देश

भारत प्रभात पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष अर्ना सिंह ने कहा, ‘किसानों का दमन हो रहा है, यह लोकतंत्र की मौत है, किसानों को हमारा पूरा सहयोग है’

केंद्र की मोदी सरकार के कृषि संशोधन कानून का विरोध करते हुए किसानों ने बड़ा गंभीर कदम उठाया है, पंजाब से दिल्ली तक हजारों किसानों ने शांति पूर्वक तरीके से अपना सफर तै किया, जिन्हें रोकने के लिए हरियाणा का बॉर्डर सील कर दिया गया, किसानों पर सर्दी के मौसम में पानी की बौछार की गयी, उन पर लाठी चार्ज किया गया

किसानों के साथ हरियाण सरकार की तरफ से जो पुलिस के ज़रिये कार्यवाही की गयी उस पर भारत प्रभात पार्टी की राष्ट्रिय अध्यक्ष अर्चना सिंह ने कहा कि किसान देश की रीढ़ है, ये पूरे देश पेट भरते हैं, दिन रात खून पसीना बहा कर देश की जनता को पालते हैं, किसानों के परिवार के बच्चे देश की सीमाओं पर खड़े रहते हैं, उनकी वजह से सारा देश अमन और शांति से सोता है, किसानों के साथ केंद्र की मोदी सरकार और बीजेपी साशित राज्यों की सरकारों का दुश्मनों जैसा बर्ताव किसी भी तरह से उचित नहीं है, इसकी हर स्तर पर निंदा होनी चाहिए, किसानों को उनका हक़ मिलना चाहिए, केंद्र की सरकार तानाशाही कर रही है, ये सरकार जनता के हितों को दबा रही है, जनता पर अत्याचार कर रही है,

भारत प्रभात पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष अर्चना सिंह ने कहाकि भारत प्रभात पार्टी किसनों के साथ खड़ी है, किसानों पर जारी सरकारी अत्याचार को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा, अगर मोदी सरकार ने काले कानूनों को वापस नहीं लिया तो देश की सड़कों पर तम्बो गाढ़ कर अनिश्चित कालीन अनशन किया जायेगा, सरकार को मनमानी नहीं करने दी जाएगी

प्रदर्शन से जुड़े अपडेट

हरियाणा से दिल्ली जा रहे भारतीय किसान यूनियन के किसान अब पानीपत पहुंच गए हैं, खबरों की मानें तो आज की रात किसान पानीपत में ही रुकेंगे और कल फिर किसान दिल्ली का रुख अख्तियार करेंगे.

– कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने किसान आंदोलन को लेकर एक ट्वीट किया. अपने ट्वीट में सुरजेवाला ने लिखा हरियाणा और केंद्र की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि लाख कोशिशों के बाद भी आप किसानों का रास्ता नहीं रोक पाओगे.

शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने किसानों का ‘दिल्ली चलो’ मार्च विफल करने का प्रयास करने के लिए बृहस्पतिवार को हरियाणा सरकार की आलोचना की और प्रयास को ‘‘पंजाब का 26…11’’ करार दिया. बठिंडा की सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी हरियाणा में किसानों को प्रवेश करने से रोकने के लिए हरियाणा सरकार की निंदा की और कहा कि यह ‘‘लोकतंत्र की हत्या’’ है. बादल ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘आज पंजाब का 26…11 है. हम लोकतांत्रिक प्रदर्शन के अधिकार की समाप्ति देख रहे हैं. अकाली दल हरियाणा सरकार और केंद्र की निंदा करता है जिसने किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को दबाया.’’

ANI
@ANI
Haryana: Farmers heading towards Delhi as part of ‘Delhi Chalo’ protest march, halt at Panipat toll plaza.

A protestor says, “Are we terrorists that we are not being allowed to enter the national capital. It is the death of democracy.”

7:48 PM IST | 26 NOV 2020
दाता सिंह वाला बॉर्डर पर दिल्ली कूच के लिए डेरा डाले बैठे किसानों ने धावा बोल दिया और वे जिला प्रशासन द्वारा खड़े किए गए अवरोधकों को पैदल पार कर गए. इस दौरान पुलिस ने पानी की बौछारों का का प्रयोग किया तो आंदोलनकारी किसानों ने पथराव शुरू कर दिया. हालात बिगड़ते देख पुलिस बल पीछे हट गया. इस दौरान आंदोलनकारियों ने सरकारी गाडिय़ों में तोडफ़ोड़ भी की. किसानों के दिल्ली कूच आह्वान के चलते जिला प्रशासन ने पंजाब को जोडऩे वाले दाता सिंह वाला बॉर्डर को सील कर दिया गया था. दोपहर के समय किसानों ने बॉर्डर पर धावा बोल दिया और पैदल डंडे व लाठियां लेकर हरियाणा में घुस गए. अधिकारियों ने बताया कि किसानों को आगे बढ़ने से रोकने के लिए पानी की बौछारों का इस्तेमाल किया गया तो आंदोलनकारी किसानों ने पथराव शुरू कर दिया. वहां खड़ी अधिकारियों की गाड़ियों और अन्य वाहनों के शीशे तोडऩे शुरू कर दिए. इससे पूर्व हालात बेकाबू होते पुलिस बॉर्डर से कुछ पीछे हट गई. जिला प्रशासन द्वारा त्रिस्तरीय अवरोधकों के ऊपर डाले गए मिट्टी के ढेर की वजह से किसानों के ट्रैक्टर बॉर्डर को पार नहीं कर पाए. अवरोधकों को हटाने के लिए किसान जेसीबी व अन्य साधनों का जुगाड़ करने में लगे रहे . गौरतलब है कि पंजाब सीमा पर दाता सिंह वाला सीमा पर करीब 15 हजार किसान डटे हुए हैं. यहां किसानों को रोकने के लिए भारी पुलिस बल तैनात है.

7:33 PM IST | 26 NOV 2020
दिल्ली जा रहे किसानों को हरियाणा में भाजपा के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार द्वारा रोके जाने पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा बृहस्पतिवार को निशाना साधे जाने के कुछ समय बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कड़े शब्दों में उनसे कहा कि “निर्दोष किसानों को भड़काना” बंद करें. खट्टर ने सिंह से कहा कि वह किसानों को गुमराह करने से बचें. उन्होंने याद दिलाया कि वह पहले ही संकल्प व्यक्त कर चुके हैं कि अगर न्यूनतम समर्थन मूल्य को कभी भी खत्म किया गया तो वह राजनीति छोड़ देंगे.

6:50 PM IST | 26 NOV 2020
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि हरियाणा सरकार किसानों को ‘उकसा’ रही है और उन्हें दिल्ली न जाने देकर उनके अधिकारों का हनन कर रही है.

ANI
@ANI
Stopping farmers is going against the Constitutional spirit and freedom of speech of this country. I think the Haryana government should have allowed them to go and Delhi govt should give them space to go and sit down to present their point: Punjab CM

ANI
@ANI
The farmers here are agitating against the bills that they (Centre) have brought. You can’t stop a person going to your capital city where Parliament is and expressing their views. Why are you stopping them?: Punjab CM Captain Amarinder Singh

ANI
@ANI
The farmers here are agitating against the bills that they (Centre) have brought. You can’t stop a person going to your capital city where Parliament is and expressing their views. Why are you stopping them?: Punjab CM Captain Amarinder Singh.

ANI
@ANI
“Today is Punjab’s 26/11. We are witnessing end of right to democratic protest. Akali Dal condemns Haryana govt & Centre for choosing to repress peaceful farmer movement. Battle for Punjab farmers’ rights can’t be throttled by using water cannons against them,” tweets SAD Chief.

4:40 PM IST | 26 NOV 2020
SAD प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा, “सबसे ज़्यादा दोगला रोल कैप्टन का रहा है. कैप्टन को वहां जाकर आंदोलन करने की ज़रुरत है लेकिन वो चुप होकर बैठा है और किसानों को सड़कों पर लगा दिया है पानी की बौछारों का सामना करने के लिए. उन्हें PM और कृषि मंत्री के साथ मिलकर प्रेशर बनाना चाहिए.

4:38 PM IST | 26 NOV 2020
SAD नेता सुखबीर सिंह बादल ने कहा, “किसानों को हमारा पूरा सहयोग है. उनके मन में एक बात है जिसके चलते वो पॉलिटिकल झंडे के नीचे कैंपेन शुरू नहीं करना चाहते. इस वक्त सभी पार्टियों के किसान इकट्ठा हैं. हमारी पार्टी को जैसा आदेश दिया जाएगा हम उसका पालन करेंगे.

12:47 PM IST | 26 NOV 2020
दिल्ली पुलिस ने बॉर्डर पर 6 कंपनी फ़ोर्स को तैनात किया है. जिनमें लगभग 300 पुलिस कर्मी शामिल हैं. इतना ही नहीं इन पुलिसकर्मियों में सीआईएसएफ के जवान भी शामिल हैं. पूरा इलाका छावनी में तब्दील कर दिया गया है. इतना ही नहीं पुलिस ने एहतियातन आसपास के गांव के जरिये दिल्ली में दाखिल होने वाली सड़को पर भी फ़ोर्स लगाई है.

12:21 PM IST | 26 NOV 2020
हरियाणा के अधिकारियों ने प्रदर्शन को रोकने के लिए कई इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 भी लगा दी है. इस बीच, सर्दी और बारिश के मौसम में हजारों किसानों ने अस्थायी तंबूओं और ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में रात गुजारी. किसान संगठनों ने कहा है कि उन्हें राष्ट्रीय राजधानी जाते हुए, उन्हें जहां कहीं भी रोका गया, वे वहीं धरने पर बैठ जाएंगे. हरियाणा में विपक्षी दल कांग्रेस ने भी भाजपा नीत सरकार पर किसानों की आवाज दबाने की कोशिश करने का आरोप लगाया है.

12:20 PM IST | 26 NOV 2020
बता दें कि प्रदर्शन के लिए तैयार किसानों के ट्रैक्टर पर राशन, पानी सहित सभी इंतजाम दिख रहे हैं. अपनी अपनी ट्रैक्टर-ट्रॉलियों पर हरियाणा की सीमाओं के पास एकत्रित होना शुरू हो गए हैं. इस बीच, अंबाला और कुरुक्षेत्र जिलों में प्रदर्शन कर रहे किसानों के एक समूह को तितर-बितर करने और उन्हें दिल्ली जाने से रोकने के लिए उन पर पानी की बौछार की गई.

12:13 PM IST | 26 NOV 2020
हरियाणा ने पंजाब से लगी अपनी सभी सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया है. पंजाब के किसानों को केन्द्र के कृषि संबंधी कानूनों के खिलाफ प्रस्तावित ‘दिल्ली चलो’ मार्च के लिए हरियाणा से लगी सीमाओं के पास इकट्ठा होता देख यह कदम उठाया गया. अधिकारियों ने बताया कि पंजाब से लगी सीमाओं पर बड़ी संख्या में हरियाणा पुलिस की तैनाती की गई है. उन्होंने बताया कि दिल्ली से लगी सीमाओं पर भी हरियाणा पुलिस को पर्याप्त संख्या में तैनात किया गया है.

10:55 AM IST | 26 NOV 2020
पटियाला और अंबाला सीमा पर किसानों का प्रदर्शन गंभीर रूप से उग्र हो गया है और उन्होनें रास्ता रोकने के लिए लगाई गईं, बैरिकेडिंग को उखाड़ दिया. इसके बाद पुलिस ने चेतावनी के साथ किसानों पर टीयर गैस का इस्तेमाल कर दिया.

9:54 AM IST | 26 NOV 2020
जहां एक तरफ पंजाब-हरियाणा से किसान कृषि कानून के विरोध में दिल्ली की तरफ कूच करने की तैयारी में हैं वहीं कोलकाता के जाधवपुर में लेफ्ट का प्रदर्शन चल रहा है. श्रम कानूनों के विरोध में लेफ्ट और कुछ अन्य दल बंद के दौरान जाधवपुर में ट्रेन रोक रहे हैं.

9:15 AM IST | 26 NOV 2020
दिल्ली पुलिस के मुताबिक किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए उन्होंने पूरी तैयारी कर ली है. नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट के लिए 12 कंपनी फ़ोर्स बाहर से बुलाई गई है जिनमें सीआरपीएफ और आरएएफ के जवान हैं. करीब 1200 दिल्ली पुलिसकर्मी भी नई दिल्ली डिस्ंस्ट्रिक्ट मे तैनात किये गए हैं जिनमें दूसरी डिस्ट्रिक्ट के पुलिसकर्मी भी हैं .कुल मिलाकर नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट और आसपास करीब 2500 पुलिसकर्मि तैनात हैं जिनमे पैरमिलिट्री फ़ोर्स भी शामिल है. इतना ही नही सभी बॉर्डर को भी सील किया गया है. प्रोपर चेकिंग के बाद ही गाड़ियों को दिल्ली में अंदर आने दिया जा रहा है.

8:32 AM IST | 26 NOV 2020
पुलिस ने पंजाब-हरियाणा के किसानों से दिल्ली न आने के लिए कहा है. दिल्ली पुलिस के 1200 जवान तैनात किए गए हैं और कृषि संधोधन कानून का विरोध कर रहे किसानों को शांतिपूर्ण तरीके से रोकने के लिए व्यवस्था की गई है.

8:08 AM IST | 26 NOV 2020
किसानों के 26 नवंबर के दिल्ली घेराव को देखते हुए जींद पुलिस ने पंजाब हरियाणा बॉर्डर को दाता सिंह वाला बार्डर पर सील कर दिया है. बेरीकेटिंग करके बार्डर को पूरी तरह से सील कर दिया है. और ले में लगाई धारा 144 लगा दी है. इसके अलावा दर्जनों स्थानों के नाके बंद कर दिए हैं. हालंकि किसानों का कहना है कि जहा सरकार ज्यादती करेगी वहीं धरना देकर बैठ जाएंगे. काले कानूनों के खिलाफ चाहे कुछ करना पड़े किसान पीछे नही हटेंगे.

7:57 AM IST | 26 NOV 2020
हरियाणा सीमा पर पंजाब के किसानों का भारी जमावड़ा है, हरियाणा पंजाब बॉर्डर पर आस पास के गांवों से लोग आंदोलनकारियों के लिए दूध और अन्य जरूरी सामान लेकर पहुंच रहे हैं. आस पास के गांव के लोग किसानों की सहायता के लिए आगे आ रहे हैं.

7:58 AM IST | 26 NOV 2020

Farmers Protest: हाई अलर्ट पर दिल्ली पुलिस, कई रास्ते बंद, जानिए- किसानों को रोकने के लिए प्रशासन की क्या तैयारियां हैं
12 कंपनी फ़ोर्स बाहर से बुलाई गई है, जिनमे सीआरपीएफ और आरएएफ के जवान हैं. इतना ही नही करीब 1200 दिल्ली पुलिस कर्मी भी नई दिल्ली डिस्ट्रिक्ट मे तैनात रहेंगे.किसान आंदोलन की वजह से दिल्ली-चंडीगढ़ राजमार्ग बाधित रहेगा. प्रशासन ने रूट डायवर्ट किया है….

7:47 AM IST | 26 NOV 2020
पुलिस ने में रतिया-सरदूलगढ़ रुट पर गांव नागपुर के पास नाका लगाकर रास्ता बंद कर दिया गया है, जबकि टोहाना में भी नाके पर पुलिस तैनात है. सभी क्षेत्रों में 15 ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं और उनके साथ डीएसपी व थाना प्रभारियों को तैनात किया गया है. रतिया क्षेत्र से देहाती मजदूर सभा के राज्य महासचिव तेजिंदर सिंह को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जिससे किसानों की नाराजगी बढ़ गई है. शहर चौकी इंचार्ज कुलदीप ने पुष्टि करते हुए बताया कि शांति भंग होने की आशंका के चलते गिरफ्तार किया गया है.

केंद्र द्वारा हाल में पास किए गए कृषि कानूनों के विरोध में पंजाब और हरियाणा के किसानों का विशाल प्रदर्शन आज दिल्ली में भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई में इन दो राज्यों के किसान सहिl देश भर के किसान दिल्ली में प्रदर्शन करेंगे. दरअसल कृषि कानूनों के प्रावधान के खिलाफ पंजाब के किसान संगठनों ने 26 व 27 नवंबर यानी आज और कल ‘दिल्ली चलो’ की घोषणा की है. इस बीच किसान संगठनों ने आरोप लगाया है कि दिल्ली के लिए रवाना की गई राशन से लदीं 40 ट्रालियों को हरियाणा सरकार ने बार्डर पर रोक लिया है.

पंजाब के किसान के दिल्ली कूच को देखते हुए हरियाणा सरकार अलर्ट हो गई है. सरकार ने पंजाब और दिल्ली से लगती राज्य की सीमा पर पुलिस की सख्ती बढ़ा दी गई है. पंजाब के किसान हरियाणा बॉर्डर पर पहुंचे हैं. किसान कई दिनों का राशन जैसे सब्जियां, वाटर टैंकर , लकड़ियां और साथ ही खाना बनाने वाले कई लोगों को लेकर साथ में आए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *