धक्का देते हुये कहा – मूर्ख खड़ा हो जा अगर उस हरामज़ादे को पता चल गया तो तू मुसीबत में पड़ जाएगा।
क्या हम भी उसी दौर में जी रहे है? आप उन की हाँ में हाँ मिलाएं नहीं तो आप भी देशद्रोही और गद्दार हो जायेंगे।
Subhash Srivastava

===========

Mod Ayub Khan
========
धमाकों से 40 जवान हलाक़ हुए,
लाखों कश्मीरियों की चीखें दब गयीं,
पैलेट ज़दा आंखें रुंध गयी …..
कलम से लहू टपका लेकिन तहरीरें डर गयीं …..लम्बे वक़्त तक ज़ुल्म पर खामोशी रहेगी ।
.
वोट पोलोराइज़ हो गया,
कश्मीरी युवक डार जो कि आर्मी कस्टडी में था, लकड़ी की चाबी से ताला खोल कर कब बाहर आया कौन पूछे!
साढ़े तीन सौ किलो RDX सरहद पार से उड़ कर आया कौन पूछे ?
अखण्ड भारत की अलख जगाए गले मे भगवा गमछा डाले गुंडे कहते फिरते हैं
कश्मीरी देश छोड़ो
कश्मीरियो वापस जाओ ….
कश्मीर कब अलग मुल्क बन गया कौन पूछे ?
धमाके क्या हुए कि संघियों ने हाथों में पाकिस्तानी झंडे उठा लिए,
यह झंडे कहाँ निर्मित हुए, कहाँ से खरीदे गए कौन पूछे?…
एक उन्माद है, देश भक्ति के चरस बोई थी उसी को पी कर घूम रहे कुछ उन्मादी हैं ।
हुक़ूक़ ए पामल पर सवाल अब डर गए हैं…
यह जो काली डीपी पर शमा जलाए हैं…तो वह डरे सवाल फुस फुसा कर कह रहे हैं
ऐ शमा तुझपे रात यह भारी है जिस तरह
हमने सत्तर साल गुजारी है इस तरह …..पर तुम हमारे ज़ुल्म पर कभी इतने संवेदनशील नही थे,, हमारे ज़ुल्म पर तुम या तो दोगले थे या डरे हुए थे ।
..……..
अभी जांच होना है, लेकिन पहले ही मिनट में टीवी वार रूम में बैठे एंकर ने आतंकवादी का धर्म बता दिया और 99% मुल्लाओं ने उस टीवी एंकर को पयम्बर मान कर तस्दीक करके अपनी सफाई पेश करदी,
जांच से पहले ही धर्म कैसे तै हो गया कौन पूछे?
क्या यह धमाके सरकार प्रायोजित नही हो सकते…
इन धमाकों से किसको कितना लाभ हुआ यह कौन पूछे?
…….. मेरी सलाह मानिए,, आप डरिये मत, पूछना शुरू कीजिये ।
आपके सवाल डर नही सकते…. अगर सवाल डर गए तो जवाब प्रायोजित षड्यंत्र बन जाएंगे,, फिर यह षड्यंत्र आपको और डराएंगे ।
पाकिस्तान से इंडिया के दूतावास बन्द नही हुए,
सफारती ताल्लुक खत्म नही हुए ….
हाँ करवाई करते हुए इंडिया ने सीमा शुल्क 200% कर दिया
लेकिन सरहद पार से समान की आवाजाही पर प्रतिबंध नही लगाया….
यह सब क्या तमाशा लगा रखा है कौन पूछे …….
संघी पाकिस्तान तक बदला लेने क्यों जाए
उसके पड़ोस में एक मुल्ला है …जिसे पाकिस्तानी साबित करने में टीवी ने बहुत मेहनत की है और अब संघी का बदला लेना आसान हो गया है..
पाकिस्तान किस सिम्त है कौन पूछे ?
.
जंग तो खुद ही एक मसला है
जंग क्या मसअलों का हल देगी
खून ओर आग आज बरसेगी
भूख ओर एहतियाज कल देगी
Tasneem Nazim Ghazi

पुलवामा की पड़ताल : पार्ट 4 : अभिनन्दन ने बड़ी तबाही से देश को बचा दिया

=============
पुलवामा में आतंकवादी हमले में CRPF के तक़रीबन 49 जवानों की मौत हो गयी थी, कई सैनिक ज़ख़्मी हुए थे, यह कश्मीर में हुए हमलों में शायद सबसे बड़ा आतंकी हमला था, दुनियांभर में आतंकवाद एक बड़ी चुनौती है, अनेक देश, संगठन इससे लड़ाई लड़ रहे हैं| पुलवामा हमले की पड़ताल करने से पहले ये दो खबरें बार फिर से पढ़ें,,,,,,

वह ये खबरें हैं

=============
ईरान, आतंकी हमले में शहीद होने वालों की संख्या 27 हुई
Feb १४, २०१९
आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड ने एक बयान जारी करके कहा है कि देश के दक्षिणपूर्वी प्रांत सीस्तान व ब्लोचिस्तान में होने वाले आत्मघाती आतंकी हमले में शहीद होने वालों की संख्या बढ़कर 27 हो गयी है जबकि 13 लोग घायल हुए हैं।
आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड ने अपने बयान में कहा कि एक तकफ़ीरी आत्मघाती हमलावर ने सीमा सुरक्षा बल के जवानों की बस को उस समय निशाना बनाया जब सेना के जवान सीमा पर अपनी ज़िम्मेदारियों का निर्वहन करके छावनी की ओर लौट रहे थे। इस आतंकी हमले में अब तक 27 लोग शहीद और 13 अन्य घायल हो चुके हैं।
आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड ने देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर करने वाले शहीदों की शहादत पर बधाई और सांत्वना देते हुए इस प्रकार के आतंकी हमलों को इस्लामी गणतंत्र ईरान के शत्रुओं की अक्षमता का चिन्ह बताया।
आईआरजीसी की ओर से जारी बयान में आया है कि वर्चस्ववादियों और ज़ायोनी शासन की गुप्तचर संस्थाओं के समर्थन से अंजाम दिया जाने वाला यह आतंकी हमला न केवल यह है कि ईरानी सीमा सुरक्षा बलों के मज़बूत और फ़ौलादी इरादों को बदल नहीं सकता बल्कि इससे देश की सीमाओं की सुरक्षा और देश में शांति की बहाली में इरादे और भी मज़बूत होंगे।
ज्ञात रहे कि बुज़दिल तकफ़ीरी दुश्मनों ने बारूदी पदार्थों से भरी एक गाड़ी से बस पर आत्मघाती हमला किया जिसके परिणाम में अब तक आईआरजीसी की क़ुद्स ब्रिगेड के 27 जवान शहीद और 13 अन्य घायल हो गये।
ईरान, सेना पर आतंकी आत्मघाती हमला, दर्जनों शहीद और घायल
दक्षिणपूर्वी ईरान में बुधवार की शाम होने वाले आत्मघाती आतंकी हमले में आईआरजीसी के जवानों को ले जा रही बस को निशाना बनाया गया है।
आरंभिक सूचना के अनुसार आतंकवादियों ने बुधवार की शाम ईरान के दक्षिणपूर्वी प्रांत सीस्तान व ब्लोचिस्तान में ख़ाश-ज़ाहेदान रोड पर यात्रा करने वाले
आईआरजीसी के जवानों की एक बस को निशाना बनाया।
कहा जा रहा है कि इस आतंकी हमले में कम से कम 20 लोग शहीद और 20 अन्य घायल हुए हैं। आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुलम ने इस आतंकी हमले की ज़िम्मेदारी स्वीकार की है।यह आतंकी संगठन इससे पहले भी सेना के जवानों को निशाना बना चुका है।
जम्मू कश्मीर, सेना पर बड़ा हमला, 40 जवान हताहत
Feb १४, २०१९
भारत नियंत्रित कश्मीर में रिमोर्ट कंट्रोल धमाके के परिणाम में सीआरपीएफ़ के 40 जवान हताहत हो गये। यह हमला जम्मू कश्मीर के पुलवामा ज़िले में हुआ।
प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार रिमोर्ट कंट्रोल धमाका श्रीनगर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित महत्वपूर्ण हाईवे पर उस समय हुआ जब सैन्य गाड़ियों का कारवां वहां से गुज़र रहा था। भारतीय पुलिस अधिकारी मुनीर अहमद ख़ान ने एएफ़पी को बताया कि धमाके में मारे गये सुरक्षाकर्मियों की संख्या 40 तक पहुंच चुकी है। बताया जाता है कि एक आत्मघाती हमलावर ने बारूद से भरी गाड़ी को सीआरपीएफ़ के जवानों की बस से टकरा दी। विस्फोट में कई लोग घायल हो गये। धमाका इतना जबरदस्त था कि बस के टुकड़े टुकड़े उड़ गए और आस पास बिखरे क्षत-विक्षत शवों को देखा जा सकता है। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि विस्फोट की घटना श्रीनगर जम्मू राजमार्ग पर अवंतिपुरा इलाके में हुई
ज्ञात रहे कि बुधवार 13 फ़रवरी को दक्षिण पूर्वी ईरान के ख़ाश ज़ाहेदान रोड पर पासदाराने इंक़ेलाब फ़ोर्स की थल सेना के जवानों की बस पर आत्मघाती आतंकी हमला हुआ जिसमें 27 जवान शहीद और 13 घायल हो गए। इस हमले की ज़िम्मेदारी जैशुल ज़ुल्म नामक आतंकी संगठन ने स्वीकार की जिसे सऊदी अरब सहित क्षेत्र के कुछ अरब देशों का समर्थन प्राप्त है।

अब आते हैं पुलवामा हमले की पड़ताल पर

=============
हम जिस ज़मीन पर हैं, उसके आसपास कुदरत ने अनेक आकाश, आकाश गंगायें, सूरज, सितारे वगैरह पैदा किये हैं, हमारी ये ज़मीन सूरज जो ज़मीन से नज़र आता है से छोटी है, इस ज़मीन से जो सबसे दूर सितारे की अब तक खोज की गयी है वह 54 लाख गुना साइज में बड़ा है, अब ज़रा सोचिये, कि अगर हम अपनी ज़मीन को उस सितारे पर रखें तो उसकी क्या शकल होगी, वहां ये न होने के बराबर समझे,,,,इतनी छोटी/बड़ी धरती पर एक देश है भारत, भारत में एक राज्य है उत्तर प्रदेश, उत्तर प्रदेश में एक शहर है अलीगढ, अलीगढ में एक मोहल्ला है फिरदौस नगर, फिरदौस नगर में एक छोटा सा मकान है जिसमे एक ‘मै” हूँ, अब मुझे समझ आ जाना चाहिए कि ‘मेरी’ क्या हैसियत है और जो हम एक समय तक जीवन पाते हैं वो कितना कम है,,,,,
जब इंसान को पैदा करने का हमारे ”रब” ने फैसला किया तो उसके बाद ये सारी क़ायनात का वजूद में आना हुआ, इस ज़मीन पर इंसान को पैदा करना था इसलिए उसके इस्तेमाल के लिए तमाम चीज़ें पैदा की गयीं, अगर इंसान को ज़मीन पर पैदा न करना होता तो ये भी पहाड़, गैस, आग का गोला रहती, यहाँ और कुछ न होता,,,,
पुलवामा पर आते हैं, भारत पाकिस्तान एक दूसरे से कश्मीर को लेकर भिड़े हुए हैं, मौजूदा सरकार ने कश्मीर की समस्या को हल करने में कोई दिलचस्पी नहीं ली, उन्हें वहां सरकार चलानी थी, वो पीडीपी के साथ चलायी, कश्मीर के मसले के हल पर काम नहीं किया गया, वहां सैनिक कार्यवाहियों ने लोगों को सेना के सामने खड़े होने और गोली खा कर मारने को तैयार कर दिया है
भारत की 12 करोड़ की सेना में से तक़रीबन 7 करोड़ सिर्फ कश्मीर में तैनात है, वह भी वादी में सबसे ज़यादा तैनाती है, कश्मीर में तीन ज़ोन हैं, जम्मू, कश्मीर और लद्दाख, लद्दाख में लेह और कारगिल जिला है, यहाँ पूरी तरह अमन है, आतंकवाद का यहाँ नामो निशान तक नहीं है, जम्मू और कश्मीर में कई ज़िंलों में भयानक खूनखराबा आये दिन होता रहता है, यही वह इलाका है जहाँ सेना चप्पे चप्पे पर तैनात है, ये इलाका पहाड़ों, जंगलों से घिरा हुआ है, कश्मीर के आज के हालात ऐसे हैं कि पांच साल का छोटा सा बच्चा सेना की जीप के सामने हाथ में पत्थर लेकर खड़ा हो जाता है,,,ये बहुत खतरनाक हालात की तरफ इशारा है, ये बच्चा अगर 70 साल की उमर पायेगा तो 65 सालों तक लड़ाई लड़ने के लिए अभी से तैयार है, इस का हल सरकारें तलाश नहीं करती हैं वो बन्दुक की गोली के दम पर लोगों को काबू करने में भरोसा करती हैं

गाँधी जी ने जब अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ाई शुरू की थी उस समय अंग्रेज़ों के सामने बोलने की हिम्मत किसी की नहीं होती थी, गाँधी जी ने लोगों के दिलों से डर निकाला, उन्हें अपनी लड़ाई लड़ने के लिए प्रोत्साहन दिया, ये गाँधी जी का महान योगदान था, जिसके कारण भारत में अनेक बड़े आंदोलन हुए जिससे अंरेज़ी हुकूमत को घबराहट हुई
पुलवामा का हमला अनेक कारणों से संदेह पैदा करता है, conspiracy theory की तरफ ले जाता है, ऐसा इस हमले के बाद की गयी मीडिया रिपोर्टिंग और राजनैतिक पार्टी की तरफ से इस मामले में की गयी राजनीती, पुराने वक़्त की तरफ धयान/जांच/पड़ताल को ले जाने पर मजबूर करता है, बाबरी मस्जिद की शहादत के बाद जब देश में आतंकवादी हमलों/वारदातों का दौर शुरू हुआ तो उस समय भी मीडिया सबसे पहले आतंकवादी हमलों का खुलासा करता था, राजनैतिक पार्टी, अराजनैतिक संगठन के नेता इनमे सीधे मुसलमानों को शामिल कर दिया करते थे, बाद में पुलिस, जाँच, ख़ुफ़िया एजेंसियां,,,जैसा मीडिया रिपोर्ट और नेताओं के बयान होते थे अपना पक्ष रख कर हंडिया ‘मुसलमानों’ के सर फोड़ देती थीं,,,,शुरू में इन मामलों में किसी के बोलने की भी हिम्मत नहीं थी, बाद में परतें खुलना शुरू हुईं और ”मीडिया, राजनीती, एजेंसियों” के गठबंधन बेनकाब हुए,,,आतंकवाद से लड़ाई के सहारे भारत में एक मत/विचार के लोग अपनी राजनीती चमकाने का काम करते रहे हैं
conspiracy theory कहती है कि पुलवामा का हमला ऐसे इलाके में जहाँ सेना हाई एलर्ट पर थी, चप्पे चप्पे पर निगरानी, वहां हमला होना वह भी इस स्तर का हमला, आसान ही नहीं न मुमकिन होना चाहिए था पर हुआ, जब हुआ है तो उसमे कौनसा ऐसा जाँच हुई थी जो तुरंत टीवी चैनलों पर ‘हमला’ करने वाले संगठन का नाम बताता दिया गया और वह जो हमलावर का वीडियो जारी हुआ था उसकी सत्यता की जाँच कब किसने की, वोह वीडियो कहाँ से जारी हुआ था, किस ने किया था, का बताना चाहिए था, वीडियो का ‘तुरंत’ जारी होना पुलवामा आतंकी हमले के पीछे की ‘गुप्त’ कहानी की तरफ न सिर्फ इशारा करता है बल्कि ‘शक’ करने के आधार को पुख्ता करता है
कश्मीर के अंदर फ़र्ज़ी जेम्स बॉन्ड का फार्मूला नाकाम हो चुका है, वहां अमन की जगह पर आग लगी हुई है, जेम्स बॉन्ड का प्रेरणा श्रोत देश दुनियां में आतंकवाद का जनक देश है,,,वह देश ईरान, पाकिस्तान को अपना दुश्मन नंबर एक मानता है,,,अफगानिस्तान में चल रही शांति वार्ता से कई देशों के हित जुड़े हैं, कई देश वहां बने रहना चाहते हैं,,,पाकिस्तान इस शांति वार्ता का सबसे अहम् खिलाडी है, तमाम ‘पत्ते’ वहां पाकिस्तान के हाथ में हैं, अमेरिका को पाकिस्तान का समर्थन हर हाल में चाहिए वोह अफगानिस्तान से जल्दी से जल्दी निकलना चाहता है, अमेरिका ने उत्तर कोरिया से भी अपने तनाव/झगडे को पीछे छोड़ अमन की तरफ कदम बढ़ाये हैं, सीरिया से निकलने का एलान अमेरिका पहले ही कर चुका है, इसकी वजह है अमेरिका पूरी ताकात के साथ ‘ईरान’ के खिलाफ उतरने की तैयारी में है
ईरान और भारत में सेना पर आतंकवादी हमले हुए, ईरान में 13 फरवरी को और भारत में 14 फरवरी को, एक दिन के आगे पीछे, ईरान में सेना पर हमला और भारत में सेना पर हमला, ये कोई इत्तिफ़ाक़ नहीं था, ये अफगानिस्तान में अमेरिका और तालिबान की शांति वार्ता के मद्देनज़र हुए हैं, मेने पहले भी लिखा है मैथमाटिक्स में eqations को हल करने के सवाल होते हैं जैसे कि ax+by+cz = K
आतंकवाद की जो लड़ाई लड़ रहे हैं, यही देश आतंकवाद के जनक हैं, दाइश का इराक/सीरिया से सफाया हो गया है,,,कहाँ गए सारे दाइशी
आतंकवादी,,,मारे तो गये नहीं हैं, ये सब अब नए दाइश में नज़र आएंगे, बहुत जल्द दुनियां के सामने दाइश से कई गुना खतरनाक आतंकवादी गुट आने वाला है, अमेरिका और उसके सहियोगी दाइश को नए रूप, नए रंग में ढाल कर ईरान के खिलाफ युद्ध में उतारने की तैयारियों में हैं
पुलवामा का आतंकवादी हमला ऐसे ही नहीं हुआ था, उसके बड़े गहरे उदेश थे, सत्ता प्राप्ति का मार्ग इस हमले से बनता था, इसकी टाइमिंग और तरीका, ईरान में आतंकी हमले की टाइमिंग और तरीका,,,,और उसके बाद ईरान, भारत की सरकारों की प्रतक्रिया, ईरान ने आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुलम पर हमले का आरोप लगाया था, भारत ने जैश ए मुह्हमद पर,,,दोनों का ‘जैश’ एक बात साफ़ कर देता है,,,,,अफगानिस्तान के लिए तीसरे ‘खिलाडी’ मैदान से बहार बैठ कर खेल खेल रहे हैं,,,आतंकवाद के पालनहार, आतंकवाद का पोषण करने वाले अपनी चालों से दुनियां को रोज़ लहूलुहान करते हैं,,,जबकि इंसान की ये जिंदिगी बहुत छोटी है और ये दुनियां जिसके लिए लडे मरे जा रहे हैं ‘राई’ के दाने के बराबर भी नहीं, जहाँ हिटलर, बुश, सद्दाम, अटल, याहू, मोदी, भगवत,,,कुछ भी स्थाई नहीं है, जो हैं वो एक सीमित समय के लिए हैं, एक ज़ोर की आवाज़ का होना होगा,,,ये पहाड़ टूट कर गिर जायेंगे, समन्दरों में सुनामी आ जाएगी, सूरज भसम हो जायेगा,,,ये धरती फट जाएगी, जो जहाँ है वहीँ रह जायेगा,,,और सब कुछ ख़त्म हो जायेगा,,,फिर फ़र्ज़ी जेम्स बॉन्ड पुलवामा कराये या उसके अभिन्न मित्र आतंकवादी हमलों में मदद करें,,,तो ये यूँ हीं चलता रहेगा,,,,बालाकोट में एक ‘कौवा’ मार कर लोगों को बताते रहना ‘मूँह तोड़ जवाब दिया है’,,,,भला हो अभिनन्दन का जिसने बड़ी तबाही से देश को बचा दिया वार्ना ये तो जंग के लिए ‘पागल’ हो रहा था,,,दूसरों के उकसावे में आ कर काम करने वाले हमेशा अपना नुक्सान कर लेते हैं,,,दो मिग तबाह करवा दिए, विश्व वियापी शर्मिंदगी अलग से झेलना पड़ी है, तेरा बुरा हो कम्बख्त बांड – याहू,,,,,,परवेज़ ख़ान

#पुलवामा की पड़ताल : पार्ट 5 : धयान रखें, भारत का यह आख़िरी चुनाव है, इसके बाद चुनाव नहीं होगा

==========
वहम, शक यूँ ही नहीं पैदा होते हैं, यह व्यक्ति की क़ाबलियत को उजागर करते हैं और बड़ी खोज, आविष्कार का जरिया बनते हैं, जब किसी चीज़/मामले में किसी इंसान को ‘वहम/शक’ होता है तो वो उसकी पड़ताल/खोज करता है कि ये है क्या और बहुत बार ऐसी परतें खुलती हैं जिनका अंदाज़ा भी कभी किसी ने नहीं लगाया होता है
आप देखें जितने भी वैज्ञानिक हुए हैं वो समाज से थोड़ा हट कर करने और सोचने वाले लोग थे जिनको हमारा समाज सिन्की भी कहता है पर यही लोग असल में कारगर/कामयाब हुए जिनकी वजह से पूरी दुनियां को नयी नयी चीज़ें मिली हैं, ये मोबाइल, कम्प्यूटर, बिजली, मिसाइल, गन, नूक्लिर मटेरियल, रेल, बल्ब,,,कहाँ/किसने खोजे, बनाये हैं किसी मौलाना, बाबा, पंडित ने नहीं बनाये,,,,
बात पुलवामा पर वापस ले आते हैं, आज समाजवादी पार्टी के बड़े नेता और राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर राम गोपाल यादव ने कहा है कि ‘वोटों के लिए मार दिये गए देश के जवान, मामले की जांच होगी तो इसमें बड़े-बड़े लोग फंसेंगे’,,,ये साथ में और देख लें”RG Yadav,SP: Paramilitary forces dukhi hain sarkar se, jawan maar diye gaye vote ke liye,checking nahi thi Jammu-Srinagar ke beech mein, jawano ko simple buses main bhej diya,ye sazish thi, abhi nahi kehna chahta, jab sarkar badlegi, iski jaanch hogi, tab bade-bade log phasenge.”— ANI UP (@ANINewsUP) March 21, 2019
प्रोफ़ेसर रामगोपाल यादव कोई आम आदमी नहीं हैं उनकी बात को हल्के में लेना नाइंसाफी होगी, वो राजनैतिक व्यक्ति हैं, प्रोफेसर हैं और भारत की संसद के सदस्य हैं, अब आम आदमी इसके बाद क्या समझे, पुलवामा का हमला था क्या, और ये हुआ कैसे, और इसको अंजाम दिलवाया किसने और इससे किसको फायदा होना है, और फायदा किस तरह का होना है,,,,ये सवाल ‘शक’ पैदा करते हैं, और शक की सुई किधर जा रही है आप समझें, हम मगर अपनी तरह से इसकी पड़ताल जारी रखेंगे क्यूंकि ये कोई मामूली हमला नहीं था, इसमें 44 सैनिकों की जान गयी है,
पार्ट 4 की पड़ताल में ईरान में 13 फरवरी के आतंकी हमले का ज़िक्र किया गया है, पुलवामा में आतंकी हमला 14 फरवरी को हुआ था, इन दो तारीखों को ज़रा धयान में रखना, पुलवामा का आतंकी हमला भारत में अपनी तरह का पहला हमला है जिसमे इस तरह से कार्यवाही की गयी है, ये ‘फिदायीन हमला’ था, कश्मीर के लोकल लड़ाके गोली, हथगोला, गन से लड़ते हैं, पत्थर फैकते हैं,,,सड़कों पर आग लगाते हैं, वो लोग सेना से मुकाबला करते हैं, मगर यहाँ ‘फिदायीन हमला’ हुआ था, फिदायीन हमला भारत में अभी तक किसी भी कश्मीरी संगठन ने नहीं किया है, तमिल, माआवादियों के आलावा पश्मि में त्रिपुरा, असम के कुछ गुट हैं जो ये कार्यवाही करने में सक्षम हैं, भारत के बाहर अलक़ायदा, दाइश इस काम में माहिर माने जाते हैं, अलक़ायदा का कश्मीर से कोई लेना देना नहीं है, बल्कि ओसामा के ‘ग़ायब’ कर देने के बाद से ये संगठन अब नाम मात्रा का बचा है, जब वेस्ट और अमेरिका अपने लक्ष्य प्रपात कर लेंगे ये समाप्त हो जायेगा, अरब देश पर नज़र डालते हैं, दाइश सीरिया और इराक में हार चुके हैं, वहां इनका सफाया हो रहा है, हो चुका है, रूस, तुर्की और ईरान ने मिल कर अमेरिकी गठबंधन और सहियोगी दाइश का खात्मा कर दिया है, अमेरिका और इस्राईल का अरब में ‘ईरान’ सबसे बड़ा दुश्मन है, ईरान के खिलाफ ये कार्यवाही तो करना चाहते हैं मगर हाथ रखने की जगह नहीं मिल रही है, ऊपर से ISIS की हार ने इनको अपना पूरा अरब और एशिया नीति को लेकर बदलाव करने पर मजबूर कर दिया है, अमेरिका की चिंता इस समय अफ़ग़ानिस्तान से निकलने को लेकर है, पाकिस्तान और ईरान की सरहद आपस में मिली हुई हैं, पाकिस्तान नुक्लिएर पावर’ रखता है, ईरान हासिल करना चाहता है, इस्राईल की ये चिंता है कि ईरान किसी भी तरह से ‘परमाणु’ ताक़त न बने, पाकिस्तान को सबसे अहम् इसकी ‘जियोग्राफी/भूगोल’ बनता है, पाकिस्तान सबके रास्ते में ‘चौकीदार’ बन के बैठा है, अब किया क्या जा सकता है,,,,कैसे ये फंसे हुए मामले हल हों, सबसे आसान तक़ीक़ा फिर वोही ‘आतंकवाद’ है, दाइश को नए ‘फील्ड/टारगेट’ दिए जा रहे हैं, इसकी ओवर हालिंग हो रही है, नया दाइश अब तक का सबसे ‘खुखार’ संगठन होगा, ऐसा खुखार की कल्पना नहीं की जा सकती है, अमेरिका, यूरोप और इस्राईल साथ में कई अरब देश मिल कर काम कर रहे हैं,,,,

देखा होगा अफ्रीका, एशिया के ग़रीब देशों में हर कुछ साल के बाद कोई भयानक नयी ”बीमारी” फैलती है, फिर कुछ ही समय में उसकी दवा बना लेने का एलान कर दिया जाता है, ये कारोबार है, अमेरिका व् अन्य सम्पन राष्ट्र अपने देशों की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए इंसानों की हत्याएं करते हैं, ये उनका सदियों पुराना धंधा है
आतंकवाद के सम्बन्ध में अनेक देश कहते हैं इसका सफाया करना है, इसको जड़ से ख़तम करना है,,,मगर ये दिखावा है, हकीकत ये है कि ‘आतंकवाद’ को दुनियां मिल कर भी खत्म नहीं कर सकती है, आतंकवाद ‘हथियार’ है जो बिकता है, फायदा पहुंचता है, तरक्की के रास्ते खोलता है, अर्थव्यवस्था को मज़बूत करता है,,,क्या इंसान अनाज खाना बंद कर सकता है, आतंकवाद भी ‘खेती’ है, जिसकी फसल अच्छी उगती है तो खुशहाली आती है, ग़रीबी/भुखमरी नहीं रहती है,,,
ये जो टीवी चैनलों पर कुछ रक्षा विशेषज्ञ बकवास करते और चीखते/चिल्लाते नज़र आते हैं असल में इन्होने सावधान/विश्राम/दाएं मुड़/बाएं मुड़/बाज़ू सशत्र,,,के आलावा अब कुछ नहीं आता है और जब ये अपनी सर्विस में थे तब वाहनों का डीज़ल/पेट्रोल, किचन का मसाला और राशन अपने संत्री से बिकवा कर पैसा कमाने वालों में से हैं, अब जो सिगरेट और 8PM पीते हैं वो मुफ्त में मिल जाती हैं, बकवास करने की कीमत अलग से, पीने के बाद कुछ को देखा होगा ‘ये कोई रंडी खाना है,,,ये कोई रंडी खाना है’ बकते हुए दिखते हैं, इस ‘रंडी’ के से अगर पूंछा जाए कि तुमने कौन से मैदान मारे थे ज़रा बताना,,,
”आतंकवाद महाशक्तियों और सम्पन राष्ट्रों दुवारा अपने लक्ष्यों की पूर्ति के लिये तैयार किया गया साधन है”
पुलवामा में 44 सैनिकों की जान गयी थी, मुंबई दंगों में कितने मरे थे, गुजरात में कितने थे, भागलपुर, मुरादाबाद, मेरठ, अलीगढ, हैदराबाद,,,कोई गिनती है,,,लोगों के मरने से लोगों को फायदा भी होता है,,,बाबरी मस्जिद मामले में चली गोली से कार सेवकों की मौत, गोधरा ट्रैन जलाने से कारसेवकों की मौत’,,की फसल कितनी अच्छी पैदा हुई थी, कई मुख्यमंत्री बने, कोई प्रधानमंत्री,,,,अगर क़ाबलियत के आधार पर इनको कहीं नियुक्ति मिली होती तो 12 पास को ‘चौकीदार’ चपरासी बने होते,,,राजनीती में बड़े खेल होते हैं और अब तो भारत में नेता कम अभिनेता/जोकर/मसखरे ज़यादा होने लगे हैं, इनको कोई शर्म नहीं है , गलियां मिलें या किसी की बदुआ कोई परवाह नहीं है,,,ये आज के शैतान, फिरौन टाइप लोग हैं,,,44 क्या और हज़ार दो हज़ार मर जाएँ इनको कोई दिक्कत नहीं, यहाँ की जनता भी बस ‘अल्लाह फ़ज़ली’ है, सड़े से सड़े नेता को अपना आदर्श, अपना भगवान् मान लेती है, बलात्कारी/वैभवचारी/अत्यचारी/ केसा भी हो बस ‘जुमले’ बोलता हो वो नेता बन जाता है, जबकि अगर ऐसे नेता किसी यूरोपी देश में हो जाएँ तो वहां की जनता इनका काम तमाम कर देगी और भूल से भी अरब के देश में हों तो फिर ‘चौराहे’ पर लटका मिलेगा,,,
आज एक ही राज्य में कई दौर तक चुनाव चलते हैं। अब चुनाव लोकतंत्र का खेल नहीं, सत्ताधारी दल की तिकड़मों का जोड़ बन गया है। यह आम चुनाव नहीं है, इसका नतीजा अहम होने जा रहा है। हर चुनाव में कोई जीतता है और कोई हारता है। लेकिन कभी-कभी ऐसे भी चुनाव आते हैं जिसमें दल नहीं, देश हारता या जीतता है। 2019 का चुनाव ऐसा ही चुनाव है।
गुजरात की बागडोर जब इनके हाथों में थी, तब सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर इन्होंने एक-एक कर उन सारे अपराधियों को बचाया था जो लूट-मार से लेकर हत्या, बलात्कार, आतंकवाद तक के मामलों के अपराधी थे। बात इस हद तक गई कि आखिरकार सर्वोच्च न्यायालय को कहना पड़ा कि इनके कारण यह संभव ही नहीं रहा है कि गुजरात में किसी अपराध की निष्पक्ष जांच हो सके, इसलिए यहां के मामलों की सुनवाई गुजरात से बाहर हो। आजादी के 70 सालों में गुजरात के अलावा दूसरा कोई राज्य नहीं है कि जिसके माथे पर ऐसा कलंक लगा हो।
जब बॉक्सर मुहम्मद अली से एक बार पूंछा कि तुमको इस्लाम क्यों पसंद आया, तो और बातों के आलावा उन्होंने एक बड़ी अहम् बात बताई, कि मुझे टार्ज़न की फिल्म बहुत पसंद थीं, उनके कॉमिक पढ़ता था, फिल्में देखता था,,,मुझे बड़ी हैरत होती कि अफ्रीका के जंगलों में एक अकेला ‘टार्ज़न’ गोरा होता बाकि शेर, भालू, चीता, भेड़, बकरी,,,,सब ‘काले’ होते थे,,,ये रंग भेद के कारण था, जब मैंने इस्लाम को पढ़ा और जाना तो देखा कि इस मज़हब में रंग रूप, अमीर ग़रीब, शाह फ़कीर, हाकिम ग़ुलाम के बीच के भेदभाव को ख़त्म कर दिया है, यहाँ सब बराबर हैं, कोई नफरत किसी से इसलिए नहीं करता है कि मै गोरा हूँ और तुम काले हो……….
न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में हमलावार का हीरो ओसामा, बग़दादी, सद्दाम, ग़द्दाफ़ी, इमरान ख़ान, अर्द्गान, परवेज़ मशर्रफ़ नहीं हैं वह अमेरिका का राष्ट्रपति ‘डोनाल्ड ट्रम्प’ है,,,,ये एक ख़तरनाक ‘पल’ है,,,दुनियां यहाँ से बड़े हमलों के लिए खुद को तैयार रखे, हमलवार ने 74 पेज का अपना एजेंडा लिखा है,,,जिसमे ख़ास बात ये है कि दुनियां में सिर्फ ‘सफ़ेद/गोर’ लोगों को हुकूमत करने का हक़ है,,,यही बात ट्रम्प कहता है और ऐसा ही संघ की सोच है,,,,अफ्रीका में बाढ़ से जब लोगों की मौत हुई थी तब ‘ट्रम्प’ का कहना था,,’ये लोग आलसी होते हैं, मर गए तो क्या हुआ,,,,’,,,ट्रम्प अपने विचारों को लेकर अपने देश में भी लोगों के निशाने पर रहते हैं,,,
ऐसा समय आने वाला है जब कहीं से भी हमले/हत्याओं की खबरें जल्द जल्द सुनने को मिला करेंगी, आज के समय में हर आदमी के पास ऐसे कितने ही साधन उपलब्ध हैं जिन से एक साथ कई लोगों की जान ली जा सकती है, घरों में गैस सिलेंडर से लेकर बाइक, कार, पेचकस,,,आदि,,ये हालात अचानक नहीं बने हैं, यह बहुत पुरानी सोच का नतीजा है,,,,,

हज़रत याकूब की औलाद में हज़रत युसूफ थे, साथ ही उनके 11 भाई और थे, इन भाइयों में से एक का नाम यहूदा था, यहूदा के कहने पर ही हज़रत युसूफ को एक कुएं में फेंक दिया था,,,यहूदा हज़रत युसूफ के सौतेले भाई थे,,आगे चल कर इनकी ही कौम ‘यहूदी’ कहलायी,,,यहूदा की पैरोकार कौम जब बुराइयों में बढ़ गयी तो हज़रत मूसा को इनके बीच भेजा गया ताकि ये गुमराह लोग नसीहत पाकर सही राह पर आ जाएं,,,,हज़रत मूसा और हज़रत हारुन ने इस कौम के पास अल्लाह का पैग़ाम और निशानियां पेश की तो कुछ लोग अल्लाह की निशानियों को देख कर ईमान ले आये और कुछ शक में पड़े रहे, कुछ साफ़ इन्कारी हो गए,,,अल्लाह के रसूल मूसा ने अपना काम इंजाम दिया, जिन्होंने माना वह इस्लाम के रास्ते पर चले,,,गुमराह लोगों ने मूसा को झूठा कहा और हिदायत से दूर रहे और बुराइयों में आगे बढ़ते गए,,,
एक वाकिया है,,,यहूदियों के 12 कबीलों को देश निकाला दिया गया था, इनको ’12 lost tribels of yahudi’ कहा जाता है, देश निकाला मिलने के बाद ये बारह कबीले अलग अलग जगहों पर जा कर बसे, ये अरब, इराक, ईरान, अफ़ग़ानिस्तान पहुंचे,,,इनकी सही जानकारी वैसे नहीं मिलती है, मगर अरब, इराक, ईरान, अफ़ग़ानिस्तान के बारे में ज़िक्र मिलता है,,,
जब अल्लाह ने अपने आखिरी नबी हज़रत मुहम्मद को भेजा और जब हज़रत मुहम्मद ने नबूवत का एलान किया तो जो यहूदी हज़रत मूसा से हिदायत पाए थे उन्होंने अल्लाह के रसूल को पहचान कर ईमान ले आये, और बाकी ने अल्लाह के रसूल मुहम्मद को तरह तरह से परेशान किया, तकलीफें पहुंचायीं, युद्ध किये,,,चूँकि मुहम्मद अल्लाह के रसूल हैं इसलिए वह हर तकलीफ, परेशानी सहते रहे, जंगों में इन से मुकाबला करते रहे,,,,फिर जब ‘मक्का” को जीता गया तो ये यहूदी व् बाकी और लोग जिन्होंने ने अल्लाह के रसूल के साथ अत्याचार किये थे, ये उम्मीद किये थे कि आज इनमे से कोई नहीं बचेगा, सब को क़तल कर दिया जायेगा,,,मगर अल्लाह के रसूल ने किसी से कोई बदला नहीं लिया, किसी को क़तल नहीं किया, आप ने उन सब को आम माफ़ी दे दी,,,और एलान हुआ कि हर कोई अपने मज़हबी तरीकों से जीने के लिए आज़ाद है, किसी भी ग़ैर मज़हब के इबादतखाने को नुक्सान नहीं पहुँचाया जाये, किसी भी ग़ैर मुस्लिम पर कोई ज़ुल्म न किया जाये, जो गैर मुस्लिम हैं जैसे इबादत करते हैं करते रहे,,,,
रसूल अल्लाह के हयात रहते और आप के पर्दा कर लेने के बाद भी यहूदी अपने षड़यंत्र करने, चालें चलने और फूट डालने वाले कामों से बाज़ नहीं आये,,,
जो बारह कबीले यहूदियों के फ़िलस्तीन/कनान की ज़मीन से निकाले गए थे, वह सब गोर/सफ़ेद रंग के थे, ये सफ़ेद रंग लोग यहूदी ‘आर्यन’ हैं,,,आर्यन नस्ल के लोग खुद को इस धरती का असली मालिक समझते हैं, उनका मानना है कि ‘आर्यन’ नस्ल ही केवल हुकूमत कर सकती है और यह उनका अधिकार है,,,,
भारत में 90 फीसद लोग विदेशी नस्ल के हैं, बाहरी हैं, अफ्रीका, सेंट्रल एशिया, यूरोप, चीन, अफ़ग़ानिस्तान आदि से हैं,,,द्रविड़ को पहले मूल भारतीय समझा जाता था मगर बाद में पता चला कि द्रविड़ अफ़ग़ानिस्तान के मूल से हैं,,,भारत के मूल निवासी, कोल/भील/माछेल/आदिवासी/वनवासी/दलितों की कुछ जातियां हैं,,,
हिंदी भाषी भारत में जितने भी ‘भगवान्’ हैं वह ‘राजपूत’ हैं जबकि उत्तर भारत व् दक्षिण भारत के ‘भगवान्’ ब्राह्मण हैं,,,हिंदी भाषी भारत के भगवान् राजपूत क्यों हैं, यह भी समझ लें,,,,राजिस्थान/राजपुताना, गुजरात/कच्छ, मध्य भारत (उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश) में बड़ी संख्या राजपूतों की है, राजपूत लोग सत्ता, हुकूमत करते थे, ज़मीदार, जागीरदार, राजा, महाराजा सिर्फ राजपूत थे,,,अब पंडित जी अगर खुद को मतलब कि किसी ब्रह्माण्ड को इस इलाके में भगवान् बना कर पेश करते तो, ठाकुर साहब का ‘लट्ठ’ जो था,,,राजा राजपूत और उसका भगवान् कोई और बड़ी मार पड़ती,,,,यहाँ होश्यारी से पंडित जी ने ‘राजपूत’ भगवान् बनाये और खुद उनके जिजमान बने, इस मसौदे पर कुंवर साहब को कोई एतराज़ नहीं था,,,इसका फायदा पंडित जी को यूँ मिला,,,जिस किसी से पंडित जी को दान दक्षिणा नहीं मिलती थी, वो ठाकुर साहब को ‘इधर उधर’ की लपेट कर बताते कि उसने ‘हुकुम’ आप के सम्बन्ध में अपमान करने वाली बात कहीं है,,,फिर क्या था,,,ठाकुर साहब के लठैत जाते और उसका,,,,भगवान् और जिजमान दोनों खुश,,,,

यहूदियों के कबीले जो देश निकाला पाए थे में से हैं ‘ब्राह्मण’ और उन्हीं में से हैं अरब घरानों के कई सुलतान, प्रिंस, किंग,,,,अफग़ानिस्तान में बीते पांच सालों में 300 यहूदी इबादतगाहों को दुरुस्त किया गया है,,,क्यों?वहां तो यहूद बहुत कम हैं, ईरान के अंदर हज़ारों यहूदी इबादतखानों को फिर से रंग रोगन कर के सजाया गया है,,,क्यों? ईरान में यहूदियों को संसद में प्रतनधित्व मिला हुआ है, वहां संसदीय समितियों में यहूदियों को जगह मिली है, कम ही लोग जानते होंगे कि सद्दाम हुसैन के समय में इराक के प्रधानमंत्री रहे ‘तारिक अज़ीज़’ यहूदी थे,,,,
‘आर्य’ लहू अपनी पवित्रता को प्राथमिकता देता है, यह लोग दुनियां के अन्य लोगों को जानवरो के समान समझते हैं,,,,हिटलर, ट्रम्प, ब्रेंटन टेरेंट, संघ के मुखिया,,,जिस कार्यक्रम को चला रहे हैं उसमे ऐसी घटनों के होने पर कोई अचम्भा नहीं होना चाहिए,,,मानसिक रोगी बनाने वाले विचार जब समाज में ‘पनपने’ लगते हैं और उन्हें अपने आदर्श ‘नरहनहार’ करने वाले लोगों के रूप में मिल जाते हैं तो,,,,हमला/हत्या कोई बड़ी बात नहीं है,,,
ब्रेंटन टेरेंट ने संघ के लिए मार्ग आसान कर दिया है, अब तक जो उत्पात मचाते थे, लोगों को इकट्ठा हो कर मारते थे आगे से वह ‘पाइलट प्रोजेक्ट’ से सीख लेकर बड़ी तबाही मचाया करेंगे,,,खून और फ़ितरत,,,में कुछ चीज़ें समा जाती हैं,,,,,चुन चुन कर बदला लेना/हत्याएं करना, करवाना जिनकी फितरत में शामिल है, ब्रेंटन टेरेंट उनके लिए आदर्श होना चाहिए,,,,पुलवामा की पड़ताल जारी है,,,,,

…… ””””मैं,,,, तुम्हें खो देना है इक रोज़…….. ,,,,,,,जो आप स्वतंत्र महसूस करते हैं वास्तव में आपको महसूस होता है.. आत्माओं की भाषा गलती नहीं करती……,,”’तुम्हारा, मेरा जीना,,,,मरना एक साथ,,,,जिंदिगी,,,,दरिया के दो किनारे,,,,चलते हैं,,,हमेशा दूर दूर,,,रहते हैं साथ साथ,,,,मेरा सब कुछ तुझ से है,,,,तेरा मेरा, मेरा तेरा, एक सफ़र है,,,,दरिया, साहिल तोड़ के,,,,जब बहती है,,,,तब उफ़नती लहरों में, मै और तू,,,,दोनों खो जाते हैं,,,,बह जाते हैं,,,,,मिल जाते हैं,,,,,यूँ दरिया,,,,सागर बन जाते हैं,,,,मिट जाते हैं हम तुम उस दिन,,,,,सागर सागर रह जाते हैं,,,,
वो पल….पानी के बुलबुले….बुलबुलों में भरा….अहसास….उन बुलबुलो को पकङते, फोङते, लङते, झगङते….जिंदगी…..,,,,सपने मे घुलते…….रंग बिंरगे उन बुलबलो की मस्ती…..अब खो रही है…..जिंदगी…..बुलबलो सी….कि कहीं कोई भूल तो नहीं…..

– परवेज़ ख़ान

DEMO PICS 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *