दुनिया

बड़ी ख़बर : सऊदी नरेश ने तुर्क राष्ट्रपति को किया फ़ोन, कहा वार्ता के चैनलों का खुला रहना ज़रूरी : रिपोर्ट

सऊदी अरब की सरकारी समाचार एजेंसी ने रिपोर्ट दी कि देश के नरेश सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ ने तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब अर्दोग़ान को फ़ोन किया और जी-20 के शनिवार और रविवार को होने वाले शिखर सम्मेलन को सफल बनाने के लिए आपसी प्रयासों में समन्वय पैदा करने के उपायों पर विचार किया।

जी-20 का शिखर सम्मेलन वर्चुअल रूप से 21 और 22 नवम्बर को सऊदी अरब की मेज़बानी में हो रहा है।

समाचार एजेंसी ने कहा है कि सऊदी किंग और तुर्क राष्ट्रपति इस बात पर सहमत हुए हैं कि दोनों देशों की आपसी समस्याओं के समाधान के लिए वार्ता के चैनल खुले रखे जाएंगे।

सऊदी अरब ने इस शिखर सम्मेलन से बड़ी उम्मीदें लगा रखी थीं मगर मानवाधिकार के मुद्दे, यमन युद्ध, पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या जैसे विषयों के चलते सऊदी अरब की किरकिरी हो रही है।

टीकाकार मानते हैं कि सऊदी नरेश तुर्क राष्ट्रपति को मनाने की कोशिश कर रहे हैं कि वह शिखर सम्मेलन के बीच जमाल ख़ाशुक़जी का मुद्दा न उठाएं बल्कि इसे अलग से द्विपक्षीय वार्ताओं के माध्यम से हल करें।

वरिष्ठ पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की तुर्की के इस्तांबूल शहर में सऊदी काउंसलेट के भीतर बड़ी निर्ममता से हत्या कर दी गई थी। इस मुद्दे को सऊदी सरकार दबाने की कोशिश कर रही थी लेकिन तुर्की के प्रयासों से यह मुद्दा कई महीनों तक सुर्खियों में छाया रहा और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं में भी सऊदी सरकार की बड़ी बदनामी हुई। इस मुद्दे के चलते अमरीका के ट्रम्प प्रशासन और अमरीकी इंटेलीजेन्स एजेंसियों के बीच भी तनाव पैदा हो गया था।

सऊदी सरकार को चिंता है कि अगर तुर्की ने जी-20 के शिखर सम्मेलन में फिर जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या का मुद्दा उठा दिया तो माहौल और भी ख़राब हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *