विशेष

ग़रीब के पास धंधा नहीं, रामदेव की पतंजलि को वर्ष 2018-19 के लिए 349.37 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ है!

हरिद्वार स्थित पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड ने बिजनेस इंटेलिजेंस प्लेटफॉर्म टॉफलर के आंकड़ों के अनुसार वित्त वर्ष 2019-20 के लिए शुद्ध लाभ में 21.56 प्रतिशत के साथ 424.72 करोड़ रुपये की वृद्धि दर्ज की है। कंपनी ने कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 349.37 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ। जबकि 31 मार्च, 2020 को समाप्त हुए वित्त वर्ष के लिए परिचालन से कंपनी का राजस्व 5.86 प्रतिशत बढ़कर 9,022.71 करोड़ रुपये था जो कि एक साल पहले 8,522.68 करोड़ रुपये था।

वित्त वर्ष 2019-20 में इसका कुल राजस्व 9,087.91 करोड़ रुपये था, जबकि 31 मार्च, 2019 समाप्त वित्त वर्ष में 8,541.57 करोड़ रुपये था। पतंजलि आयुर्वेद का कुल व्यय 5.34 प्रतिशत बढ़कर 8,521.44 करोड़ रुपये रहा। योग गुरु रामदेव-प्रचारित संगठन के कर से पहले लाभ वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 25.12 प्रतिशत बढ़कर 566.47 करोड़ रुपये हो गया। जबकि आंकड़ों के अनुसार, एक साल पहले की अवधि में यह 452.72 करोड़ रुपये था।

वित्त वर्ष 2018-19 के 18.89 करोड़ रुपये से अन्य आय से इसका राजस्व राजकोषीय समीक्षा के दौरान 65.19 करोड़ रुपये से तीन गुना अधिक था। स्वामी रामदेव ने परिणामों पर टिप्पणी करते हुए बताया कि अंतिम वित्तीय वर्ष हमारे लिए बहुत चुनौतीपूर्ण था, जिसमें हमने रूचि सोया का अधिग्रहण किया था। इन वित्तीय चुनौतियों के बावजूद, हमने निर्बाध रूप से काम किया है। वहीं रामदेव ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में, कंपनी की “अद्वितीय वृद्धि” होगी क्योंकि उपभोक्ताओं को “शुद्धता और विश्वास” के साथ-साथ पतंजलि के उत्पाद पर अधिक भरोसा है। उन्होंने कहा कि हम पिछले वित्त वर्ष की तुलना में इस वित्त वर्ष में अधिक वृद्धि और उच्च कारोबार करेंगे। दिव्य फार्मेसी, इसकी आयुर्वेदिक विनिर्माण इकाई के रूप में कुछ क्षेत्रों में उच्च वृद्धि होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *