साहित्य

शब-ए-तन्हाई में क्यूं ऐ दिल तू बहुत घबराता है…प्रीत प्रतिमां…!

Preet Pratima
=========
शब ए तन्हाई में
क्यूं ऐ दिल
तू बहुत घबराता है
उसकी यादों का शोर भी
बहुत हलचल मचाता है,
हमनें तो,
की थी मोहब्बत
कुछ सकूं के लिए
मगर, ये कौन है, जो
दर्द का हुजूम ले आता है,
सोचा किये थे, कि शायद
हमें रस्म ए मोहब्बत का
सलीका नहीं आता
इसलिए शायद बात बात पर
वो मुझे सताता है,
हमनें तो उसे दी थी
पूरी की पूरी
अपने दिल की सल्तनत
अब कौन टुकड़ा टुकड़ा
आसमान चाहता है,
मेरे पास वफा के सिवा
और कुछ भी नहीं था
मगर वो है, कि
पूरा जहान चाहता है,
मुझे तो सिर्फ जुस्तजू थी
उसकी बाहों की
और इक वो है जो,
पूरी कायनात चाहता है,
शब ए तन्हाई में भी
क्यों सकूं नहीं मिलता
ऐ दिल अब तू ही बता,
तू चाहता क्या है ?

Shabb e tanhai mein
Kyun Ay dil
Tu bahut ghabrata hai
Uski yaadon ka shor bhi
Bahut hulchul machaata hai
Humnein toh
Ki thi mohabbat
Kuch sakoon ke liye,
Magar, ye koun hai? Jo
Dard ka huzoom le aata hai,
Socha kiye the
Ki shayaad,
Humein rasmein mohabbat ka
Saleekaa nahin aata,
Isliye shayad baat baat par
Woh mujhe Stataa hai,
Humnein toh use dee thi
Poori ki poori
Apne dil ki saltnat
Ab, koun tukda tukda
Aasmaan chahta hai,
Meire paas wafaa ke siwa
Aur kuch bhi nahin tha,
Magar, woh hai, ki
Poora jahaan chahta hai,
Mujhei toh sirf justzu thi
Uski baahon kee
Ik woh hai jo
Poori kaaynaat chahta hai,
Shabb e tanhayi mein bhi
Kyun sakoon nahin milta,
Ay dil, ab tu hee bataa,
Tu chahtaa kya hai ?
प्रीत प्रतिमां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *