दुनिया

FATF में तुर्की ने पाकिस्तान को अपना भाई बताते हुए कहा, ‘अपने इस्लामी भाई देश पाकिस्तान को कभी ब्लैक लिस्ट नहीं होने देंगे’

 

FATF फाइनेंसियल एक्शन टास्क फाॅर्स का इजलास तीन दिन चला जिसमे पाकिस्तान को लेकर चर्चा हुई, पाकिस्तान 2008 से इस कमेटी की निगरानी में है जो आतंकवादी फंडिंग और अन्य अवैध लेन दैन की जांच करती है,

1989 में FATF वजूद में आया था, इसके 37 सदस्य देश हैं जिसमे भारत समेत चीन, रूस, अमेरिका, फ्रांस समेत अन्य बड़े देश शामिल हैं, पाकिस्तान के बारे में आतंकवादी गतविधियां चलाने और आतंकवादियों को पनाह देने की शिकायतों के बाद इस संस्था की निगरानी में है

पाकिस्तान के ऊपर ब्लैक लिस्ट होने का ख़तरा मंडरा रहा था जोकि फ़िलहाल कुछ महिनों के लिए टल गया है, अभी पाकिस्तान ग्रे लिस्ट में ही रहेगा, और उसे कई टास्क हैं जिन्हें पूरा करने को कहा गया है, अगर चार माह में पाकिस्तान इन टास्क को पूरा कर लेता है और FATF कमेटी मुत्मईन हो जाती है तो पाकिस्तान ग्रे लिस्ट से वाइट लिस्ट में आ जायेगा, जिसका उसे बहुत फायदा होगा

FATF में पाकिस्तान के खिलाफ कार्यवाही के समय जो 27 टास्क पाकिस्तान को दिए गए थे की समीक्षा की गयी जिसमे पाया गया कि पाकिस्तान ने संजीदगी के साथ काम किया है और 27 में से 20 टास्क हासिल भी किये हैं इसको लेकर FATF के सचिव ने इत्मीनान ज़ाहिर किया और पाकिस्तान की तारीफ भी की

पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट होने से बचाने में तुर्की ने बहुत बड़ा क़िरदार अदा किया, तुर्की ने FATF की मीटिंग में पाकिस्तान का पूरा मुकद्म्मा लड़ा, तुर्की ने कहाकि पाकिस्तान एक ज़िम्मेदार देश है, वहां की हुकूमत और अवाम हर तरह की दहशतगर्दी के खिलाफ है, तुर्की ने कहाकि पाकिस्तान ने आतंकवाद से लम्बी जंग लड़ी है और उसने बड़ी क़ुर्बानियां दी हैं, पाकिस्तान ने आतंकवाद से जंग में 70 हज़ार शहादतें दी हैं

तुर्की ने पाकिस्तान को अपना भाई बताते हुए कहा कि वो अपने इस्लामी भाई देश पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट नहीं होने देगा, बता दें कि पाकिस्तान को तुर्की के आलावा चीन, मलेशिया, ईरान, किर्गिज़स्तान का भी सपोर्ट रहा जबकि अरब देशों की तरफ से यहाँ पाकिस्तान को मदद नहीं मिली

FATF has two lists:
Grey List: Countries that are considered safe haven for supporting terror funding and money laundering are put in the FATF grey list. This inclusion serves as a warning to the country that it may enter the blacklist.

Black List: Countries known as Non-Cooperative Countries or Territories (NCCTs) are put in the blacklist. These countries support terror funding and money laundering activities. The FATF revises the blacklist regularly, adding or deleting entries.

– It is a regional body comprising nine countries: India, Russia, China, Kazakhstan, Kyrgyzstan, Tajikistan, Turkmenistan, Uzbekistan and Belarus.

Financial Action Task Force

– The Financial Action Task Force (FATF) is an inter-governmental body established in 1989 during the G7 Summit in Paris.

– The objectives of the FATF are to set standards and promote effective implementation of legal, regulatory and operational measures for combating money laundering, terrorist financing and other related threats to the integrity of the international financial system.

– Its Secretariat is located at the Organisation for Economic Cooperation and Development (OECD) headquarters in Paris.
Member Countries: it consists of thirty-seven member jurisdictions.

– India is one of the members.

– The FATF Plenary is the decision making body of the FATF. It meets three times per year.

Status of Pakistan:
Pakistan, which continues to remain on the “grey list” of FATF, had earlier been given the deadline till the June 2020 to ensure compliance with the 27-point action plan against terror funding networks and money laundering syndicates, or face “black listing”.


What is FATF?

– The Financial Action Task Force (FATF) is headquartered in Paris.
– It was set up in 1989 by the G7 countries.
– Objective – FATF acts as an international watchdog on issues of money laundering and financing of terrorism.
– It is empowered to curtail financing of UN-designated terrorist groups.
– It is to limit the concerned countries from sourcing financial flows internationally and thereby constraining them economically.
– Members – FATF has 39 members, which comprise 37 member jurisdictions and 2 regional organisations.
– India became a full member in 2010.

FATF Members and Observers

The 39 Members of the FATF

The FATF currently comprises 37 member jurisdictions and 2 regional organisations, representing most major financial centres in all parts of the globe.

Argentina

Australia

Austria

Belgium

Brazil

Canada

China

Denmark

European Commission

Finland

France

Germany

Greece

Gulf Co-operation Council

Hong Kong, China

Iceland

India

Ireland

Israel

Italy

Japan

Republic of Korea

Luxembourg

Malaysia

Mexico

Netherlands, Kingdom of

New Zealand

Norway

Portugal

Russian Federation

Saudi Arabia

Singapore

South Africa

Spain

Sweden

Switzerland

Turkey

United Kingdom

United States

FATF Observers
Indonesia

डील लगभग फ़ाइनल हो चुकी है जिसके मुताबिक ख़बरों में बताया जायेगा कि भारत और चीन की सेनाएं वापस पुरानी इस्थिति में जाएंगी जबकि वहां से सिर्फ़ भारत की सेना हटेंगी, चीन की नहीं, इस ख़बर को मीडिया के ज़रिये भारत की जीत की शक़ल में दिखाया जायेगा लेकिन चीनी सरकार/मीडिया इस पर कोई रिपोर्ट नहीं करेगा : सूत्र

Devika Mittal देविका मित्तल دیوِیکا مِتّل
@devikasmittal
·
Oct 24
The Indian media has become the mouthpiece of the fascist regime. It is working to demonise Muslims and target any voice of sanity. For a democratic, secular and developed India, we need to stop this. The corporates must stop funding them, #StopFundingHate #StopSeedingGenocide

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *