देश

पनामा, पैराडाइज़ पेपर मामले में आरोपी अमिताभ बच्चन की आवाज़ में सुनाई जा रही कॉलर ट्यून लोगों को पागल कर देगी, इसे तत्काल बंद किया जाये!

सच बात तो ये है कि लोगों में अभी तक भ्रम है कि कोरोना है भी या सब अफवाह ही है, वैसे इतनी बड़ी अफवाह होना मुमकिन नहीं कि पूरी दुनियां में ये फैला हुआ है, कोरोना होने की जानकारियां जब आम थीं और चीन में भयानक रूप से फैला हुआ था तब भारत के प्रधानमंत्री और अमेरिकी राष्ट्रपति इसे लेकर ज़रा भी गंभीर नहीं थे, न इनको इस महामारी से होने वाले नुक्सान का कोई आईडिया था बल्कि दोनों नेताओं के आचरण की वजह से कोरोना ने भयानक महामारी धारण किया है, मोदी और ट्रम्प कोरोना को लेकर मज़ाक़ ही बनाते रहे

मोदी और ट्रम्प में कई समानता हैं, दोनों शोमैन हैं, दोनों ज़बरदस्त किस्म के प्रचारक हैं, दोनों को बोलने की लत है, दोनों का ज्ञान आकाश/पातळ से आगे तक है, दोनों बड़े विद्वान हैं, दोनों ही अध्यात्म में पूर्ण हैं, दोनों इस धरती पर अनोखे जीवित महागुरु हैं, दोनों ने ही इतिहास में महान योगदान दिया है

भारत में कोरोना की याद आते ही आज भी लोगों के आंसू बह निकलेंगे, शरीर के ज़ख्म भी शायद अभी तक मौजूद हों, पॉंव के छाले शायद अभी न ख़तम हुए हों, लाखों लोगों के मूर्खता भरे फैसले ‘लॉक डाउन’ से मुसीबत में डाल दिया गया था, हज़ारों लोगों की जान सरकार की वजह से गयी, लोग कई कई हज़ार किलोमीटर पैदल चल कर अपने वतन पहुंचे और ‘महागुरु’ ताली, थाली बजवाने, टॉर्च, मोमबत्ती जलवाने में लोगों को उलझाए रहा, भला हो उन लोगों का जो ज़िम्मेदारी के साथ सामने आये और परेशान लोगों की मदद के लिए रात दिन लगे रहे, इस सरकार के भरोसे रहे होते तो न जाने कितने लोग भूख प्यास से मर गए होते

मज़ाक़ बना कर रख दिया था सरकार ने कोरोना को, और ये मज़ाक़ अभी तक हो रहा है, जब से कोरोना फैला है मोबाइल फोन पर मुस्तकिल कोरोना को लेकर अज्ञानियों/जाहिलों का ज्ञान पेला जा रहा है, जिस बीमारी का सालभर पहले तक किसी ने नाम तक नहीं सुना था आज जिसे देखो उसका विशेषज्ञ बना हुआ है, सिकंदर पटना आया था, कबीर दास, हज़रत गुरु नानक और गोरखनाथ महाराज एक साथ बैठ कर आपस में देश के सम्बन्ध में चर्चा करते थे, ऐसे महाज्ञानी लोग देश चला रहे हैं

इन दिनों अभिनेता अमिताभ बच्चन की आवाज़ में मोबाइल पर कॉलर ट्यून बजती है, जितनी बार भी फ़ोन से कॉल करें वो हर बार बजेगी, अब इन अक़ल से पैदल, अंधों से कोई पहुंचे कि ये ‘सन्देश’ बिलवाह क्यों सुनवाया जा रहा है, क्या इस को सुनवाने के बारे में किसी विशेषगय से कोई सलाह ली गयी है, क्या किसी मेडिकल बोर्ड ने ऐसा करने के लिए कहा है, क्या किसी साइकलोजिस्ट ने ऐसा करने के लिए बोला है,

कोई भी धुन मुस्तकिल सुंनते रहने से वो भी कई महीनों तक लोग मानसिक रोगी हो सकते हैं, उनके अंदर चिड़चिड़ापन पैदा हो सकता है, वो डिप्रेशन का शिकार हो सकते हैं, अमिताभ बच्चन हैं कौन कोई डॉक्टर हैं, या वैज्ञानिक हैं, या प्रोफेसर हैं, वो मात्र एक कलाकार हैं, उनका नाम घोटालों में शामिल है, पनामा, पैराडाइज़ पेपर मामले में वो आरोपी हैं, उनको और उनके परिवार के कई सदस्यों को खुद कोरोना हो गया था, ये इतने बड़े ही जानकार थे तो खुद का, खुद के परिवार का बचाव क्यों नहीं कर पाए थे

अमिताभ की आवाज़ में सुनाई जा रही कॉलर ट्यून लोगों को पागल कर देगी, इसे तत्काल बंद किया जाये!

 

parvez khan

national genral secratery

bharat prabhat party

 

Amitabh Bachchan cured of COVID-19, discharged from hospital
PTI AUGUST 02, 2020

Mumbai: Amitabh Bachchan on Sunday said that he has tested negative for COVID-19 and will now be quarantine himself at home. The 77-year-old actor, who was admitted to Nanavati hospital along along with son Abhishek after testing positive for COVID-19 on July 11, expressed his gratitude to well-wishers for their continued support and prayers….

Amitabh Bachchan
@SrBachchan
T 3613 – I have tested CoVid- have been discharged. I am back home in solitary quarantine.
Grace of the Almighty, blessings of Ma Babuji, prayers & duas of near & dear & friends fans EF .. and the excellent care and nursing at Nanavati made it possible for me to see this day

Abhishek Bachchan
@juniorbachchan
I, Unfortunately due to some comorbidities remain Covid-19 positive and remain in hospital. Again, thank you all for your continued wishes and prayers for my family. Very humbled and indebted. 🙏🏽
I’ll beat this and come back healthier! Promise.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *